Friday, May 7th, 2021 Login Here
रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित, चार महिने में नहीं बन पाया सवा दो सौ मीटर का नाला दूकान का शटर बंद लेकिन अंदर मिले ग्राहक हर दिन आॅक्सीजन आने का दावा लेकिन खत्म नहीं हो रहीं मारा-मारी *रजिस्ट्री की गाइड लाइन 30 जून तक यथावत* MP में 1 मई से शुरू नहीं होगा वैक्सीनेशन पार्ट-3:2.5 लाख डोज की पहली खेप 3 मई तक मिली तो 18+ लोगों को 5 मई से लगेगा टीका, 19 हजार लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन सोमली नदी को पार कर मंदसौर की तरफ आगे बढा चंबल का पानी

बाढ़ प्रभावितों से मिले पूर्व मुख्यमंत्री श्री चौहान, सरकार से मांगी मदद
मंदसौर निप्र। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने अपने दोरे के दूसरे दिन मंगलवार को मंदसौर विधानसभा क्षेत्र के ग्राम अलावदाखेड़ी, बादरी और अरनिया तथा मंदसौर के सरस्वती नगर, धानमण्डी, सम्राट मार्केट और कालीदास मार्ग पर बाढ़ पिढ़ीतों से मुलाकात की, उनके नुकसान को देखा । इस दौरान ग्रामीण क्षेत्रों में उन्हें बिजली के अधिक बिल आने और ना भरने पर गिरफ्तारी नोटिस आने की शिकायत मिली तो उन्होने बिजली बिलो को इकठ्ठा करवाया और उनकी होली जला दी और साफ कहा कि यह अन्याय मैं नही होने दूंगा । उन्होने स्पष्ट कहा कि बाढ़ पिड़ितों के बिजली बिल माफ होने चाहिये इसके साथ ही जिनके मकान टूटे है उन्हें मकान स्वीकृत किया जाये जब तक मकान न बने अस्थायी शेड बनाया जाये तथा तत्काल 25 हजार रुपये नगद, 5 लीटर केरोसीन और 50 किलो गेहूं दिये जाये ताकि बाढ़ पॢड़ित किसी के भरोसे ना रहे और फिर से अपना जीवन बसर कर सके ।
दोरे में उनके साथ सांसद सुधीर गुप्ता और विधायक यशपालसिंह सिसौदिया भी थे । शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि मैं मुख्यमंत्री नही हूं लेकिन बहनों का भाई हूं, भांजे-भांजियों का मामा हूँ । मेरा पारिवारिक रिश्ता है, अन्याय नही होने दूँगा, मामा अभी जिन्दा है । मंच से ही उन्होने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि 21 सितम्बर तक राहत नही पहूँची तो 21 सितम्बर को कलेक्ट­ेट पर धरना आंदोलन किया जायेगा ।
बिलखती बिटिया को बंधाया ढांढस
पूर्व मुख्यमंत्री श्री चौहान दूसरे दिन अपने दोरे की शुरुआत करते हुए सबसे पहले ग्राम अलावदाखेड़ी पहुॅचे वे बाढ़ से हुई नुकसानी को देख ही रहे थे कि तभी गांव की एक बिटिया आई और उसने 26 हजार रुपये का बिजली बिल दिखाया और अपनी व्यथा को सुनाया और बिलख पड़ी । उसका कहना था कि 26 हजार का बिजली का बिल आया है उसे नही भरने पर तहसीलदार का नोटिस मिला जिसमें उसके भाई को जेल भेजे जाने की धमकी थी ऐसे में उसने कर्जा लिया और बिजली का बिल भरा है । पूरा गांव जानता है कि वह कितनी गरीब है उसके पिता भी नही है, भाई को बचाने की जद्दोजहद में अपनी क्षमता से ज्यादा कर्ज ले लिया और बिजली का बिल भरा है । बिटिया की व्यथा सुन श्री चौहान भी उगल पड़े अौर उन्होने सरकार को चेताते हुए साफ कहा कि यह अन्याय बर्दाश्त नही करुंगा मामा अभी जिन्दा है ।
सांसद, विधायक ने की मदद
बिटिया की व्यथा सुन श्री चौहान के साथ मौजूद सांसद सुधीर गुप्ता और विधायक यशपालसिंह सिसौदिया ने अपनी निधी से 10-10 हजार रुपये देने की घोषणा की ताकि बिटिया कर्जमुक्त हो सके । इस दौरान श्री चौहान ने पूरे गांव के लोगो से आहृवान किया कि उन्हें बढ़े हुए बिजली के बिल भरने की आवश्यकता नही है सरकार यदि कोई कार्यवाही करेगी तो वे पिड़ितो के साथ खड़े है, जनआंदोलन करेंगे ।
