Monday, May 17th, 2021 Login Here
कोरोना के गंभीर रोगियों का उपचार सर्वसुविधायुक्त बड़े अस्पतालों में होना जरूरी पुलिस और डाक्टर की पकड़ में कोरोना से सुरक्षित आम आदमी लेकिन लापरवाह लोग बन रहे मुश्किल मंदसौर के मनोज ने कर दिया 200 रूपऐ में आॅक्सी फ्लो मीटर का निर्माण वायरल विडियों ने मंदसौर की दादी को बना दिया स्टाॅर मंदसौर जिला चिकित्सालय में अक्षय तृतीया से सीटी स्कैन मशीन से जांच होना हुई प्रारंभ वित्त मंत्री श्री देवड़ा के निर्देश पर गृह मंत्रालय ने मल्हारगढ़ ब्लॉक कोविड-19 आपदा प्रबंधक मैनेजमेंट कमेटी का गठन कलेक्टर द्वारा किया गया *शामगढ़ में 85 वर्ष के बूढे व्यक्ति का घर से मृत अवस्था मे मिला शव* खुशियों की दास्तां /मल्हारगढ़ कोविड केयर सेंटर से आज 3 व्यक्ति स्वस्थ होकर घर गए प्रशासन ने मीटिंग बुलाकर ईद घर पर ही मनाने हेतु समझाइश दी । अपने अपने मोहल्ले मैं सख्ती से कर्फ्यू का पालन करवाना और दवाई वितरण करवाना हम सबकी जवाबदेही है: श्री पँवार *जिले में रक्त स्त्रोतम संस्थान द्वारा कराया गया पहला प्लाज्मा डोनेशन जनसारंगी --प्रसंगवश./ सर्वसमावेशी समाज के संस्थापक भगवान परशुराम. दो लाख खर्च होने के बाद भी नहीं बनी खाद, पिट बन गऐ डस्टबिन हॉटस्पॉट में बेखौफ चल रहीं सब्जी मंडी, लोगों की जमा हो रहीं भीड़ महामारी से निपटने आर्थिक सहयोग में आगे आ रहे नागरिक

पूरे दिन झमाझम बरसात
मंदसौर निप्र। लगातार बारिश का दौर थम नही रहा सोमवार की रात से चालु हुई भारी बारिश मंगलवार को भी रूक-रूक कर चलती रही, लगातार हुई बारिश के कारण एक बार फिर भगवान पशुपतिनाथ के चार मुखों का शिवना मैय्या के जल ने जलाभिषेक किया । गांधी सागर बांध के भी चार गेट खोले गए। मंदसौर शहर में अब तक करीब 57इंच बारिश हो चुकी है जिसके चलते पुरा जिला पानी से तर-बतर हो गया, कई जगह फसलों की स्थिति भी खराब होने लगी, नदी-नालें उफान पर है ।
प्रदेश के अन्य जिलों के साथ ही मंदसौर में भारी बारिश के अलर्ट के चलते सोमवार रात करीब 9.30 बजे से प्रारंभ हुई भारी बारिश पुरी रात चलती रही, लगातार हुई बारिश के चलते सुबह करीब 10.30 बजे कालाभाटा बांध के सभी गेट खोले गए जिससे पशुपतिनाथ मंदिर के निकट शिवना मैय्या का जल तेजी से बढ़ने लगा और देखते ही देखते शिवना के जल ने भगवान पशुूपतिनाथ मंदिर के गर्भगृह में प्रवेश किया और चारमुखों को जलमग्न कर दिया । भगवान के गर्भगृह में जिस समय शिवना मैय्या ने प्रवेश किया उसी समय भगवान के राजभोग का भी निर्धारित समय था ऐसे में मंदिर के पुजारी ने गर्भगृह में पानी होने के बावजुद भगवान को राजभोग का नैवेद्य लगाया और भोग आरती की हालांकि करीब पौन घंटा गर्भगृह में पानी रहने के बाद तेजी से उतरने लगा और 12.30 बजे तक मंदिर से काफी नीचे तक पानी पहुंच गया था । सुबह शहर में धुप भी निकल आई थी लेकिन दोपहर में एक बार फिर झमाझम बारिश का दौर शुरू हो गया । तेज बारिश के चलते बस स्टेण्ड सहित कई क्षेत्रों में पानी भर गया । मंदसौर के साथ ही आसपास के क्षेत्रों में भी लगातार बारिश हो रही है ऐसे में चम्बल नदी का जल स्तर भी तेजी से बढ़ रहा है । मंगलवार की सुबह करीब 5 बजे पानी की लगातार आवक के चलते गांधी सागर बांध के दो छोटे गेट खोले गए जिससे करीब एक लाख क्यूसेक लीटर पानी छोड़े जाने का अनुमान है ।
सीतामऊ मार्ग अवरूध्द
लगातार बारिश के कारण शिवना नदी में तेजी से बढ़े जलस्तर के कारण मंदसौर-सीतामऊ मार्ग भी अवरूध्द हो गया, यात्री बसों एवं अन्य वाहनों को मेनपुरिया की और से घुमकर सीतामऊ की और जाना पड़ा ।
आवागमन बंद नाहरगढ से बिल्लोद के बीच राहगीर परेशान
नाहरगढ । नाहरगढ   से बिल्लोद के बीच शिवना नदी की छोटी पुलिया पर रविवार व  सोमवार से आवागमन बंद चालू के साथ मंगलवार दिन रात पानी का जलस्तर बढ रहा है । बुधवार को शाम आगे की आवक के आधार पर ही आवागमन चल सकेगा । सीधा सड़क मार्ग बंद से अंचलवासी व क्षेत्रवासी परेशान होते रहे । शासन व प्रशासन की ओर सभी आमजन की निगाहे लगी हुई है ।



Chania