Monday, May 17th, 2021 Login Here
कोरोना के गंभीर रोगियों का उपचार सर्वसुविधायुक्त बड़े अस्पतालों में होना जरूरी पुलिस और डाक्टर की पकड़ में कोरोना से सुरक्षित आम आदमी लेकिन लापरवाह लोग बन रहे मुश्किल मंदसौर के मनोज ने कर दिया 200 रूपऐ में आॅक्सी फ्लो मीटर का निर्माण वायरल विडियों ने मंदसौर की दादी को बना दिया स्टाॅर मंदसौर जिला चिकित्सालय में अक्षय तृतीया से सीटी स्कैन मशीन से जांच होना हुई प्रारंभ वित्त मंत्री श्री देवड़ा के निर्देश पर गृह मंत्रालय ने मल्हारगढ़ ब्लॉक कोविड-19 आपदा प्रबंधक मैनेजमेंट कमेटी का गठन कलेक्टर द्वारा किया गया *शामगढ़ में 85 वर्ष के बूढे व्यक्ति का घर से मृत अवस्था मे मिला शव* खुशियों की दास्तां /मल्हारगढ़ कोविड केयर सेंटर से आज 3 व्यक्ति स्वस्थ होकर घर गए प्रशासन ने मीटिंग बुलाकर ईद घर पर ही मनाने हेतु समझाइश दी । अपने अपने मोहल्ले मैं सख्ती से कर्फ्यू का पालन करवाना और दवाई वितरण करवाना हम सबकी जवाबदेही है: श्री पँवार *जिले में रक्त स्त्रोतम संस्थान द्वारा कराया गया पहला प्लाज्मा डोनेशन जनसारंगी --प्रसंगवश./ सर्वसमावेशी समाज के संस्थापक भगवान परशुराम. दो लाख खर्च होने के बाद भी नहीं बनी खाद, पिट बन गऐ डस्टबिन हॉटस्पॉट में बेखौफ चल रहीं सब्जी मंडी, लोगों की जमा हो रहीं भीड़ महामारी से निपटने आर्थिक सहयोग में आगे आ रहे नागरिक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अमेठी में इंडो रशियन असॉल्ट राइफल के निर्माण के लिए फैक्ट्री की शुरुआत की। उन्होंने कहा कि अत्याधुनिक राइफलों से जुड़ा यह प्रोजेक्ट अमेठी की शान है। अब ऑर्डिनेंस फैक्ट्री में दुनिया की सबसे आधुनिक बंदूकों में से एक एके 203 राइफल बनाई जाएंगी। पहले की सरकारों ने इस प्रोजेक्ट को लटकाए रखा। मोदी ने कहा कि पहला राफेल हमारी सरकार में उड़ान भरेगा। रैली में राहुल गांधी चोर है के नारे भी लगे। मोदी अमेठी में 29 साल बाद पहुंचने वाले पहले गैर-कांग्रेसी और तीसरे प्रधानमंत्री हैं।
मोदी ने कहा, ''लोग भाषण ही देते हैं। अमेठी की फैक्ट्री में लाखों की तादाद में यह राइफलें बनाई जाएंगी। आगे जाकर यहां की राइफल दुनिया के दूसरे देशों में भी निर्यात की जाएगी। यह फैक्ट्री नौजवानों के लिए रोजगार के अवसर भी ला रही है और देश के विकास और सुरक्षा के लिए भी एक नया रास्ता खोल रही है। आज से जो काम यहां शुरू हो रहा है, ये काम 8-9 साल पहले शुरू हो जाना चाहिए थे। कोरबा की इस फैक्ट्री को बनाया ही इसलिए गया था कि यहां आधुनिक राइफल बनाई जाए। लेकिन, इसकी पूर्ण क्षमता का कभी इस्तेमाल ही नहीं किया गया। इसकी क्षमता को नजरंदाज कर दिया गया।''

