Friday, May 7th, 2021 Login Here
रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित, चार महिने में नहीं बन पाया सवा दो सौ मीटर का नाला दूकान का शटर बंद लेकिन अंदर मिले ग्राहक हर दिन आॅक्सीजन आने का दावा लेकिन खत्म नहीं हो रहीं मारा-मारी *रजिस्ट्री की गाइड लाइन 30 जून तक यथावत* MP में 1 मई से शुरू नहीं होगा वैक्सीनेशन पार्ट-3:2.5 लाख डोज की पहली खेप 3 मई तक मिली तो 18+ लोगों को 5 मई से लगेगा टीका, 19 हजार लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन सोमली नदी को पार कर मंदसौर की तरफ आगे बढा चंबल का पानी

शामगढ़ जनसारंगी
शामगढ की बेटी किरण बैरागी का चयन इंडियन पैरामिलिट्री फोर्स में हुआ है , वे जल्द एएसएफ (सचिवालय सुरक्षा बल) ज्वाइन करेंगीं। उसने 2018 में एमएमसी की एग्जाम दी थी। 3 साल के इंतजार के बाद 5 फरवरी को परिणाम ऐसे आए कि टॉप 10 की सूची में उसे स्थान मिला।
एमसीए (मास्टर ऑफ कम्प्यूटर एप्लीकेशन) करने के बाद सॉफ्टवेयर कंपनी में नौकरी का अवसर मिला लेकिन किरण को सेना ज्वाइन करना थी इसलिए नौकरी ठुकरा दी। किरण के पिता गोविंददास बैरागी नगर में आयुर्वेद डॉक्टर हैं। नगर के सिनेमा रोड निवासी किरण के मुताबित देशभक्ति का जुनून बचपन से था। प्रायमरी की पढ़ाई से ही कबड्डी में रुचि लेने लगी, हाईस्कूल में स्टेट चैंपियन बनी। शामगढ़ में बीसीए की पढ़ाई के बाद इंदौर से एमसीए की डिग्री ली। कैंपस प्लेसमेंट के दौरान इंदौर व पुणे की सॉफ्टवेयर कंपनी से ऑफर मिला। पैकेज तो ठीक था लेकिन हाईस्कूल की पढ़ाई में पता चल गया था कि महिलाएं भी मिलिट्री ज्वाइन कर सकती हैं इसलिए एसएससी की तैयारी शुरू की। तीन महीने तैयारी का मौका मिला। दिसंबर 2018 में प्री-एग्जाम दी। नीमच सीआरपीएफ में फिजिकल हुआ, 2021 में इंदौर बीएसएफ में मेडिकल टेस्ट पास किया। 5 फरवरी को नतीजे आए हैं। कुल 18 पदों पर भर्ती हुई थी , परिणाम सामने आए तो टॉप 10 की सूची में स्थान मिला। उसने 100 में 85 अंक लाकर टाॅप 10 में स्थन बनाया जबकी कट आॅफ 79 पर निकला था ।
प्रधानमंत्री की सुरक्षा की जिम्मेदारी
सचिवालय सुरक्षा बल गृह मंत्रालय के अधीन होता है। इसकी जिम्मेदारी सचिवालय अंतर्गत विभिन्न केंद्रीय दफ्तरों व उनके पदाभिहित अफसरों की सुरक्षा करना है । वर्तमान में एसएसएफ के जवान प्रधानमंत्री सहित केंद्रीय कैबिनेट के मंत्रियों की सुरक्षा की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं , किरण को भी नईदिल्ली सचिवालय में ज्वाइनिंग मिलेगी , पूरे संभाग में यह मामला है।जब मंदसौर की बेटी एसएसएफ में ज्वाइन हुई है।

Chania