Sunday, August 1st, 2021 Login Here
छापामार कार्रवाहीं में यूरिया की कालाबाजारी करते पकड़े गऐ व्यापारी जहरीले जाम से बही के चैकीदार की भी मौत, एसआईटी पहुंची जांच के लिए एम्बुलेंस स्टेण्ड पर जमाया निजी टैक्सियों ने कब्जा, पुलिस ने हटवाया मंडी में हम्मालों ने कर दी हड़ताल, चर्चा के बाद काम पर लोटे मंगलवार को बादल हुए साफ, ठण्डक रहीं बरकरार जहरीली शराब कांड, एक के बाद एक तीन और मौतों के बाद आंकड़ा पहंुचा 10 पर सावन का पहला सोमवार, शिवमय हुआ पशुपति का शहर लगातार बारिश से शिवना लबालब, शिव के अभिषेक से दूर रह गई मैय्या अब मंदसौर के आसमान पर उडान भर तैयार होंगें पायलट जहरीली शराब से एक और की मौत, चार गंभीर में से एक रेफर महिनों के बजाय सालों में पूरे हुए सेतु में घटिया निर्माण का टांका फिर भी कार्रवाहीं नहीं शराब पीने के बाद तीन की मौत , चार घायल समर्थ गुरु से जुड़े जीवन मे अज्ञानता होगी दूर -आचार्यश्री आस्था के पुष्प से गुरू को नमन, आज से प्रारम्भ होगी शिवशंकर की आराधना साठ साल बाद गांधीसागर झील का लाभ किसानों को, डेढ़ लाख हेक्टेयर में सिंचाई

अरोरा की याचिका पर न्यायालय का फैसला, कार्यवाहीं पर लगाएं दावा
मंदसौर निप्र। ऑपरेशन माफिया के तहत शहर कोतवाली के सामने स्थित भवन को सुधाकर राव मराठा का बताकर तोड़ना प्रशासन को भारी पड़ सकता है। इस मामलें में भवन स्वामी तुषार अरोरा ने न्यायालय की शरण ली जिसमें न्यायालय ने पाया कि भवन  को गलत तरीके सेतोडा गया है इस मामलें में याचिकाकर्ता चाहें तो दावा लगा सकता है।  साथ ही अब प्रशासन बिना कोई दस्तावेज देखे किसी भी तरह की कार्यवाहीं नहीं करें।
भवन स्वामी तुषार अरोरा ने बताया कि भवन तोड़ने की कार्यवाहीं पर न्यायालय की शरण लेते हुए याचिका दायर की थी। जहां सुनवाई के बाद माननीय न्यायालय ने अपना फैसला सुना दिया जिसमें याचिकाकर्ता को भवन तोड़ने के मामलें में वाद दायर करने के लिये कहा गया है। तुषार अरोरा ने बताया कि भवन तोड़ने के बाद न्यायालय में याचिका के माध्यम से कहा गया था कि भवन से किसी भी अपराधी का कोई लेना देना नहीं है। इसे  निर्धारित अनुमति लेने के बाद ही बनाया गया था फिर भी करीब 6 माह  पहले नगर पालिका को पत्र देकर अवगत कराया था कि यदि कोई निर्माण अनुमति से अधिक हुआ है तो उसे तोड़ने के लिये और निर्धारित जूर्माना भरने के लिये तैयार है, अधिक निर्माण को चिन्हित कर दिया जाये। लेकिन इस पत्र पर कोई कार्यवाहीं नहीं की गई। अब अचानक से पूरे भवन को ही तोड़ दिया गया जबकी भवन को निर्धारित अनुमति लेने के बाद ही बनाया गया था।
याचिका कर्ता अरोरा ने याचिका में यह भी संभावना जताई थी कि उसके द्वारा कानूनी कार्यवाहीं करने के दौरान प्रशासन और भी कार्यवाहीं उस पर कर सकता है इसके  लिये भी न्यायालय ने कहा कि बिना दस्तावेजों का अध्ययन किये अब याचिकाकर्ता पर अब किसी भी तरह की कार्यवाहीं नहीं की जाये। उल्लेखनिय है कि इस भवन की विभिन्न दूकानों में व्यापार करने वाले अन्य दूकानदारों ने भी पिछले दिनों विधायक यशपालसिंह सिसोदिया के साथ पुलिस कप्तान से मुलाकात की थी और कार्यवाहीं को गलत बताते हुए फिर से निर्माण की अनुमति मांगी थी।

Chania