Saturday, May 8th, 2021 Login Here
भोईवाडा की घटना के बाद मंदसौर में पुलिस का फ्लेग मार्च जावरा विधायक से पंगा और मंदसौर के हिस्सें की आॅक्सीजन रोकना भरी पड़ा कलेक्टर को, विधायक सिसोदिया की सीएम के समक्ष कड़ी आपत्ति के बाद विवाह की खुशी में भूल गए लाॅकडाउन के आदेश/ शादि में मेंहमान बन कर पहुंच गऐ एसडीएम और टीआई बीस दिन लाॅकडाउन के बाद भी कोरोना काबू नहीं हुआ तो अब सीएम के निर्देश के बाद मंदसौर में भी शुरु हुआ सख्ती वाला लॉक डाउन कोरोना के तांडव की हकीकत बयां करती मंदसौर के शमशान की सच्चाई ! कोरोना से जंग में भारतीय जैन संघठना ने नृत्य नाटिका के माध्यम से दिया सकारात्मकता का सन्देश रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित,


अब जबकि चीन के राष्ट­पति पिछले दिनों भारत की धरती पर अगर आए तो इसका श्रेय यकीनन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दिया जाना चाहिए। 57 वर्ष पहले हिन्दी-चीनी भाई-भाई?का नारा 1962 में देकर चीन ने हमसे हमारी जमीन का एक बड़ा हिस्सा छीन लिया था। आज कहा जाने लगा है कि चीनी राष्ट­पति शी जिनपिंग को अगर कोई शीशे में उतार सकता है तो वह प्रधानमंत्री मोदी ही हैं ःयोंकि अभी दो साल पहले ही यही जिनपिंग जो अपनी ऐंठ के लिए मशहूर रहे हैं को मोदी ही अहमदाबाद लाए और फिर मोदी ने उनसे मुलाकातों का दौर ऐसा शुरू किया कि दुनिया आज कहने लगी है कि भारत आज चीन से ज्यादा पावरफुल है।  ममल्लापुरम में शी जिनपिंग से मोदी की महा बैठक इस बात का संकेत है कि आतंक के खात्मे के लिए दोनों देश साथ-साथ हैं। यह चीनी-भारतीय संकल्प आतंकवाद के साथ-साथ पाकिस्तान पर भी प्रहार है। सच बात यह है कि मोदी जी के बारे में भले ही कुछ लोग उनके विदेशी दौरों को लेकर टिप्पणियां करते रहते हैं परंतु हमारा मानना है कि किसी के बारे में भी जुबान खोल देना बड़ा आसान है लेकिन मोदी जी ने इन सबसे ऊपर उठकर किसी की परवाह न करते हुए भारत को दुनिया के नःशे पर उस जगह पहुंचाया जिसका नाम बुलंदी तो है ही लेकिन बड़ी बात यह है कि हर कोई स्वीकार करता है कि मोदी इज ग्रेट।  कल तक भारत ने पाकिस्तान के मामले में उसे दुनिया के सामने बेनकाब किया तो पाकिस्तान को शह देने वाला कोई देश था तो वह चीन था। लेकिन भारत ने पाकिस्तान के पैरोकार ड­ेगन को खुला छोड़े रखा और पाकिस्तान को इस कदर अधमरा कर दिया कि खुद चीन हैरान रह गया। अरुणाचल में बगैर मतलब के भारतीय फौज के खिलाफ ऐंठ दिखाने वाले ड­ेगन को मोदी जी ने अपनी फौज को फ्री हैंड देकर ऐसा सबक सिखाया कि अब डोकलाम में चीन हमेशा दो कदम पीछे ही रहता है। मोदी जी समझते हैं कि आर्थिक मामलों में अगर एशियाई महाद्वीप में भारत और चीन दोनों की उसके माल को लेकर धाक है तो क्यों न मिलजुल कर चला जाए।  आज हमारे यहां चीनी माल बिकता है तो वहीं हमारा माल भी चीन में बहुत बिकता है। साथ ही भारत ने क्वालिटी को लेकर कोरियाई देश और जापान को भी अपने यहां उनके इलैक्ट­ोनिक गुड के लिए तवज्जो दी। शी जिनपिंग को महाबलीपुरम में बातचीत का मौका देकर मोदी ने एक राजनीतिक कार्ड भी खेला है। जिस भाजपा को एक हिंदी पार्टी या उत्तर भारत से जोड़कर देखने वाले विश्लेषकों के दिमाग की नसें खोलते हुए मोदी जी ने तमिलनाडु में भी पार्टी? को इस मंच से एक बड़ी सफलता दिलाने की ठान ली है। हो सकता है आने वाले विधानसभा चुनावों में वहां पार्टी ऐसा करिश्मा कर जाए जिसकी किसी ने कल्पना न की हो।  मोदी है तो मुमकिन है यह बात अब शी जिनपिंग को समझ आ गई है इसीलिए पाकिस्तान के साथ कश्मीर मामले पर और 370 के खात्मे को लेकर चीन के तेवर ढीले हैं। मोदी और जिनपिंग के संबंध दो देशों के रिश्ते हैं जिन्हें दुनिया कूटनीतिक चश्मे से देख रही है। यह बात स्पष्ट हो चुकी है कि आतंक के मामले पर चीन अगर कल तक पाकिस्तान को प्रमोट करता था तो उसे भी आतंक के खिलाफ मोदी जी के दुनिया को एकजुट होने के आह्वान के समक्ष सरेंडर करना पड़ा ःयोंकि मोदी ने नापाक आतंकियों को ग्लोबल टेरेरिस्ट घोषित करवाकर ही दम लिया। चीन और भारत के बीच व्यापार भी बड़ी चीज है मोदी जी इसे समझते हैं लेकिन यह भी सच है कि आपसी संबंधों की मजबूती ही व्यापार क्षेत्र में सफलता की गारंटी होती है।  इसके बावजूद दलाईलामा को जिस तरह से भारत में शरण मिली हुई?है और सारा मामला चीन को कठघरे में खड़ा करता है परंतु यह सच है फिर भी चीन को सारे मामले पर मनमर्जी?की इजाजत मोदी सरकार ने कभी नहीं दी। हां कम्युनिस्ट विचारधारा चीन का अपना मामला है लेकिन उसकी मानसिकता भी अपनी किस्म की है परंतु फिर?भी हम यही कहना चाहेंगे कि हमें 1962 का वह धोखा याद रखना चाहिए जब चीन ने हमारी 40 हजार वर्ग किमी. से ज्यादा जमीन कब्जा ली थी। आज भारत यकीनन अलर्ट है क्योंकि इस ड­ेगन से जितना संभलकर रहो उतना ही अच्छा है।  हिंद महासागर से दक्षिणी चीन महासागर में चीन के जंगी बेड़े तैनात हैं और वह पाकिस्तान का समर्थन करते ही रहते हैं लेकिन मोदी जी ने सब कुछ कूटनीतिक तरीके से सैट कर रखा है लेकिन अंतर्राष्ट­ीय स्तर पर विश्लेषक जब यह कहते हैं कि चीन से सावधान और उस पर भरोसा इतनी जल्दी न किया जाए तो यह बात भी नजरअंदाज नहीं की जा सकती।
Chania