Monday, May 17th, 2021 Login Here
कोरोना के गंभीर रोगियों का उपचार सर्वसुविधायुक्त बड़े अस्पतालों में होना जरूरी पुलिस और डाक्टर की पकड़ में कोरोना से सुरक्षित आम आदमी लेकिन लापरवाह लोग बन रहे मुश्किल मंदसौर के मनोज ने कर दिया 200 रूपऐ में आॅक्सी फ्लो मीटर का निर्माण वायरल विडियों ने मंदसौर की दादी को बना दिया स्टाॅर मंदसौर जिला चिकित्सालय में अक्षय तृतीया से सीटी स्कैन मशीन से जांच होना हुई प्रारंभ वित्त मंत्री श्री देवड़ा के निर्देश पर गृह मंत्रालय ने मल्हारगढ़ ब्लॉक कोविड-19 आपदा प्रबंधक मैनेजमेंट कमेटी का गठन कलेक्टर द्वारा किया गया *शामगढ़ में 85 वर्ष के बूढे व्यक्ति का घर से मृत अवस्था मे मिला शव* खुशियों की दास्तां /मल्हारगढ़ कोविड केयर सेंटर से आज 3 व्यक्ति स्वस्थ होकर घर गए प्रशासन ने मीटिंग बुलाकर ईद घर पर ही मनाने हेतु समझाइश दी । अपने अपने मोहल्ले मैं सख्ती से कर्फ्यू का पालन करवाना और दवाई वितरण करवाना हम सबकी जवाबदेही है: श्री पँवार *जिले में रक्त स्त्रोतम संस्थान द्वारा कराया गया पहला प्लाज्मा डोनेशन जनसारंगी --प्रसंगवश./ सर्वसमावेशी समाज के संस्थापक भगवान परशुराम. दो लाख खर्च होने के बाद भी नहीं बनी खाद, पिट बन गऐ डस्टबिन हॉटस्पॉट में बेखौफ चल रहीं सब्जी मंडी, लोगों की जमा हो रहीं भीड़ महामारी से निपटने आर्थिक सहयोग में आगे आ रहे नागरिक
67 एखड़ की अधिगृहित भूमि श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र को दी जाएगी। अयोध्या में सुन्नी वक्फ बोर्ड को 5 एकड़ जमीन दी जाएगी।
Ram Mandir Trust: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर बड़ा ऐलान किया। पीएम मोदी ने लोकसभा में कहा कि बुधवार को हुई केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में Ram Mandir Trust के गठन का निर्णय लिया गया है। मेरी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुसार एक बड़ी योजना तैयार की है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार Ram Mandir Trust का गठन किया गया है जिसका नाम श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र रखा गया है। यह ट्रस्ट अयोध्या में भव्य और दिव्य राम मंदिर निर्माण से जुड़े फैसले लेने के लिए स्वतंत्र होगा। पीएम मोदी के इस ऐलान के बाद केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने बताया कि ट्रस्ट में कुल 15 सदस्य होंगे, जिनमें एक दलित होगा। 
साथ ही पीएम ने बताया कि अयोध्या में 5 एकड़ जमीन मस्जिद निर्माण के लिए देने के लिए भी राज्य सरकार ने सहमति दे दी है। पीएम ने जैसे ही यह ऐलान किया संसद भवन जयश्री राम के नारों से गूंज उठा। ट्रस्ट में कुल 15 सदस्य होंगे, जिनमें 1 दलित होगा। 
पीएम ने बताया कि 9 नवंबर को जिस दिन सुप्रीम कोर्ट ने यह ऐतिहासिक फैसला सुनाया, तब मैं करतापुर में था। 9 नवंबर, 2019 में मैं करतारपुर के लोकार्पण के लिए करतारपुर में था, गुरुनानक देवजी का 550वां प्रकाश पर्व था और बहुत ही पवित्र वातावरण था। मैंने लौटकर पूरा फैसला जाना और देखा कि किस तरह पूरे देश ने इस फैसले के स्वागत किया है।
पढ़िए पीएम मोदी का पूरा बयान
'करोड़ों देशवासियों की तरह ही मेरे हृदय के करीब है इस विषय पर बात करना मैं अपना सौभाग्य समझता हूं। ये विषय श्रीराम जन्म भूमि से जुड़ा हुआ है। ये विषय है अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर से जुड़ा हुआ है। अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर के निर्माण, वर्तमान और भविष्य में रामलला के दर्शन करने आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या और उनकी भावनाओं को ध्यान में रखते हुए सरकार द्वारा एक और महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया है।'
'9 नवंबर को राम जन्मभूमि पर फैसला आने के बाद सभी देशवासियों ने अपनी लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं पर विश्वास जताते हुए बहुत परिपक्वता का उदाहरण दिया था। मैं आज सदन में देशवासियों के परिपक्व व्यवहार की प्रशंसा करता हूं।'
'हमारी संस्कृति, परंपराएं, हमें वसुधैव कुटुंबकम और सर्वे भवन्तु सुखिनः का दर्शन देती हैं और इसी भावना के साथ आगे बढ़ने की प्रेरणा भी देती हैं। मेरी सरकार ने अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर के निर्माण के लिए और इससे संबंधित अन्य विषयों के लिए एक वृहद योजना तैयार की है।
'सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के अनुसार एक स्वायत्त ट्रस्ट 'श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र' का गठन करने का प्रस्ताव पारित किया गया है। ये ट्रस्ट अयोध्या में भगवान श्रीराम की जन्मस्थली पर भव्य और दिव्य श्रीराम मंदिर के निर्माण और उससे जुड़े विषयों पर निर्णय लेने के लिए पूर्ण रूप से स्वतंत्र होगा।'
'हिंदुस्तान में हर पंथ के लोग एक बृहद परिवार के सदस्य हैं। इस परिवार के हर सदस्य का विकास हो, वो सुखी, स्वस्थ रहे, समृद्ध रहे, देश का विकास हो, इसी भावना के साथ मेरी सरकार सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास के सिद्धांत पर चल रही है।'
'आइए, इस ऐतिहासिक क्षण में हम सभी सदस्य मिलकर अयोध्या में श्रीराम धाम के जीर्णोद्धार के लिए, भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए, एक स्वर में अपना समर्थन दें।'

Chania