Friday, May 7th, 2021 Login Here
रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित, चार महिने में नहीं बन पाया सवा दो सौ मीटर का नाला दूकान का शटर बंद लेकिन अंदर मिले ग्राहक हर दिन आॅक्सीजन आने का दावा लेकिन खत्म नहीं हो रहीं मारा-मारी *रजिस्ट्री की गाइड लाइन 30 जून तक यथावत* MP में 1 मई से शुरू नहीं होगा वैक्सीनेशन पार्ट-3:2.5 लाख डोज की पहली खेप 3 मई तक मिली तो 18+ लोगों को 5 मई से लगेगा टीका, 19 हजार लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन सोमली नदी को पार कर मंदसौर की तरफ आगे बढा चंबल का पानी


मंदसौर निप्र। पुलवामा में आतंकी हमलें ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है देश के हर नागरिक ने इस घटना को लेकर गुस्सा उठना लाजमी है, गुस्सा होना भी चाहिए सरकार को सख्त कदम उठाना भी चाहिए क्योंकि अब यह समय केवल आश्वासन देने का नही है बल्कि कुछ कर दिखाने का है जनता के गुस्से ने आज बंद का आव्हान किया है लेकिन बंद का यह आव्हान कहीं आतंकियों के मंसूबों को कामयाब तो नही कर रहा यह भी सोचना जरूरी है ।

आतंकवाद का लक्ष्य ही यही है कि भारत की अर्थव्यवस्था को तबाह कर दिया जाएें, आतंकवादी घटना के विरोध स्वरूप बंद का आव्हान किया गया है इस बंद से कहीं हम आतंकवादियों के इन मंसूबो को कामयाब तो नही कर रहे है क्योंकि एक दिन का बंद हजारों-करोड़ों रूपये की अर्थव्यवस्था का नुकसान करता है चाय वाले की चाय नही बिकेगी, सब्जी वाले की सब्जी नही बिकेगी, दूध वाले का दूध नही बिकेगा, मजदूर को मजदूरी नही मिलेगी देश का कितना बड़ा नुकसान बंद से होगा इस पर भी सोचने की जरूरत है । बंद के बजाय यदि आज की कमाई का हिस्सा शहीदों के कल्याण के लिए दिया जाता तो शायद हम सफल कहलाते लेकिन अभी भी कुछ नही बिगड़ा है बंद करने वालों को आज के ज्ञापन के साथ-साथ एक बड़ी राशि शहीदों के परिवारों को समर्पित करनी चाहिए । सैनिकों के कल्याण के लिए दी जानी चाहिए । 

 

Chania