    ''सेना ने 2005 में आधुनिक हथियारों की जरूरत को तब की सरकार के सामने रखा था। इसीलिए अमेठी की फैक्ट्री में काम शुरू हुआ था। 2007 में यहां सांसद ने शिलान्यास के वक्त कहा था कि 2010 में यहां काम शुरू हो जाएगा। लेकिन, उनकी सरकार थी, जो कहे वो होना चाहिए था। लेकिन, हुआ क्या? वो इतना ही नहीं कर पाते हैं तो उनका भरोसा काहे को करते हो? शिलान्यास के तीन साल तक पहले की सरकार तय नहीं कर पाई कि यहां किस तरह के हथियार बनाए जाएंगे।''
    ''फैक्ट्री के लिए जमीन तक उपलब्ध नहीं कराई गई। सोचिए जिस फैक्ट्री में 2010 में काम शुरू होना था, उसकी बिल्डिंग 2013 तक लटकी रही। इमारत बनने के बाद जैसे-तैसे काम तो शुरू हुआ, क्योंकि सामने चुनाव था, लेकिन आधुनिक राइफल तब भी नहीं बनी। ये भी मत भूलिए कि इन्होंने वादा किया था। ये कहते हैं कि वादा करते हैं, उसे निभाते हैं और झूठ नहीं बोलते। ये भी मत भूलिए कि 1500 नौजवानों को रोजगार मिलेगा।''
    ''पहले की सरकारों ने आधुनिक राइफलें न बनाकर जवानों और संसाधनों के साथ अन्याय किया। देश की सुरक्षा को नजरंदाज करने में कोई कसर नहीं रखी। जवानों को राइफल, बुलेटप्रूफ जैकेट का इंतजार कराने वाले ये लोग कौन थे? मैं किसी का नाम नहीं लूंगा, लेकिन आप लोग इसे जानते हैं। आधुनिक तोप के लिए भी इन्हीं लोगों ने इंतजार करवाया। हमने आधुनिक होवित्जर का सौदा किया और जल्द ही इसे भी यहीं बनाया जाएगा।''
    ''आधुनिक लड़ाकू विमानों के लिए भी वायुसेना कह रही थी, लेकिन जिनकी नीयत ही खराब हो तो उन्हें यह आवाज कहां सुनाई देगी। राफेल सौदे को सालों इन लोगों ने रोके रखा। हमारी सरकार ने राफेल सौदा किया। ये लोग अपने निजी स्वार्थ के लिए उसे भी नाकाम कराने के लिए नए-नए नखरे कर रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट से लेकर सीएजी तक हर संस्था कह रही है कि सरकार ने देशहित में सही वक्त पर सही फैसला किया। ये लोग झूठ बोले जा रहे हैं। रक्षा सौदे में कमीशन न मिलने की बौखलाहट क्या होती है, इनके चेहरे पर देखा जा सकता है।''
     

'चौकीदार को गाली देने की प्रतियोगिता चल रही है'

इससे पहले मोदी ने पटना के गांधी मैदान में रैली की। उन्होंने कहा कि गरीब की कमाई खाकर जो (विपक्ष) अपनी कमाई चला रहे थे वे अब चौकीदार से परेशान हैं। इसलिए चौकीदार को गाली देने की कॉम्पिटीशन चल रहा है। आपका यह चौकीदार पूरी तरह से चौकन्ना है। सुरक्षा चाहे गरीब की हो या देश की। देश पर बुरी नजर करने वालों के सामने आपका यह चौकीदार और एनडीए गठबंधन दीवार बनकर खड़ा है। देश की रक्षा-सुरक्षा, गरीब, वंचित, शोषित वर्ग के लिए जितने भी फैसले लिए जा रहे हैं वो डंके की चोट पर लिए जा रहे हैं। बीते 5 वर्ष में जितना गरीबों के जीवन में एनडीए सरकार ने बदलाव लाने का काम किया है वो अभूतपूर्व है।

"सरकार ने करीब 50 करोड़ गरीबों को 5 लाख तक के मुफ्त इलाज की सुविधा से जोड़ा। करीब 35 करोड़ लोगों के बैंक खाते खुलवाए। लगभग 7 करोड़ गरीब बहनों को रसोई गैस कनेक्शन दिया। 30 करोड़ मध्यमवर्ग के भाईयों को इनकम टैक्स से मुक्ति दे दी। डेढ़ करोड़ से अधिक लोगों को अटल पेंशन से जोड़ा है। सामान्य वर्ग के गरीबों को 10% आरक्षण भी एनडीए सरकार ने दिया है। यह बाकी वर्गों के आरक्षण को छेड़े बिना किया गया है।"

