Monday, May 10th, 2021 Login Here
निजी क्लिनिक को दोबारा सील करने के विरोध में उतरे नागरिक आपदा में सहारा बन रहे मंदसौर के सेवाभावी व्यक्तित्व जनसारंगी ने किया था आगाह, पुलिस कार्रवाहीं ने लगाई खबर पर मोहर/ अस्पताल से सांसे चुराकर कालाबाजारी में बेच रहे युवक पर रासुका महामृत्युंजय जाप के सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे ओर कोरोना महामारी होगी खत्म आपदा में अंतिम सफर के संस्कार का इंतजाम करने आगे आऐ भामाशाह कोरोना का कहर/ आठ दिन में शहर से ढाई गुना मौते ग्रामीण अंचल में हुई ! कोरोना का कहर/ आठ दिन में शहर से ढाई गुना मौते ग्रामीण अंचल में हुई ! भोईवाडा की घटना के बाद मंदसौर में पुलिस का फ्लेग मार्च जावरा विधायक से पंगा और मंदसौर के हिस्सें की आॅक्सीजन रोकना भरी पड़ा कलेक्टर को, विधायक सिसोदिया की सीएम के समक्ष कड़ी आपत्ति के बाद विवाह की खुशी में भूल गए लाॅकडाउन के आदेश/ शादि में मेंहमान बन कर पहुंच गऐ एसडीएम और टीआई बीस दिन लाॅकडाउन के बाद भी कोरोना काबू नहीं हुआ तो अब सीएम के निर्देश के बाद मंदसौर में भी शुरु हुआ सख्ती वाला लॉक डाउन कोरोना के तांडव की हकीकत बयां करती मंदसौर के शमशान की सच्चाई ! कोरोना से जंग में भारतीय जैन संघठना ने नृत्य नाटिका के माध्यम से दिया सकारात्मकता का सन्देश रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर

मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव कार्यालय ने चर्चा के बिंदु तय करने की तैयारी शुरू कर दी है।
भोपाल। नए साल की शुरुआत में मुख्यमंत्री कमलनाथ अधिकारियों से रूबरू होंगे। तीन दिसंबर को मंत्रालय में शाम छह बजे से अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव, सचिव और विभागाध्यक्षों की बैठक बुलाई गई है। इस दौरान वे सालभर में किए जाने वाले कामों को लेकर सरकार की अपेक्षाएं और रोडमैप सामने रखेंगे। वहीं, अधिकारियों के साथ वन-टू-वन मुलाकात भी करेंगे।
सूत्रों के मुताबिक मुख्यमंत्री कमलनाथ दो या तीन दिसंबर को भोपाल लौटेंगे। नए साल में कामकाज की शुरुआत वे मंत्रालय में अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे। इसके लिए मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव कार्यालय ने चर्चा के बिंदु तय करने की तैयारी शुरू कर दी है।
बताया जा रहा है कि वर्ष 2020 में सरकार की जो प्राथमिकताएं रहेंगी, उनको लेकर बैठक में चर्चा की जाएगी। वहीं, वर्ष 2019 में हुए काम और जो कमियां सामने आईं हैं, उन्हें भी रखा जाएगा। सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती वित्तीय प्रबंधन की रहने वाली है।
इसको लेकर सभी विभागों को आय के स्रोत बढ़ाने और मितव्ययिता के टिप्स दिए जा सकते हैं। मुख्यमंत्री कार्यालय के अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री से तीन दिसंबर को जो भी अधिकारी मिलकर अपनी बात रखना चाहता है, इसके लिए वे वन-टू-वन मुलाकात भी करेंगे।
चार जनवरी को होगी कैबिनेट
सूत्रों के मुताबिक नए साल में कमलनाथ कैबिनेट की पहली बैठक चार जनवरी को मंत्रालय में होगी। इसमें उद्योगों को समयबद्ध स्वीकृति से जुड़े कानून का मसौदा मंजूरी के लिए रखा जा सकता है। उद्योग विभाग की तैयारी इसे अध्यादेश के जरिए लागू करने की है।

Chania