Friday, May 7th, 2021 Login Here
रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित, चार महिने में नहीं बन पाया सवा दो सौ मीटर का नाला दूकान का शटर बंद लेकिन अंदर मिले ग्राहक हर दिन आॅक्सीजन आने का दावा लेकिन खत्म नहीं हो रहीं मारा-मारी *रजिस्ट्री की गाइड लाइन 30 जून तक यथावत* MP में 1 मई से शुरू नहीं होगा वैक्सीनेशन पार्ट-3:2.5 लाख डोज की पहली खेप 3 मई तक मिली तो 18+ लोगों को 5 मई से लगेगा टीका, 19 हजार लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन सोमली नदी को पार कर मंदसौर की तरफ आगे बढा चंबल का पानी
इंदौर। मंदसौर गोलीकांड को लेकर विशेष जांच दल (एसआईटी) गठित होगा या नहीं, गुरुवार को इसे लेकर उच्च न्यायालय में करीब आधा घंटा बहस चली। अदालत ने सभी पक्षों को सुनने के बाद निर्णय सुरक्षित रख लिया। निर्णय आने के बाद ही तय होगा कि गोलीकांड के लिए कौन जिम्मेदार था? इसमें किसी तरह की अनियमितता हुई थी या नहीं। मृतकों के परिजन को मुआवजा देने में क्या सरकार ने नियमों की अनदेखी की थी।

करीब दो साल पहले प्रदेश में किसान आंदोलन के दौरान मंदसौर में पुलिस की गोली से 5 लोगों की मौत हो गई थी। इन सभी के परिजन को तत्कालीन मुख्यमंत्री की घोषणा के बाद एक-एक करोड़ रुपए का मुआवजा मिल चुका है। गोलीकांड को लेकर 6 अलग-अलग याचिकाएं उच्च न्यायालय में हैं।

इनमें तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के उस निर्णय को भी चुनौती दी गई है जिसके आधार पर मृतकों के परिजन को एक-एक करोड़ रुपए का मुआवजा दिया गया। याचिका के कहा गया है कि मुआवजे की घोषणा से पहले यह जानने की कोशिश तक नहीं की गई कि मारे गए लोगों की आंदोलन में भूमिका क्या थी?

वे घटनास्थल पर क्यों गए थे? इन याचिकाओं में से एक याचिका मृतकों के परिजन की तरफ से भी दायर है। इसमें कहा है कि सिर्फ मुआवजा देने से कुछ नहीं होगा। जिम्मेदारों के खिलाफ कार्रवाई भी होनी चाहिए।

याचिकाकर्ता की तरफ से वरिष्ठ अभिभाषक आनंद मोहन माथुर ने पिछली सुनवाई पर आवेदन देकर गुहार लगाई थी कि मामले की दोबारा जांच करवाई जाए और इसके लिए विशेष जांच दल गठित किया जाए।

गुरुवार को न्यायमूर्ति एससी शर्मा और न्यायमूर्ति वीरेंदरसिंह की युगल पीठ में याचिकाओं पर बहस हुई। अभिभाषक माथुर ने एसआईटी के गठन को लेकर न्याय दृष्टांत भी प्रस्तुत किए। दूसरे याचिकाकर्ता की ओर से पैरवी कर रहे अभिभाषक मोहनसिंह चंदेल ने गोलीकांड के लिए जिम्मेदार अधिकारियों पर हत्या का केस दर्ज करने की मांग की।

एक अन्य याचिकाकर्ता की तरफ से अभिभाषक आयुष पांडे ने मांग की कि पूरे मामले में एक बार फिर से जांच करवाई जानी चाहिए। कोर्ट ने सभी पक्षकारों की बहस सुनने के बाद निर्णय सुरक्षित रख लिया।

Chania