Saturday, May 8th, 2021 Login Here
भोईवाडा की घटना के बाद मंदसौर में पुलिस का फ्लेग मार्च जावरा विधायक से पंगा और मंदसौर के हिस्सें की आॅक्सीजन रोकना भरी पड़ा कलेक्टर को, विधायक सिसोदिया की सीएम के समक्ष कड़ी आपत्ति के बाद विवाह की खुशी में भूल गए लाॅकडाउन के आदेश/ शादि में मेंहमान बन कर पहुंच गऐ एसडीएम और टीआई बीस दिन लाॅकडाउन के बाद भी कोरोना काबू नहीं हुआ तो अब सीएम के निर्देश के बाद मंदसौर में भी शुरु हुआ सख्ती वाला लॉक डाउन कोरोना के तांडव की हकीकत बयां करती मंदसौर के शमशान की सच्चाई ! कोरोना से जंग में भारतीय जैन संघठना ने नृत्य नाटिका के माध्यम से दिया सकारात्मकता का सन्देश रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित,


*पूर्व मंत्री श्री नाहटा के पत्र पर मंदसौर विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया का जवाब*

मन्दसौर। श्री नाहटा ने सवाल किया है तो जबाव तो देना होगा। पूर्व मंत्री श्री नरेंद्र नाहटा के चिंतन पर मुझे आश्चर्य भी हो रहा है और तरस भी आ रहा है। वे अपनी बात कहने में यह कैसे भूल गए कि सड़क निर्माण से विकास की संभावनाएं प्रबल होती है। कोई भी सड़क निर्माण किसी लाभ-हानि को मद्देनजर रखकर नहीं बनाया जाता है। जितने सड़क मार्ग बनेंगे, उतनी ही विकास योजनाएं मूर्त रूप लेंगी और विकास की संभावनाएं भी बढ़ेंगी।
यह बात मंदसौर विधायक श्री यशपाल सिंह सिसौदिया ने पूर्व मंत्री श्री नरेंद्र नाहटा द्वारा दिए गए एक सार्वजनिक बयान का जवाब देते हुए कही है।
श्री सिसोदिया ने कहा कि जनप्रतिनिधियों पर यशनगर से फोरलेन सड़क मार्ग, जो अधूरा निर्माण था उसे पूरा करने पर जो प्रश्न चिन्ह खड़े किए हैं! एक जनप्रतिनिधि की भूमिका में मंदसौर विधायक होने के नाते श्री नाहटा के सवालों का जवाब देना मैं अपना कर्त्तव्य एवं दायित्व समझता हूं। चूंकि सवाल भी श्री नाहटा ने किया है तो जवाब तो देना होगा।
यश नगर फोरलेन, आरटीओ की तरफ पूर्व से यह सड़क विकसीत है। जिसमें श्री नाहटा का खुद का निजी कॉलेज एमआईटी सहित लोटस वैली स्कूल, हॉकी टर्फ विकेट, पुलिस कॉलोनी, नर्सिंग ट्रेनिंग सेंटर, दशपुर विद्यालय, ओबीसी छात्रावास, दिल्ली पब्लिक स्कूल, केंद्रीय विद्यालय आदि स्थित हैं। रेवास देवड़ा मार्ग, नीमच मार्ग, रतलाम मार्ग, मंदसौर की मंडी में आने वाले और रेवास देवड़ा की तरफ से आने वाले वाहनों का संचालन इस अधूरे मार्ग पर पूर्व से हो रहा था। लेकिन इसका एक हिस्सा इसका छूट गया था। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के हाल ही के कार्यकाल में 4 करोड़ रुपए स्वीकृत कराकर काबरा पेट्रोल पंप से मेघदूत नगर तक तथा नवीन कलेक्टर कार्यालय से फोरलेन सड़क तक की निर्माण कार्य शुरू किया गया है। इस मार्ग पर छोटे वाहन हो या बड़े वाहनों की आवाजाही लगातार पूर्व से ही हो रही है।
श्री नाहटा घुमा-फिराकर मीडिया के माध्यम से और मीडिया की सुर्खियों में बने रहने को लेकर गुमराह कर, भ्रांतियां फैलाने का काम कर रहे हैं। उन्हें समझ इसलिए नहीं आ रहा है कि उनके स्वयं के 10 वर्षीय मंत्री कार्यकाल की भूमिका में वे मंदसौर को कुछ नहीं दे पाए। शहर विकास के लिए उन्होंने कुछ नहीं किया। आज मुझे इस बात का गर्व है कि मंदसौर शहर को जोड़ने वाली सभी प्रवेश वाली सड़कें चौड़ी हो गई है, फिर चाहे वह नया खेड़ा से सर्किट हाउस, सेंट थॉमस कॉन्वेंट स्कूल तक की सड़क हो या सीतामऊ फाटक, संजीत रोड, मंडी रोड, यश नगर, स्टेशन रोड, गांधी चौराहे से उधम सिंह चौराहा, लॉ कॉलेज रोड, रेवास देवड़ा- मन मोहन वाटिका रोड हो, इतने सभी मार्गों का चौड़ीकरण या उन्नयन किया गया है। यह सब हमने 12 वर्षों में करके दिखाया है।