'21 पार्टियां एनडीए के खिलाफ निंदा प्रस्ताव लाईं'
मोदी ने कहा, "सरकार आतंक के खिलाफ लड़ रही है। वहीं कुछ लोग क्या क्या कर रहे हैं। वे सेना की आवाज बुलंद करने के बजाय ऐसी ऐसी बातें कर रहे हैं जिनसे दुश्मनों के चेहरे खिल रहे हैं। उनकी फोटो और चेहरे दिखाकर पाकिस्तान में भी तालियां बज रही हैं। आतंक की फैक्ट्रियां चलाने वालों के खिलाफ जब एक सुर में आवाज उठाने की बात चल रही थी। तब 21 पार्टियां दिल्ली में एनडीए के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पास करने के लिए जुटी थीं। उनके इस कृत्य को कोई भी बिहार वासी कभी माफ नहीं करेगा। क्या ऐसे समय पाकिस्तान खुश हो ऐसा पाप यहां करना चाहिए क्या? अब इन्हीं दलों के नेता हमारे वीर जवानों ने जो पराक्रम दिखाया, उस पर संदेह कर रहे हैं।"

"पहले सर्जिकल स्ट्राइक का सबूत मांगा जा रहा था। अब एयर स्ट्राइक का भी सबूत मांग रहे हैं। मैं कांग्रेस और उनके साथी दलों से जानना चाहता हूं कि आखिर क्यों वे हमारे जवानों का मनोबल तोड़ने में लगे हैं। आखिर क्यों कांग्रेस के नेता ऐसे बयान दे रहे हैं जिससे विरोधियों को फायदा हो रहा है।"

'देश जवानों की शहादत का चुन-चुनकर हिसाब ले रहा'

मोदी ने कहा, ''अब भारत वीर जवानों की शहादत पर चुप नहीं बैठता चुन-चुनकर हिसाब लेता है। दुनिया में कहां किससे कैसे बात करनी है, यह देश अच्छी तरह से अनुभव कर रहा है। हाल ही में इस्लामिक देशों की कॉन्फ्रेंस में भारत को सम्मान से बुलाया गया। 50 साल बाद हमारी बात सुनी गई। कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों की सरकार क्यों ऐसे मंचों पर भारत की आजाव को नहीं पहुंचा सकी। उन्हें इसका जवाब देना चाहिए।''

''मैंने सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस से भोज के वक्त कहा कि भारतीयों को हज जाने में दिक्कत हो रही है। इसका कुछ कोटा बढ़ा दीजिए। उन्होंने हमारा कोटा दुनिया में सबसे ज्यादा 2 लाख कर दिया। उनसे कहा कि हमारे कई मुस्लिम छोटी-मोटी गलतियों की वजह से जेल चले जाते हैं। उन्हें वहां का कानून नहीं पता होता है। उन्हें छोड़ दिया जाए। इस पर क्राउन प्रिंस ने शाम को राष्ट्रपति भवन में मुझसे कहा- मोदीजी कुछ मीठा खा लीजिए। सऊदी की जेलों में बंद भारतीय मुसलमानों को हम छोड़ रहे हैं।''

'आओ मिलकर आतंकवाद को खत्म करें'

मोदी ने कहा, ''वे कहते हैं कि आओ मिलकर मोदी को खत्म करें और मोदी कहता है आओ हम सब एक होकर आतंकवाद को खत्म करें। मेरी प्राथमिकता आतंकवाद को खत्म करना है, लेकिन उनकी मोदी को खत्म करना है। मैं कहता हूं आओ हम गरीबी, भ्रष्टाचार, गंदगी, कुपोषण और कालेधन को खत्म करें। नौजवानों के सपने पूरे करें। देश को ऊंचाई पर पहुंचाने के लिए मैं नए रास्ते बना रहा हूं, लेकिन वे मुझे ही रास्ते से हटाने के लिए साजिश रच रहे हैं।''

पटना में मोदी के मंच पर 40 नेता थे
पटना में पहली बार प्रधानमंत्री के साथ 3 दलों के राष्ट्रीय अध्यक्ष मंच साझा किया। इनमें भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, जदयू प्रमुख और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, लोजपा प्रमुख और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान, उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह, लोजपा के प्रदेश अध्यक्ष और मंत्री पशुपति कुमार पारस समेत अन्य 32 केंद्रीय मंत्री शामिल हुए। इससे पहले मोदी ने 27 अक्टूबर 2013 को गांधी मैदान में आयोजित हुंकार रैली में बिहार की जनता को संबोधित किया था। तब मोदी भाजपा की ओर से पीएम पद के प्रत्याशी थे।

Chania