Friday, May 7th, 2021 Login Here
रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित, चार महिने में नहीं बन पाया सवा दो सौ मीटर का नाला दूकान का शटर बंद लेकिन अंदर मिले ग्राहक हर दिन आॅक्सीजन आने का दावा लेकिन खत्म नहीं हो रहीं मारा-मारी *रजिस्ट्री की गाइड लाइन 30 जून तक यथावत* MP में 1 मई से शुरू नहीं होगा वैक्सीनेशन पार्ट-3:2.5 लाख डोज की पहली खेप 3 मई तक मिली तो 18+ लोगों को 5 मई से लगेगा टीका, 19 हजार लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन सोमली नदी को पार कर मंदसौर की तरफ आगे बढा चंबल का पानी

    भीलवाड़ा में कुल संक्रमित लोगों की संख्या 24 पहुंच गई, वहीं दो की हो चुकी मौत
    सीमाएं सील हैं, बावजूद खौफ के कारण यहां के लोग भागकर दूसरे जिलों में जा चुके हैं
भीलवाड़ा. शनिवार को यहां कॉरोना पॉजिटिव तीन नए केस सामने आए हैं। तीनों बांगड़ अस्पताल के कर्मचारी हैं। इनमें एक 21 साल की युवती, 22 और 27 साल के युवक हैं। भीलवाड़ा में कुल संक्रमित लोगों की संख्या 24 पहुंच गई है। शनिवार को एक मामला अजमेर में भी सामने आया है। भीलवाड़ा में अब कम्यूनिटी इंफेक्शन यानी स्थानीय लोगों को एक-दूसरे से संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ गया है। भीलवाड़ा में कोरोना संक्रमण तीसरी स्टेज में पहुंच गया है। भीलवाड़ा में गुरुवार को संक्रमित बुजुर्गों की मौत हो चुकी है।
शहर छोड़कर दूसरे जिलों में भाग गए लोग
भीलवाड़ा में संक्रमण का पहला केस बांगड़ अस्पताल के एक डॉक्टर में आया था। डॉक्टर अपने सऊदी से आए दोस्तों से मुलाकात के दौरान संक्रमित हुआ था। डॉक्टर को संक्रमण का पता नहीं था और वह लगातार हॉस्पिटल में आकर मरीजों को देखता और इलाज करता रहा। यहां संक्रमण के जो 24 केस आए हैं, वह सभी हॉस्पिटल से जुड़े हुए हैं यानी हॉस्पिटल के कर्मचारी हैं या फिर मरीज और उनके परिजन संक्रमित मिले हैं। संक्रमण का मामला सामने आने के बाद सरकार ने भीलवाड़ा की सीमाएं सील कर दी। इसके बावजूद कोरोना के खौफ के कारण बड़ी संख्या में यहां के लोग भागकर दूसरे जिलों में जा चुके हैं, उनसे भी कम्यूनिटी इंफेक्शन का खतरा है।  
कोरोना के डर के कारण रात को सो भी नहीं पा रहे लोग
भीलवाड़ा कोरोना संक्रमण के लिहाज से देश का सबसे संवेदनशील जिला हो गया है। यहां जिन दो बुजुर्गों की मौत हुई है उस इलाके के लोग डरे हुए हैं। वह रात को सो नहीं पा रहे हैं। कारण यह है कि जब बुजुर्ग बीमार थे, तब उनका हाल-चाल लेने के लिए आसपास के लोग उनके घर गए थे। बाद में उनके कोरोना पॉजिटिव होने का पता चला। अब दोनों मृतकों के दो-दो परिजनों की कोरोना रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। इलाके के लोग अपने बच्चों को लेकर बहुत सहमे हुए हैं। उनको कोरोना संक्रमण फैलने का डर सता रहा है। इसलिए पुलिस ने दोनों एरिया को पूरी तरह सील कर दिया है।
1950 लोगों की टीम ग्रामीण और 332  की टीम शहरी क्षेत्रों में कर रही स्क्रीनिंग
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने बताया कि भीलवाड़ा में 24 लाख लोगों की स्क्रीनिंग का काम वहां चिकित्सा विभाग की टीम कर रही है। 1950 लोगों की टीम ग्रामीण क्षेत्रों में और 332 लोगों की टीम शहरी क्षेत्रों में काम कर रही है। शहर में तो 20 लोग ऐसे हैं, जिनकी दो-दो बार स्क्रीनिंग हुई है। कह सकते हैं कि हालात काबू में है। भीलवाड़ा की सीमाएं सील की हुई है।
सिटी के 77 हजार घरों का तीसरी बार सर्वे करना पड़ रहा, 133 विदेश से आए लोग हाई रिस्क पर
भीलवाड़ा में 11 हजार लोग संदिग्ध हैं, जिनमें से 6445 को होम आइसोलेशन में रखा गया है। उन पर अब पहरा बैठाया गया है। इस पूरे जिले के कम्यूनिटी इंफेक्शन की जड़ भीलवाड़ा का बांगड़ हॉस्पिटल है। यहां का संक्रमित डॉक्टर करीब सात हजार लोगों के संपर्क में आया। यह कुल 86 बेड का अस्पताल है। संक्रमित डॉक्टर से दूसरे डॉक्टर, कर्मचारी, मरीज और परिजनों तक संक्रमण का फैलता गया। हालात ऐसे बन गए कि शहर के 77 हजार घरों का तीसरी बार सर्वे करना पड़ रहा है। 650 को आइसोलेशन में लेकर सैंपलिंग की जा रही। 149 मरीज हाई रिस्क पर है। इसमें से 133 विदेश से लौटे हैं।
पूरे शहरी क्षेत्र को किया जा रहा सैनिटाइज
भीलवाड़ा नगर परिषद की ओर से सोडियम हाईपोक्लोराइड का छिड़काव शहर में किया जा रहा है। इसके साथ कोरोना पॉजीटिव की मौत होने को लेकर एमजी अस्पताल, उसके मकान और आसपास क्षेत्र को फिर से सैनिटाइज करने के लिए छिड़काव किया गया। सभापति मंजू चेचाणी ने बताया कि शहर में जहां भी कोरोना पॉजीटिव मिले हैं उन कॉलोनियों में सुबह-शाम स्प्रे किया जाएगा।
Chania