श्री  नाहटा के इस बयान पर मुझे आश्चर्य हो रहा है कि इस मार्ग से कितने लोगों को लाभ मिलेगा? श्री नाहटा जी को मैं बताना चाहता हूं कि गांधी नगर, मेघदूत नगर, यश नगर सहित नवीन कलेक्ट्रेट कार्यालय, हॉकी टर्फ विकेट, नवीन पुलिस कॉलोनी उनका खुद का एमआईटी कॉलेज तथा अन्य कई स्कूलों को यह रोड जोड़ रहा है, जो अधूरा था उसे पूरा किया जा रहा है।
आने वाले समय में इसी मार्ग पर नवीन न्यायालय भवन प्रस्तावित है। अगले महीने दिसंबर तक डीमार्ट जैसा बड़ा मॉल इसी यश नगर के पास में आ रहा है। इन सबके लिए यह मार्ग जो पूर्व से निर्मित है, उसे बनाया जाना नितांत आवश्यक था, 15 माह की उनकी सरकार के मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ के नेतृत्व के कार्यकाल में इस सड़क के लिए एक देहला तक नहीं मिला। यहां तक कि सड़क के गड्ढे तक नहीं भर पाए!
सड़कों के विकास के साथ-साथ व्यवसायिक केंद्र स्थापित होते हैं, कारोबार बढ़ता है और नई कॉलोनियां भी आती है तो इसमें आपत्ति क्यों ? सड़क बनेगी तो विकास तो होगा ही और हमने यह सड़क हमारे अपने निजी लाभ के लिए नहीं बनाई है और मंदसौर की अन्य चौड़ी-चौड़ी सड़कें तथा एक अरब 18 करोड़ की लागत के ओवर ब्रिज हमने हमारे निजी स्वार्थ के लिए विगत 10 वर्षों में नहीं बनाएं हैं। इस मार्ग को लेकर रहवासी इलाका श्री नाहटा को याद आ रहा है, रहवासी इलाका तो पहले से है।
श्री नाहटा ने यह भी कहा कि कलेक्टर कार्यालय के सामने से वाहन निकलेंगे तो अधिकारी पसंद नहीं करेगा! हम अधिकारी की पसंद या ना पसंद पर जनप्रतिनिधि की भूमिका में काम नहीं  कर रहे है। अभी कल ही मुख्य नगरपालिका अधिकारी श्री प्रेम कुमार सुमन को निर्देशित किया है कि राम टेकरी मनमोहन वाटिका वाला मार्ग जो बन चुका है, उसका अधुरा निर्माण कार्य ऋषियानंद नगर से एमआईटी कॉलेज चौराहे तक के चौड़ीकरण को लेकर डीपीआर तैयार करें, ताकि यह सड़क भी पूर्ण रूप से निर्मित हो सके। मुझे पूरा विश्वास है कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान मंदसौर की इस अंतिम सड़क जो अन्य मार्गो से मंदसौर को जोड़ती है, को भी स्वीकृति देंगे।
श्री नाहटा विकास में आभार, धन्यवाद या सहयोग भले ही ना करें। किंतु व्यर्थ की आलोचना में अपना समय बर्बाद नहीं करें।

*तो क्या सभी सड़कें बंद कर रखने केवल एक ही सड़क!*
विधायक श्री सिसोदिया ने कहा कि पूर्व मंत्री श्री नाहटा ने अपने वक्तव्य में एक बात कही है कि इन मार्गों की ओर जाने के लिए पूर्व से ही एक सड़क उपलब्ध है! तो क्या श्री नाहटा की मानकर शेष सभी सड़कों को बंद करके, क्या केवल एक ही सड़क रख दी जाए!
तब यह विचार करके देखा जाना चाहिए कि फिर एक ही सड़क पर कितना दबाव बढ़ जाएगा। विधायक श्री सिसोदिया ने कहा कि अधिक सड़कें अधिक विकास और फैलाव को बढ़ाती हैं। यह छोटी सी बात जाने क्यों पूर्व मंत्री श्री नाहटा नहीं समझ पाए!!
यशपाल सिंह सिसौदिया विधायक मंदसौर
Chania