Monday, May 17th, 2021 Login Here
कोरोना के गंभीर रोगियों का उपचार सर्वसुविधायुक्त बड़े अस्पतालों में होना जरूरी पुलिस और डाक्टर की पकड़ में कोरोना से सुरक्षित आम आदमी लेकिन लापरवाह लोग बन रहे मुश्किल मंदसौर के मनोज ने कर दिया 200 रूपऐ में आॅक्सी फ्लो मीटर का निर्माण वायरल विडियों ने मंदसौर की दादी को बना दिया स्टाॅर मंदसौर जिला चिकित्सालय में अक्षय तृतीया से सीटी स्कैन मशीन से जांच होना हुई प्रारंभ वित्त मंत्री श्री देवड़ा के निर्देश पर गृह मंत्रालय ने मल्हारगढ़ ब्लॉक कोविड-19 आपदा प्रबंधक मैनेजमेंट कमेटी का गठन कलेक्टर द्वारा किया गया *शामगढ़ में 85 वर्ष के बूढे व्यक्ति का घर से मृत अवस्था मे मिला शव* खुशियों की दास्तां /मल्हारगढ़ कोविड केयर सेंटर से आज 3 व्यक्ति स्वस्थ होकर घर गए प्रशासन ने मीटिंग बुलाकर ईद घर पर ही मनाने हेतु समझाइश दी । अपने अपने मोहल्ले मैं सख्ती से कर्फ्यू का पालन करवाना और दवाई वितरण करवाना हम सबकी जवाबदेही है: श्री पँवार *जिले में रक्त स्त्रोतम संस्थान द्वारा कराया गया पहला प्लाज्मा डोनेशन जनसारंगी --प्रसंगवश./ सर्वसमावेशी समाज के संस्थापक भगवान परशुराम. दो लाख खर्च होने के बाद भी नहीं बनी खाद, पिट बन गऐ डस्टबिन हॉटस्पॉट में बेखौफ चल रहीं सब्जी मंडी, लोगों की जमा हो रहीं भीड़ महामारी से निपटने आर्थिक सहयोग में आगे आ रहे नागरिक

बेटे ने सोशल मीडिया पर व्यक्त की पीड़ा, उठाई सीबीआई जांच की मांग


: मंदसौर जनसारंगी।

बिते दिनों हुई फिल्म अभिनेता सुशांतसिंह राजपूत की मौत के मामलें की सीबीआई जांच के आदेश के बाद एक बार फिर मंदसौर में डेढ़ बरस पहले भाजपा के कद्दावर नेता और नगर पालिका के तत्कालिक अध्यक्ष प्रहलाद बंधवार हत्याकांड  की चर्चाए शुरू हो गई है।स्व. बंधवार मंदसौर की जनता के दिल में रचे-बसे थे यहीं कारण था कि उनकी अत्येष्ठी में पूरे शहर की हजारों की तादात में जनता उमड़ पड़ी थी। राज्य सरकार में 15 बरस तक मुख्यमंत्री रहे शिवराजसिंह चौहान खुद मंदसौर पहुंचे थे, गमगीन परिवार को ढांढस बंधाया था और राज्य की कांग्रेस सरकार से उच्च स्तरीय जांच की मांग की थी। इस घटना के बाद सरकार ने एसआईटी का गठन किया, मुख्य आरोपी के रूप में गोली चलाने वाले मनीष बैरागी और हथियार देने वाले उसके सहयोगियों को पुलिस ने पकड़ा। एसआईटी ने शहर के कुछ रसूखदारों से भी इस मामलें में पूछताछ की लेकिन मनीष बैरागी ने जो कहानी बताई उस पर शहर की आम अवाम तक को भरोसा नहीं था, लेकिन पुलिस ने उस पर भरोसा किया, परन्तु बंधवार की हत्या किसके ईशारे पर हुई, क्यों की गई इसका जवाब आज तक नहीं मिल पाया है। अब जबकी सुशांतसिंह की मौत की सीबीआई जांच के आदेश हुए तो स्व. बंधवार के पुत्र का दर्द सौश्यल मिडिया पर झलका और उसने सिस्टम पर तंज भी कसा..!  इस विश्वास से कि अब प्रदेश में फिर से भाजपा की सरकार है, शायद स्व. बंधवार को न्याय मिल जाये..।

