Monday, May 17th, 2021 Login Here
कोरोना के गंभीर रोगियों का उपचार सर्वसुविधायुक्त बड़े अस्पतालों में होना जरूरी पुलिस और डाक्टर की पकड़ में कोरोना से सुरक्षित आम आदमी लेकिन लापरवाह लोग बन रहे मुश्किल मंदसौर के मनोज ने कर दिया 200 रूपऐ में आॅक्सी फ्लो मीटर का निर्माण वायरल विडियों ने मंदसौर की दादी को बना दिया स्टाॅर मंदसौर जिला चिकित्सालय में अक्षय तृतीया से सीटी स्कैन मशीन से जांच होना हुई प्रारंभ वित्त मंत्री श्री देवड़ा के निर्देश पर गृह मंत्रालय ने मल्हारगढ़ ब्लॉक कोविड-19 आपदा प्रबंधक मैनेजमेंट कमेटी का गठन कलेक्टर द्वारा किया गया *शामगढ़ में 85 वर्ष के बूढे व्यक्ति का घर से मृत अवस्था मे मिला शव* खुशियों की दास्तां /मल्हारगढ़ कोविड केयर सेंटर से आज 3 व्यक्ति स्वस्थ होकर घर गए प्रशासन ने मीटिंग बुलाकर ईद घर पर ही मनाने हेतु समझाइश दी । अपने अपने मोहल्ले मैं सख्ती से कर्फ्यू का पालन करवाना और दवाई वितरण करवाना हम सबकी जवाबदेही है: श्री पँवार *जिले में रक्त स्त्रोतम संस्थान द्वारा कराया गया पहला प्लाज्मा डोनेशन जनसारंगी --प्रसंगवश./ सर्वसमावेशी समाज के संस्थापक भगवान परशुराम. दो लाख खर्च होने के बाद भी नहीं बनी खाद, पिट बन गऐ डस्टबिन हॉटस्पॉट में बेखौफ चल रहीं सब्जी मंडी, लोगों की जमा हो रहीं भीड़ महामारी से निपटने आर्थिक सहयोग में आगे आ रहे नागरिक
   एएन-32 विमान ने 3 जून को असम के जोरहाट एयरबेस से उड़ान भरी, इसमें क्रू मेंबर समेत 13 यात्री थे
    अरुणाचल की मेनचुका एयर फील्ड से उड़ान भरते वक्त विमान का संपर्क टूटा था, यह इलाका चीन सीमा के पास


नई दिल्ली. भारतीय वायुसेना को मंगलवार को सर्च ऑपरेशन के दौरान अरुणाचल प्रदेश में एएन-32 एयरक्राफ्ट का मलबा नजर आया। वायुसेना के हेलिकॉप्टर एमआई-17 ने टाटो के उत्तरपूर्व इलाके में करीब 12 हजार फीट की ऊंचाई पर इसका मलबा देखा। 3 जून को विमान ने असम के जोरहाट एयरबेस से उड़ान भरी थी। इसमें 13 लोग सवार थे। उड़ान भरने के कुछ समय बाद ही इसका संपर्क टूट गया था।

सैटेलाइट और टोही विमानों से भी की गई तलाश
एएन-32 विमान की तलाश नौसेना के टोही विमान पी-8आई और इसरो के सैटेलाइट के जरिए भी की गई। जंगल काफी घना होने की वजह से पी-8आई एयरक्राफ्ट का इस्तेमाल किया गया। यह विमान इलेक्ट्रो ऑप्टिकल और इन्फ्रारेड सेंसर्स से लैस है। इसमें बेहद शक्तिशाली सिंथेटिक अपर्चर राडार (एसएआर) लगे हैं। पी-8आई विमान अमेरिका की बोइंग कंपनी ने बनाए हैं। यह लंबी दूरी वाला टोही विमान है और अभी नौसेना के पास ऐसे 8 एयरक्राफ्ट हैं।

पायलट आशीष की पत्नी एटीसी में ड्यूटी पर थी

3 जून को असम के जोरहाट एयरबेस से उड़ान भरने के दौरान जब यह विमान लापता हुआ, तब पायलट अशीष तंवर की पत्नी संध्या ही एयर ट्रैफिक कंट्रोल (एटीसी) में ड्यूटी कर रही थीं। विमान से संपर्क टूटने के करीब एक घंटे बाद उन्होंने परिजनों को इस घटना की सूचना दी थी।

1980 में शामिल हुआ था एएन-32 विमान
सोवियत एरा का यह एयरक्राफ्ट 1980 में भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया था। इसे लगातार अपडेट किया गया। हालांकि लापता प्लेन एएन-32 इन अपग्रेडेड एयरक्राफ्ट का हिस्सा नहीं है।

2016 में भी लापता हुआ था विमान
तीन साल पहले 22 जुलाई 2016 को भारतीय वायुसेना का एयरक्राफ्ट एएन-32 लापता हो गया था। इसमें 29 लोग सवार थे। एयरक्राफ्ट चेन्नई से पोर्ट-ब्लेयर की ओर जा रहा था। बंगाल की खाड़ी के बाद इसका संपर्क टूट गया।
Chania