Monday, May 17th, 2021 Login Here
कोरोना के गंभीर रोगियों का उपचार सर्वसुविधायुक्त बड़े अस्पतालों में होना जरूरी पुलिस और डाक्टर की पकड़ में कोरोना से सुरक्षित आम आदमी लेकिन लापरवाह लोग बन रहे मुश्किल मंदसौर के मनोज ने कर दिया 200 रूपऐ में आॅक्सी फ्लो मीटर का निर्माण वायरल विडियों ने मंदसौर की दादी को बना दिया स्टाॅर मंदसौर जिला चिकित्सालय में अक्षय तृतीया से सीटी स्कैन मशीन से जांच होना हुई प्रारंभ वित्त मंत्री श्री देवड़ा के निर्देश पर गृह मंत्रालय ने मल्हारगढ़ ब्लॉक कोविड-19 आपदा प्रबंधक मैनेजमेंट कमेटी का गठन कलेक्टर द्वारा किया गया *शामगढ़ में 85 वर्ष के बूढे व्यक्ति का घर से मृत अवस्था मे मिला शव* खुशियों की दास्तां /मल्हारगढ़ कोविड केयर सेंटर से आज 3 व्यक्ति स्वस्थ होकर घर गए प्रशासन ने मीटिंग बुलाकर ईद घर पर ही मनाने हेतु समझाइश दी । अपने अपने मोहल्ले मैं सख्ती से कर्फ्यू का पालन करवाना और दवाई वितरण करवाना हम सबकी जवाबदेही है: श्री पँवार *जिले में रक्त स्त्रोतम संस्थान द्वारा कराया गया पहला प्लाज्मा डोनेशन जनसारंगी --प्रसंगवश./ सर्वसमावेशी समाज के संस्थापक भगवान परशुराम. दो लाख खर्च होने के बाद भी नहीं बनी खाद, पिट बन गऐ डस्टबिन हॉटस्पॉट में बेखौफ चल रहीं सब्जी मंडी, लोगों की जमा हो रहीं भीड़ महामारी से निपटने आर्थिक सहयोग में आगे आ रहे नागरिक

 नई दिल्ली । लोकसभा चुनाव में भाजपा की प्रचंड जीत के बाद कांग्रेस पार्टी संकट के दौर से गुजर रही है। जहां एक तरफ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इस्तीफे पर अड़ गए हैं वहीं दूसरी तरफ राजस्थान, मध्यप्रदेश और कर्नाटक में सरकार का संकट उत्पन्न हो गया है। राजस्थान में एक विधायक के इस्तीफे की खबरों के बीच कर्नाटक में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व विधायक केएन रजन्ना ने दावा किया है कि प्रधानमंत्री के शपथ ग्रहण के बाद राज्य की कांग्रेस-जदएस गठबंधन सरकार गिर जाएगी।
 वहीं, कांग्रेस विधायक दल के नेता व पूर्व मुख्यमंत्री सिध्दारमैया ने कहा है कि सरकार मजबूत है और उसे कुछ नहीं होने वाला। उन्होंने 29 मई को अपने पार्टी के विधायक दल की बैठक भी बुलाई है। दूसरी तरफ राज्य में कांग्रेस नेता और मंत्री डीके शिवकुमार ने गांधीगिरी दिखाते हुए कहा है कि मुझे अभी पता लगा कि कौन जीता और कौन हारा, मुझे ज्यादा जानकारी नहीं है। मैं गांधी जी की बातों का पालन करता हूं कि बुरा मत सुनो, बुरा मत देखो और बुरा मत कहो।
मध्यप्रदेश में फ्लोर टेस्ट के बीच हलचल
 मध्यप्रदेश में भी भाजपा ने फ्लोर टेस्ट की मांग की है जिसके बाद राजनीतिक माहौल गर्माया हुआ है। हालांकि, मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सोमवार को एक बार फिर मीडिया से मुखातिब होते हुए कहा कि हमारी सरकार को कोई खतरा नहीं है, अब हो जाए फ्लोर टेस्ट, हम तैयार हैं। वहीं लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार को लेकर कहा है कि सरकार की योजनाओं को हम जनता तक पंहुचा पाए हैं, यह चुनाव अफवाहों का चुनाव रहा है।
राजस्थान में भी खराब हैं हालात
 इन दिनों राजस्थान कांग्रेस में दो फाड़ का माहौल है। हालात ये हैं कि पार्टी के कुछ नेता लोकसभा चुनाव में मिली हार का ठिकरा राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के सिर फोड़ना चाहते हैं। प्रदेश में सीएम विरोधी खेमा सक्रिय हो गया है। जहां रविवार की देर रात को सीएम के निकट बने रहने वाले और प्रदेश के कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने अपने पद से इस्तीफा दिया। वहीं, दूसरी ओर सोमवार को दो कैबिनेट मंत्रियों ने अपनी ही सरकार को कटघरे में खड़ा किया।  
रजन्ना के दावे से मची खलबली
 कांग्रेस नेता रजन्ना ने सोमवार को दावा किया कि जी. परमेश्वर प्रधानमंत्री के शपथ ग्रहण तक ही उपमुख्यमंत्री हैं। उसके बाद न वह मंत्री रहेंगे और न ही गठबंधन सरकार रहेगी। रजन्ना ने आरोप लगाया कि तुमकुरु में परमेश्वर के चलते ही गठबंधन प्रत्याशी व पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा को हार का सामना करना पड़ा। परमेश्वर ने तुमकुरु के लिए कुछ नहीं किया। वहीं, खबरों में कहा जा रहा है कि प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा ने भी दावा किया है कि राज्य सरकार जल्द ही गिर जाएगी। लेकिन सिध्दारमैया ने कहा कि सरकार मजबूत है और उसे कुछ नहीं होने वाला। उन्होंने येदियुरप्पा के गठबंधन के टूटने को लेकर बार-बार किए जा रहे दावे का भी माखौल उड़ाया।
Chania