Monday, May 10th, 2021 Login Here
निजी क्लिनिक को दोबारा सील करने के विरोध में उतरे नागरिक आपदा में सहारा बन रहे मंदसौर के सेवाभावी व्यक्तित्व जनसारंगी ने किया था आगाह, पुलिस कार्रवाहीं ने लगाई खबर पर मोहर/ अस्पताल से सांसे चुराकर कालाबाजारी में बेच रहे युवक पर रासुका महामृत्युंजय जाप के सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे ओर कोरोना महामारी होगी खत्म आपदा में अंतिम सफर के संस्कार का इंतजाम करने आगे आऐ भामाशाह कोरोना का कहर/ आठ दिन में शहर से ढाई गुना मौते ग्रामीण अंचल में हुई ! कोरोना का कहर/ आठ दिन में शहर से ढाई गुना मौते ग्रामीण अंचल में हुई ! भोईवाडा की घटना के बाद मंदसौर में पुलिस का फ्लेग मार्च जावरा विधायक से पंगा और मंदसौर के हिस्सें की आॅक्सीजन रोकना भरी पड़ा कलेक्टर को, विधायक सिसोदिया की सीएम के समक्ष कड़ी आपत्ति के बाद विवाह की खुशी में भूल गए लाॅकडाउन के आदेश/ शादि में मेंहमान बन कर पहुंच गऐ एसडीएम और टीआई बीस दिन लाॅकडाउन के बाद भी कोरोना काबू नहीं हुआ तो अब सीएम के निर्देश के बाद मंदसौर में भी शुरु हुआ सख्ती वाला लॉक डाउन कोरोना के तांडव की हकीकत बयां करती मंदसौर के शमशान की सच्चाई ! कोरोना से जंग में भारतीय जैन संघठना ने नृत्य नाटिका के माध्यम से दिया सकारात्मकता का सन्देश रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर

मंदसौर निप्र। शुक्रवार को जिला पंचायत में सामान्य प्रशासन एवं मासिक बैठक होना तय थी, लेकिन बैठक में अधिकारी ही नही पहुंचे, काफी देर इंतजार करने के बाद भी अधिकारी बैठक में उपस्थित नही हुऐ थे आक्रोश व्यक्त करते हुए जिला पंचायत अध्यक्ष एवं सदस्यों ने बैठक का बहिष्कार कर नारेबाजी की । साथ ही बैठक में कलेक्टर को बुलाए जाने की बात कहीं । उल्लेखनीय है कि प्रतिमाह की तरह इस माह भी जिला पंचायत सभा कक्ष में मासिक बैठक का आयोजन किया गया था, बैठक में जिला पंचायत के सदस्यों के साथ-साथ संबंधित विभाग जिसमें वन विभाग, स्वास्थ्य विभाग, शिक्षा विभाग, महिला बाल विकास विभाग, कृषि विभाग, सहकारिता विभाग आदि विभागो के अधिकारियों को उपस्थित होना था, एक या दो विभाग के अधिकारी ही पहुंचे जबकि अधिकांश विभागों के अधिकारी बैठक में पहुंचे ही नही। इस मामलें में जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती प्रियंका गोस्वामी ने बताया कि मासिक बैठक का आयोजन किया गया था, बैठक में जिम्मेदार अधिकारियों को उपस्थित होना था लेकिन वह आएें ही नही, जबकि बैठक का मुख्य उद्देश्य पेंडिग कार्यो पर चर्चा करना तथा विकास कार्यो की समीक्षा करना होता है, लेकिन जब अधिकारी ही नही पहुंचे तो चर्चा किससे करें । अध्यक्ष श्रीमती गोस्वामी ने बताया कि अधिकारी नही पहुंचे लेकिन जिला पंचायत के  सीईओ आदित्यसिंह भी कुछ देर बैठक में बैठे और बाद में बिना बोले बैठक से उठकर चले गए। जिला पंचायत सदस्य अंशुल बैरागी ने बताया कि अधिकारी-कर्मचारी और ज्यादा निरकुंश होते जा रहे है, कुछ जनप्रतिनिधियों को बुलवाकर विकास कार्यो का लोकार्पण कर लिया जाता है जबकि नियमानुसार कार्य किया जाना चाहिए । श्री बैरागी ने बताया कि शुक्रवार को आयोजित बैठक में सहकारिता विभाग, स्वास्थ्य विभाग, कृषि विभाग आदि विभागों के अधिकारी अनुपस्थित थे, जबकि बैठक का मुख्य उद्देश्य होता है कि विकास कार्यो की मॉनिटरिंग की जा सके ।

Chania