Saturday, May 8th, 2021 Login Here
भोईवाडा की घटना के बाद मंदसौर में पुलिस का फ्लेग मार्च जावरा विधायक से पंगा और मंदसौर के हिस्सें की आॅक्सीजन रोकना भरी पड़ा कलेक्टर को, विधायक सिसोदिया की सीएम के समक्ष कड़ी आपत्ति के बाद विवाह की खुशी में भूल गए लाॅकडाउन के आदेश/ शादि में मेंहमान बन कर पहुंच गऐ एसडीएम और टीआई बीस दिन लाॅकडाउन के बाद भी कोरोना काबू नहीं हुआ तो अब सीएम के निर्देश के बाद मंदसौर में भी शुरु हुआ सख्ती वाला लॉक डाउन कोरोना के तांडव की हकीकत बयां करती मंदसौर के शमशान की सच्चाई ! कोरोना से जंग में भारतीय जैन संघठना ने नृत्य नाटिका के माध्यम से दिया सकारात्मकता का सन्देश रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित,

मंदसौर जनसारंगी।
98 मासक्षमण का विश्व कीर्तिमा धराने वाले जैन जगत की महान विभुति, तपस्वी रत्न, शासन दीपक घोर तपस्वी पूज्य श्री अशोकमुनिजी मसा का शहर के जम्बुवाला स्थानक पर देवलोक गमन हो गया। आपकी भव्य चकडोल बुधवार सुबह निकली जिसमें न सिर्फ जैन समाज बल्कि जिन शासन में आस्था रखने वाले समूचे श्र््द्वालु सम्मिलित हुए। मुनिश्री की जय-जयकार के जयकारों के बीच जम्बुवाला स्थानक से चकडोल प्रारम्भ हुई। जो शहर कीला रोड़, सराफा बाजार, सदर बाजार, कालीदास मार्ग, बस स्टेण्ड होती हुई निकली। पूरे रास्ते भर बैण्ड बाजों की धून पर भक्ति संगीत की धारा प्रवाहित हो रहीं थी वहीं पूरे बाजार में दोनो तरफ भक्त कतारबद्व होकर मुनिश्री के अंतिम दर्शनाथ खड़े थे।
उल्लेखनिय है कि अशोकमुनिजी मसा साधुमार्गी संघ के आचार्य रामलाल जी मसा की आज्ञा में जिनशासन की अद्वुद प्रभावना कर रहे थे।पांचवे आरे में चैथे आरे के समान मासक्षमण के पारणे मासक्षमण 8-10 दिन के अंतराल में की तपस्या कर रहे थे। जिसकी कोई साधारण व्यक्ति कल्पना भी नहीं कर सकता। आपके देवलोकगमन से संमूचे जैन जगत को अपूरणीय क्षति हुई है। बुधवार की सुबह संपूर्ण विधि -विधान से आपकी चकडोल जम्बु वाला स्थानक से प्रारम्भ हु ई । इस दौरान मंदसौर के अलावा दुरस्थल अंचलों और विभिन्न् प्रदेशों से भी श्रृ़द्धालु मंदसौर पहुंचे और गुरूदेव की देह के दर्शन किए। सुबह चकडोल निकलने से पहले ही मंदसौर शहर में चकडोल मार्ग पर लोगों की श्रृ़द्धा उमड़ रहीं थी। भक्त गुरूदेव की देह के दर्शन के लिए प्रतिक्षा कर रहे थे। धार्मिक भजनों के साथ जिस मार्ग से चकडोल निकल रही थी चंदन, कैसर के रंग में हर भक्त रंग रहा था।

Chania