Friday, May 7th, 2021 Login Here
रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित, चार महिने में नहीं बन पाया सवा दो सौ मीटर का नाला दूकान का शटर बंद लेकिन अंदर मिले ग्राहक हर दिन आॅक्सीजन आने का दावा लेकिन खत्म नहीं हो रहीं मारा-मारी *रजिस्ट्री की गाइड लाइन 30 जून तक यथावत* MP में 1 मई से शुरू नहीं होगा वैक्सीनेशन पार्ट-3:2.5 लाख डोज की पहली खेप 3 मई तक मिली तो 18+ लोगों को 5 मई से लगेगा टीका, 19 हजार लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन सोमली नदी को पार कर मंदसौर की तरफ आगे बढा चंबल का पानी

पुलिसकर्मियों को तनाव मुक्त रखने के लिये होने लगे थे नवाचार
मंदसौर निप्र । प्रदेश के पुलिस कर्मियों को तनाव से मुक्त रखने के लिये भारतीय जनता पार्टी की मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के नेतृत्व वाली सरकार ने विधायक यशपालसिंह सिसौदिया के प्रयासों से सप्ताह मेंएक दिन का अवकाश प्रदान करने के निर्देश जारी कर दिये थे इसके अलावा 15 दिवस पितृत्व अवकाश एवं महिलाकर्मियों को 6 माह प्रसुति अवकाश तथा 730 दिवस संतान पालन अवकाश की पात्रता देदी थी ।  इसकी घोषणा भी प्रदेश के तात्कालिक गृहमंत्री भुपेन्द्रसिंह ने कर दी थी लेकिन कांग्रेस की सरकार इस योजना को लेकर झुठा श्रेय लेने की कोशिश
 कर रही है ।
वरिष्ठ विधायक यशपाल सिंह सिसौदिया ने 17 नवंबर 2017 को मप्र विधानसभा में पुलिसकर्मियों में बढ़ती अवसाद की समस्या को लेकर सवाल उठाया था और गृह विभाग द्वारा पुलिसकर्मियों को आवश्यक अवकाश के अलावा साप्ताहिक अवकाश भी दिये जाने की मांग की थी इस पर तात्कालिक गृहमंत्री भुपेन्द्रसिंह ठाकुर ने जवाब देते हुए कहा था की पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को साल में 16 दिवस आकस्मिक अवकाश, 15 दिवस विशेष अवकाश तथा 30 दिवस अर्जित अवकाश व 10 दिन लघुकृत अवकाश प्रदान किये जाते है । जिनका लाभ भी पुलिसकर्मियों को मिल रहा है । इसके अलावा थाने और चोकियों में कार्यरत निरीक्षक से आरक्षक स्तर तक के अधिकारियों व कर्मचारियों को माह में 1 दिवस का अवकाश जारी करने के भी निर्देश दे दिये गये है । इसके अलावा 15 दिवस पितृत्व अवकाश एवं महिलाकर्मियों को 6 माह प्रसुति अवकाश तथा 730 दिवस संतान पालन अवकाश की पात्रता दी गई है ।
विधायक श्री सिसौदिया ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के गृहमंत्री भुपेन्द्रसिंह की सदन में की गई घोषणा के बाद से पुलिसकर्मियों को साप्ताहिक अवकाश दिये जाने की तैयारी गृहमंत्रालय द्वारा प्रारंभ कर दी गई थी, पुलिसकर्मियों और अधिकारियों को तनावमुक्त रखने के लिये नवाचार भी प्रारंभ किये गये थे, यह भाजपा सरकार का ही प्रयास था कि भोपाल के लाल परेड मैदान पर पुलिसकर्मियों को योग प्रशिक्षण भी दिया गया था ताकि योग के माध्यम से पुलिसकर्मी तनाव मुक्त रह सके ।इसके अलावा रतालम जिले में तो तात्कालिक पुलिस अधीक्षक ने इन नवाचारों को और आगे बढ़ाते हुए पुलिसअधिकारियों, कर्मचारियो के घर मांगलिक व अन्य प्रसंगो पर स्वयं जाकर उ नका उत्साहवर्धन करने का काम शुरु कर दिया था । इस नवाचार को पूरे प्रदेश में लागू करने के तात्कालिक भाजपा सरकार ने निर्देश जारी कर दिये थे ।
श्री सिसौदिया ने कहा की जिस योजना को भाजपा की सरकार लागू करने के निर्देश दे चुकी है उस योजना को लागू कर प्रदेश की कांग्रेस  सरकार के मुख्यमंत्री कमलनाथ झुठा श्रेय लेने की कोशिश कर रहे है । जबकि भाजपा सरकार ने हर वर्ग, हर व्यक्ति की चिंता करते हुए उन्हें सुविधाएं देने की कोशिश की है और उसे हकीकत की जमीन पर भी उतारा है ।

Chania