Saturday, May 8th, 2021 Login Here
भोईवाडा की घटना के बाद मंदसौर में पुलिस का फ्लेग मार्च जावरा विधायक से पंगा और मंदसौर के हिस्सें की आॅक्सीजन रोकना भरी पड़ा कलेक्टर को, विधायक सिसोदिया की सीएम के समक्ष कड़ी आपत्ति के बाद विवाह की खुशी में भूल गए लाॅकडाउन के आदेश/ शादि में मेंहमान बन कर पहुंच गऐ एसडीएम और टीआई बीस दिन लाॅकडाउन के बाद भी कोरोना काबू नहीं हुआ तो अब सीएम के निर्देश के बाद मंदसौर में भी शुरु हुआ सख्ती वाला लॉक डाउन कोरोना के तांडव की हकीकत बयां करती मंदसौर के शमशान की सच्चाई ! कोरोना से जंग में भारतीय जैन संघठना ने नृत्य नाटिका के माध्यम से दिया सकारात्मकता का सन्देश रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित,

20 साल बाद आऐगी प्रशासन के हाथ में बागडोर
मंदसौर जनसारंगी।

 वर्तमान नगरपालिका परिषद के यह पांच साल काफी उतार चढ़ाव वाले रहें। पांच सालों में नगरपालिका ने तीन अध्यक्ष देखे। अब 26 जनवरी 2021 को नगरपालिका का कार्यकाल समाप्त होने जा रहा है इसके बाद प्रशासक के रूप में कलेक्टर इसकी बागडौर संभालेंगे। इसके साथ ही पूरे 20 साल बाद एक बार फिर से प्रशासन के हाथ में नगर पालिका की बागडोर आऐगी। तब कलेक्टर अनुराग जैन नपा के प्रशासक बने थे उन्होेने नगर पालिका के तमाम बकायादारों की सूची को सार्वजनिंक कर दिया था जिसमें कई रसूखदार भी शामिल थे।
5 सालों में 3 अध्यक्ष देख चुकी मंदसौर नपा का कार्यकाल 26 जनवरी 2021 को समाप्त होने जा रहा। साल 2015-16 में भाजपा से प्रहलाद बंधवार निर्वाचित हुए। 2019 की 17 जनवरी को उनके निधन के बाद महीनों तक पद रिक्त रहा। शासन ने  नपाध्यक्ष पद का चार्ज कांग्रेस पार्षद मो. हनीफ शेख को सौंपा। इसके बाद शासन के फैसले के विरोध में भाजपा पार्षद राम कोटवानी ने कानूनी लड़ाई लड़ी और चुनाव कार्यक्रम घोषित कराकर दम लिया, पार्टी से प्रत्याशी बनने के बाद कोटवानी नपाध्यक्ष भी निर्वाचित हुए।  नपा चुनाव 20 फरवरी 2021 तक टल चुके हैं, जबकि मंदसौर नपाध्यक्ष पद का 5 साल का कार्यकाल 26 जनवरी 2021 को समाप्त होने जा रहा। ऐसे में भले ही चार दिन बचें हैं लेकिन सस्पेंस बना हुआ था कि कार्यकाल खत्म होने के बाद नपा की कमान जनप्रतिनिधि के हाथ आएगी या प्रशासन के। इस सस्पेंस से पर्दा कल दोपहर में उठ गया। जब शासन ने निर्देश जारी किए। जिसमें कलेक्टर 26 जनवरी से नगरपालिका के प्रशासक के रूप में कार्य करेंगे।  दरअसल पिछले वर्षों में दोनों तरह की तस्वीर सामने आ चुकी है। मंदसौर की ही बात करें तो साल 2005 में तत्कालीन नपाध्यक्ष यशपालसिंह सिसौदिया का 5 साल कार्यकाल पूरा हुआ था, उसके बाद करीब 6 माह के लिए समिति बनी थी और कमान सिसौदिया के हाथ रही थी। इस तरह उन्होंने साढ़े पांच साल तक नपाध्यक्ष पद संभाला था।   इधर सालभर पहले की ही बात करें तो पड़ोसी जिले नीमच में नपाध्यक्ष राकेश जैन के नेतृत्व वाली नपा का 5 साल पूरा होने के बाद चार्ज कलेक्टर ने खुद अपने हाथ लिया था।  आसपास की सभी नपा, निकायों मे प्रशासन ने कमान हाथ में ली ऐसे में अब मंदसौर नगर पालिका की कमान भी 26 जनवरी से कलेक्टर के हाथ में होगी। ऐसे में राज्य शासन ने प्रदेश की दो नगर पालिका और 6 नगर परिषदों में प्रशासक की नियुक्ति की है जिसमें नगर पालिका सीहोर और मंदसौर में कलेक्टर को नियुक्त किया है। नगर परिषदों में अनुविभागी अधिकारी को नियुक्त करने के लिए कलेक्टर को अधिकृत किया है। इसके साथ ही मंदसौर में भी चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है क्योंकि करीब 20 साल पहले तत्कालिक कलेक्टर अनुराग जैन नपा के प्रशासक नियुक्त हुए थे उन्होंने नगर के तमाम बकायदारों की सूची को सार्वजनिक कर दिया था जिसमें कई रसूखदार भी शामिल थे। उन्होने बकायादारों की सूची को नगर के कई चैराहों पर सार्वजनिक रूप से चस्पा कर दिया था। ऐसे में अबकी बार फिर नगर की आम जनता को उम्मीद है कि नगर पालिका पर कलेक्टर का कब्जा होने के बाद कई ऐसे निर्णय भी हो सकते है जो आम जनता के हित में हो सकते है।

Chania