Saturday, May 8th, 2021 Login Here
भोईवाडा की घटना के बाद मंदसौर में पुलिस का फ्लेग मार्च जावरा विधायक से पंगा और मंदसौर के हिस्सें की आॅक्सीजन रोकना भरी पड़ा कलेक्टर को, विधायक सिसोदिया की सीएम के समक्ष कड़ी आपत्ति के बाद विवाह की खुशी में भूल गए लाॅकडाउन के आदेश/ शादि में मेंहमान बन कर पहुंच गऐ एसडीएम और टीआई बीस दिन लाॅकडाउन के बाद भी कोरोना काबू नहीं हुआ तो अब सीएम के निर्देश के बाद मंदसौर में भी शुरु हुआ सख्ती वाला लॉक डाउन कोरोना के तांडव की हकीकत बयां करती मंदसौर के शमशान की सच्चाई ! कोरोना से जंग में भारतीय जैन संघठना ने नृत्य नाटिका के माध्यम से दिया सकारात्मकता का सन्देश रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित,

 घर की छत, बालकनी और दरवाजे पर खड़े होकर की ध्वनि
 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आह्वान और पूरे राष्ट्र के साथ ही मंदसौर जिले की जनता भी अपने घर की छतों, बालकनी और दरवाजों पर खड़े होकर एक साथ करतल ध्वनि के साथ कोरोना के योद्धाओं को सलामी दी।
 पूरे शहर में 5 बजते ही एक जुनून सा छा गया। हर तरफ कहीं पटाके, कही थाली तो कहीं घंटे- घड़ियाल की आवाजें गूंज रही थी। हर शहरवासी अपने घर की छत पर खड़ा था, कोई घर की बालकनी पर खड़ा था, कोई घर के दरवाजे पर खड़ा होकर कोरोना के योद्धाओं को सलामी दे रहा था और साथ में दे रहा था एक संदेश कि किसी भी आपदा से लड़ने के लिए पूरा राष्ट्र एकजुट है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक दिन के जनता कर्फ्यू के साथ ही पूरे देशवासियों से आह्वान किया था कोरोना से लड़ने के लिए अपनी जान की परवाह किए बिना चिकित्सा कर्मी, पुलिस कर्मी, सफाई कर्मी और मीडिया कर्मी निरंतर काम कर रहे हैं। देश की जनता 22 मार्च को शाम 5 बजे 5 मिनट के लिए अपने घर की छत पर बालकनी में या फिर दरवाजे के बाहर खड़े होकर करतल ध्वनि करें और इन योद्धाओं का आभार व्यक्त करें ।इस आह्वान के चलते मंदसौर शहर और पूरे जिले भर में नागरिकों ने पूरे उत्साह के साथ कोरोना के योद्धाओं का आभार व्यक्त किया।

वैज्ञानिक और आध्यात्मिक कारण भी था प्रधानमंत्री की अपील के पीछे

कहा जा रहा है प्रधानमंत्री की अपील के पीछे वैज्ञानिक और आध्यात्मिक कारण भी था। कहा जाता है काँसा धातु व पीतल धातु से उत्पन्न ध्वनि सूक्ष्म ध्वनि तरंगे इलेक्ट्रो मैग्नेटिक ऊर्जा पैदा करती हैं जिनका मान गीगा हर्ट्ज GHZ व टेरा हर्ट्ज THZ तक पहुँचता है,जब हम किसी काँसे के बर्तन को निर्धारित चोट से कम व ज्यादा जोर से बजाते हैं तो ध्वनि तरंगे कम से अधिकतम मोड में प्रवेश करती हैं, जो एक EM या इलेक्ट्रो मेगेनेटिक ऊर्जा क्षेत्र पैदा करती हैं, जिस क्षेत्र के सम्पर्क में आने से वायरस या विषाणु कंपन महसूस करता है, कोरोना वायरस की बाहरी मेम्ब्रेन बहुत ही कमजोर है जिससे इसे द्विपक्षीय ध्रुवीय क्षेत्र यानी dipole में आते ही वायरस का न्यूक्लियस टूटने लगता है तथा ये निष्क्रियता की तरफ बढ़ जाती है।
माइक्रोवेव थ्रेशहोल्ड एनर्जी कंपन जो काँसे के बर्तन को कम से तीव्रता की तरफ बजाते हुए पैदा की जाती है, इसी प्रकार शंख ध्वनि भी तीव्र थ्रेशहोल्ड पर बजा कर उच्च माइक्रोवेव तरंगे पैदा करती हैं जो कंपन करके वायरस के आउटर सेल यानी बाहरी कवर को माइक्रोवेव इलेक्ट्रो मेगनेटिक किरणों से थरथराहट से तोड़ देती है। इसलिये प्रधानमंत्री का यह आव्हान कोरोना से लड़ने में महत्त्वपूर्ण साबित हो सकता हैं।
Chania