Saturday, May 8th, 2021 Login Here
भोईवाडा की घटना के बाद मंदसौर में पुलिस का फ्लेग मार्च जावरा विधायक से पंगा और मंदसौर के हिस्सें की आॅक्सीजन रोकना भरी पड़ा कलेक्टर को, विधायक सिसोदिया की सीएम के समक्ष कड़ी आपत्ति के बाद विवाह की खुशी में भूल गए लाॅकडाउन के आदेश/ शादि में मेंहमान बन कर पहुंच गऐ एसडीएम और टीआई बीस दिन लाॅकडाउन के बाद भी कोरोना काबू नहीं हुआ तो अब सीएम के निर्देश के बाद मंदसौर में भी शुरु हुआ सख्ती वाला लॉक डाउन कोरोना के तांडव की हकीकत बयां करती मंदसौर के शमशान की सच्चाई ! कोरोना से जंग में भारतीय जैन संघठना ने नृत्य नाटिका के माध्यम से दिया सकारात्मकता का सन्देश रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित,

मंदसौर निप्र। शहर के जमीदार कॉलोनी क्षेत्र में रहने वाले राधेश्याम कुमावत (देतवार)की अहमदाबाद में उपचार के दौरान मौत हो गई, उन्हें सर्दी-जुखाम हुआ था जिसके बाद उन्हें मंदसौर-उदयपुर उपचार के लिए भर्ती कराया गया था, वहां भी स्वास्थ्य में कोई सुधार नही हुआ तो परिजन उन्हें उपचार के लिए अहमदाबाद लेकर पहुंचे थे, शुक्रवार को दोपहर में उनकी मौत हो गई । मिली जानकारी के अनुसार जमीदार कॉलोनी में रहने वाले राधेश्याम पिता नारायण कुमावत ठेकेदारी का कार्य करते थे, लगभग 12 दिन पहले उन्हें साधारण सर्दी-जुखाम हुआ था जिसके बाद परिजनों ने उन्हें शहर के निजी अस्पताल में उपचार के लिए दिखाया था लेकिन उनके स्वास्थ्य में कोई सुधार नही हुआ, जिसके बाद परिजन श्री कुमावत को उदयपुर के गीताजंली अस्पताल में लेकर पहुंचे थे, यहां भी उपचार के बाद भी श्री कुमावत को कोई राहत नही मिली जिसके बाद परिजन उन्हें अहमदाबाद उपचार के लिए लेकर पहुंचे थे। हालाकि श्री कुमावत की मौत स्वाईन फ्लू से हुई इसकी अधिकृत पुष्टि नही हो पाई है, श्री कुमावत का शव लेकर जब परिजन मंदसौर पहुंचेगे उसके बाद ही उनसे चर्चा करने पर इसकी जानकारी हो पाएगी । बताया जाता है कि इससे पूर्व भी जिलें में अब तक आधा दर्जन से अधिक मौत स्वाईन फ्लू से हो चुकी है, हालाकि जिम्मेदार मौत का आंकड़ा कम बता रहे है, लेकिन स्वाईन फ्लू पॉजीटिव   मरीज जिले में इस वर्ष मिले है यह बात स्वास्थ्य विभाग मान रहा है ।




Chania