मंदसौर में भी व्यापारियों ने घेरा, बताई व्यथा
ग्रामीण क्षेत्रों का दोरा करने के बाद श्री चौहान मंदसौर पहुॅचे  यहां कालीदास मार्ग पर चक्काजाम कर रहे व्यापारियों ने उन्हें रोका और अपनी पिढ़ा को बताया । इसके बाद धानमण्डी क्षेत्र में भी लोगो ने उन्हें घेरा और अपनी व्यथा बताते हुए कहा कि लाखों करोड़ो का नुकसान हो गया मुआवजा तो ठिक सफाई भी नही हो रही है । गिला हुआ सामान और कचरा अब सड़ांध मारने लगा है ऐसे में बिमारियों का खतरा बढ़ रहा है । पुराने लक्कड़पीठा में रहवासियों ने पंप हाऊस नया बनाने की मांग की और कहा कि उनके  बच्चों की रक्षा के लिये पंप हाऊस को नया बनाना जरुरी है ताकि इस क्षेत्र में अब बाढ़ का पानी नही रुके अौर उनका जीवन संकट में आने से बच जाये ।
व्यथित हो गये नुकसानी देख
बाढ़ के बाद क्या गांव-क्या शहर सब तरफ तबाही का मंजर पसरा हुआ था जिसे देख एक बारगी तो श्री चौहान भी व्यथित हो गये । सरस्वती नगर में न केवल लोगो के आशियाने टूट चुके थे बल्कि बच्चों का भविष्य भी पानी में बर्बाद हो गया है । उन्होने अपनी मेहनत को कापियों में उकेरा था लेकिन बाढ़ के कारण उनकी पूरी मेहनत पानी में धूल गई है ।
संवेदनशील है श्री चौहान
विभिन्न ग्रामों में दौरे के दौरान पीड़ितों को संबोधित करते हुए विधायक यशपालसिंह सिसोदिया ने कहा कि संवेदनशील व्यक्ति श्री चौहान है। परिवार में गमी का दुःख आया है बावजूद इसके वेअपने दर्द को छुपाकर जनता की तकलीफ को दूर करने के लिये प्रयत्नशील है। बाढ़ के कारण कई ग्रामोंमें लोगों का सब कुछ तबाह हो गया लेकिन सरकार कहीं भी नहीं दिख रहीं है। ग्रामीणों को मदद की दरकार है, सरकार को तत्काल ग्रामीणों को मदद उपलब्ध करानी चाहिये।
ज्ञ्ापन देकर भाजपा ने की सरकार से मांग
पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने दो दिनो तक अविभाजित जिले के दौरे के बाद सांसद सुधीर गुप्ता,विधायकगण जगदीश देवडा, यशपालसिंह सिसोदिया सहित संसदीय क्षेत्र के समस्त भाजपा विधायकों एवं वरिष्ठ भाजपा नेताओं के साथ प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौपा गया जिसमें की गई मांगे निम्नानुसार है
-बाढ़ पीड़ितों को तत्काल 50 किलो अनाज तथा 25 हजार नगद राशि दी जाए
- मकान ना बनने तक रहने की व्यवस्था की जाये
-प्राथमिकता के आधार पर पक्का आवास बना कर दिया जाये आकलन कर पीड़ितों के  बिजली बिल माफ किए जाएं ।
- बच्चों को पढ़ाई के लिए सामान बुक, पेन, पेंसिल, बैग दिया जाये।
- फसलों को सौ प्रतिशत नुकसानी  प्रत्येक किसान को 40 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर मुआवजा राशि प्रदान की जाए।
     - किसानो को बीमा राशि भी मिले इसके लिए भी उचित प्रबंध किए जाने चाहिए।
-जिन किसानो को पशु धन,ट­ेक्टर अन्य कृषि के सामान और घरो मे पडे हुए कृषि जिन्स नष्ट हो गई है उनका भी आकलन कर उचित मुआवजा दिलवाया जाए।
- किसान के संकट की घंड़ी मे सरकार तत्काल अपने वचन पत्र के अनुसार प्रत्येक किसान के खाते मे 2 लाख रूपये की राशि डाले।
-शहरी एवं नगरीय क्षैत्र मे व्यापारियों के दुकान और गोडाउन मे पानी भरने के कारण लाखो करोडो रूपये की नुकसानी हो गई है उनका भी आकलन कर उचित मुआवजा दिलवाया जाए।

Chania