प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनते ही मंदसौर शहर के सबसे व्यस्ततम माने जाने वाले  चौराहे पर भाजपा के कद्दावर नेता और नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष प्रहलाद बंधवार की 17 जनवरी 2019 की शाम को  हत्या कर दी गई थी, हत्याकांड के मामलें में मुख्य आरोपी मनीष बैरागी व पिस्टल देने वाले उसके सहयोगियों को पुलिस ने पकड़ा लेकिन पर्दे के पीछे कौन थे, किसके ईशारे पर और क्योंघटना को अंजाम दिया गया, यह वास्तविक कहानी अब तक सामने नहीं आ पाई है और जो कहानी आरोपी मनीष बैरागी ने बताई है वह आम आदमी तक के गले नहीं उतर रहीं है फिर पुलिस ने कैसे उसे सच मान लिया, यह सवाल अभी भी खडा है?यूं तो हत्याकांड के बाद पुलिस ने शहर के कई रसूखदारों से पूछताछ की लेकिन जैसे-जैसे समय की सुई  आगे बढ़ती गई सबकुछ ठंडा पड़ता गया और अब तक हत्याकांड की वास्तविक कहानी सामने नहीं आई है। सनसनीखेज हत्याकांड के बाद गमगीन परिवार को सात्वना देने के लिये पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान मंदसौर पहुंचे थे, उन्होंने राज्य सरकार से उच्च स्तरीय जांच की मांग रखी थी।जिसके बाद सरकार ने एसआईटी का गठन किया था लेकिन बाद में एसआईटी जांच में भी कोई परिणाम सामने नहीं आऐ।पुलिस ने मनीष बैरागी की कहानी को ही सहीं मान लिया और जांच ठंडे बस्ते में चली गई ।

 इस घटना के करीब डेढ़ साल बाद एक बार फिर से भाजपा की सरकार है और मुख्यमंत्री के रूप में शिवराजसिंह चौहान काबिज है लेकिन सरकार बने 5 महिने होने वाले है लेकिन अपनी ही पार्टी  के कद्दावर नेता को न्याय दिलाने के लिये प्रदेश सरकार ने अब तक कोई फैसला नहीं लिया है और ना ही मंदसौर में बंधवार को न्याय दिलाने के लिये कोई आगे आया है। हालांकि हत्याकांड के बाद बंधवार के सुपुत्र ने धरना आंदोलन शुरू किया था, उम्मीद थी कि उसके पिता की अन्त्येष्टी में जो हजारों लोगों का हूजुम उमड़ा था उसमें से चंद लोग तो उसके साथ आऐगें और लेकिन जनता भी भूल गई, स्व.बंधवार की पार्टी ने भी इसमें दिलचस्पी नहीं दिखाई और बात ठंडे बस्ते में चली गई। स्व. बंधवार का सुपुत्र और परिवार भी कभी इतना सक्रिय नहीं रहा कि वह इसे जनआंदोलन बनाकर स्व. बंधवार को न्याय दिलवा पाते लेकिन बिते दिनों फिल्म अभिनेता सुशांतसिंह की मौत को लेकर पूरे देश भर में चर्चा चली, इस बीच सुशांतसिंह की मौत के मामलें में सर्वोच्च न्यायालय ने सीबीआई जांच के आदेश जारी कर दिए। इसी बहाने स्व. बंधवार के पुत्र नरेन्द्र बंधवार का दर्द एक बार फिर से झलका है उसकी सौश्यल मिडिया पर भावुक पोस्ट पूरे दिन चर्चा का विषय बनी रहीं। नरेन्द्र ने सिस्टम पर तंज कसते हुए लिखा- सुशांत ने इस देश के लिए बहुत कुछ किया इसलिए सीबीआई जांच होगी और मेरे पिताजी ने इस शहर के लिये कुछ नहीं किया इसलिये सीबीआई जांच नहीं होगीं।

स्व. बंधवार की यह भावुक पोस्ट और सिस्टम पर किया गया तंज शायद सरकार को जगा पाऐ ओर स्व. बंधवार को न्याय दिलवा पाऐ क्योंकि अभी प्रदेश में स्व. बंधवार की पार्टी भाजपा की ही सरकार है,ऐसे में शायद अब प्रदेश सरकार इस मामलें में कोई निर्णय ले और मामलें की उच्च स्तरीय जांच कराकर स्व. बंधवार को न्याय दिलवा सके। क्योंकि यह कोई भी मानने के लिये तैयार नहीं है कि स्व. बंधवार की हत्या केवल 25 हजार रूपऐ के लिये की जा सकती है,माना जाता था कि श्री बंधवार कई लोगों की आर्थिक से लेकर हर तरह की मदद करते थे ऐसे में महज इतनी छोटी राशि के लिये कोई उनकी हत्या कर दे यह नामुमकिन लगता है लेकिन सच तो उच्चस्तरीय जांच के बाद ही सामने आ सकता है।


Chania