Friday, May 7th, 2021 Login Here
रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित, चार महिने में नहीं बन पाया सवा दो सौ मीटर का नाला दूकान का शटर बंद लेकिन अंदर मिले ग्राहक हर दिन आॅक्सीजन आने का दावा लेकिन खत्म नहीं हो रहीं मारा-मारी *रजिस्ट्री की गाइड लाइन 30 जून तक यथावत* MP में 1 मई से शुरू नहीं होगा वैक्सीनेशन पार्ट-3:2.5 लाख डोज की पहली खेप 3 मई तक मिली तो 18+ लोगों को 5 मई से लगेगा टीका, 19 हजार लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन सोमली नदी को पार कर मंदसौर की तरफ आगे बढा चंबल का पानी

मंदसौर।  विधानसभा चुनाव के समय कांग्रेस ने नारा दिया था कि वक्त है बदलाव का। लेकिन कांग्रेस ऐसा बदलाव कर रही है की जनता के जनादेश का भी मखौल उड़ाया जा रहा है। मंदसौर जिले में फसल ऋण माफी योजना के तहत आयोजित कार्यक्रमों में भाजपा के जनप्रतिनिधियो के नाम तक निमंत्रण पत्र पर नहीं छापे गए हैं। जबकि सुवासरा क्षेत्र में कांग्रेस के विधायक का नाम छापा गया है,और तो और प्रभारी मंत्री  गलत बयानी भी कर रहे हैं  कि जिन जनप्रतिनिधियो ने सहमति दी उन्हीं के नाम  छापे गए हैं। जबकि  जिला कलेक्टर ने किसी से बात तक नहीं की है ।यह कांग्रेस की छोटी मानसिकता को दर्शाता है। भाजपा इस मुद्दे को विधानसभा में उठाएगी और अपना विरोध दर्ज कराएगी।
यह बात वरिष्ठ विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया के प्रेस वक्तव्य के माध्यम से कहते हुए बताया कि मंदसौर, मल्हारगढ़ सहित मंदसौर जिले के कई जगहों पर फसल ऋण माफी प्रमाण पत्र वितरित किए जाने का कार्यक्रम आयोजित किया गया लेकिन किसी भी कार्यक्रम में भाजपा के सांसद, विधायक और जिला पंचायत अध्यक्ष को बतौर अतिथि आमंत्रित नहीं किया गया और ना ही उनके नाम निमंत्रण पत्र पर छापे गए हैं ।जबकि यह सामान्य शिष्टाचार और प्रोटोकॉल है। क्योंकि सांसद पूरे संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करता है, जिला पंचायत अध्यक्ष जिले का प्रतिनिधित्व करता है और विधायक अपने विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं बावजूद इसके भाजपा के किसी भी जनप्रतिनिधि को कार्यक्रमों में बतौर अतिथि नहीं बुलाया गया और ना ही उनके नाम छापे गए। जबकि सुवासरा क्षेत्र में कांग्रेस के विधायक हरदीप सिंह डग का नाम निमंत्रण पत्र पर प्रकाशित किया गया है यह कांग्रेस की ओछी मानसिकता को दर्शाता है ।श्री सिसोदिया ने कहा कि अतिथि के रूप में नहीं बुलाना और निमंत्रण पत्र पर नाम नहीं छापने तक तो ठीक है जब जिले के प्रभारी मंत्री हुकुम सिंह कराड़ा से मीडिया ने भाजपा के जनप्रतिनिधियों को नहीं बुलाने संबंधी सवाल पूछा तो उन्होंने झूठ बोलने से भी परहेज नहीं किया ।उन्होंने कहा कि जिन जनप्रतिनिधियों ने कार्यक्रमों में आने की सहमति दी है उन्हीं के नाम निमंत्रण पत्र पर छापे गए हैं जबकि सच्चाई यह है कि कलेक्टर ने भाजपा के किसी भी जनप्रतिनिधि से चर्चा तक नहीं की है। ऐसे में मना करने का तो सवाल ही नहीं उठता है। श्री सिसोदिया ने कहा कि कांग्रेस को विकास की राजनीति करना चाहिए ना कि इस तरह की छोटी मानसिकता के साथ तुच्छ राजनीति करनी चाहिए। सांसद,विधायक और जिला पंचायत अध्यक्ष को कार्यक्रम में बुलाना प्रोटोकोल है। इसका पालन करना चाहिए था कांग्रेस ने ऐसा नहीं किया इसलिए भाजपा इस मुद्दे को विधानसभा में उठाएगी और सामान्य प्रशासन विभाग के समक्ष भी अपनी आपत्ति दर्ज कराएगी क्योंकि यह न केवल जनप्रतिनिधियों का अपमान है बल्कि जनता ने जो जनादेश दिया है उसका भी कांग्रेस ने मख़ौल उड़ाया है। श्री सिसोदिया ने कहा की यह वक्त है बदलाव का या वक्त है बदला लेने का। जबकि भाजपा शासन मे भाजपा ने सदैव जनप्रतिनिधियो का सम्मान किया है, मुख्यमंत्री जी के हर जिला स्तरीय कार्यक्रम में शिलालेख पर तथा आमंत्रण पत्र पर विधायक  हरदीप सिंह डंग का नाम होता था। बावजूद इसके कांग्रेस छोटी मानसिकता कर साथ काम कर रही है।

Chania