Sunday, August 1st, 2021 Login Here
छापामार कार्रवाहीं में यूरिया की कालाबाजारी करते पकड़े गऐ व्यापारी जहरीले जाम से बही के चैकीदार की भी मौत, एसआईटी पहुंची जांच के लिए एम्बुलेंस स्टेण्ड पर जमाया निजी टैक्सियों ने कब्जा, पुलिस ने हटवाया मंडी में हम्मालों ने कर दी हड़ताल, चर्चा के बाद काम पर लोटे मंगलवार को बादल हुए साफ, ठण्डक रहीं बरकरार जहरीली शराब कांड, एक के बाद एक तीन और मौतों के बाद आंकड़ा पहंुचा 10 पर सावन का पहला सोमवार, शिवमय हुआ पशुपति का शहर लगातार बारिश से शिवना लबालब, शिव के अभिषेक से दूर रह गई मैय्या अब मंदसौर के आसमान पर उडान भर तैयार होंगें पायलट जहरीली शराब से एक और की मौत, चार गंभीर में से एक रेफर महिनों के बजाय सालों में पूरे हुए सेतु में घटिया निर्माण का टांका फिर भी कार्रवाहीं नहीं शराब पीने के बाद तीन की मौत , चार घायल समर्थ गुरु से जुड़े जीवन मे अज्ञानता होगी दूर -आचार्यश्री आस्था के पुष्प से गुरू को नमन, आज से प्रारम्भ होगी शिवशंकर की आराधना साठ साल बाद गांधीसागर झील का लाभ किसानों को, डेढ़ लाख हेक्टेयर में सिंचाई

टिगरिया में आवंटित भवनों का सत्यापन करेगी नगर पालिका,पुलिस ने लिखा खत
मंदसौर जनसारंगी।
सरकार ने शहरी गरीबों का उत्थान करने और उन्हें झोपडपट्टियों से निकालने के लिये मंदसौर के टिगरिया में 500 मकानों की आवासिय बस्ती का निर्माण कर गरीबों को सस्ती दरों पर मकान उपलब्ध कराये लेकिन गरीबों ने इन मकानों को लेने के बाद भी झोपडियों को खाली नहीं किया और सरकार की योजना में मिले मकानों को किराये पर चढा दिया जिसके चलते यह मकान अपराधिक लोगों की शरणस्थली बन गये और यहां से अपराधिक घटनाऐ होने लगी। यह तथ्य आने के बाद पुलिस ने अब इन मकानों में रहने वाले लोगों का सत्यापन करने के लिये नगर पालिका को पत्र लिखा जिसके बाद अब नगर पालिका इन मकानों में रह रहे लोगों का भौतिक सत्यापन करेगी ।
मंदसौर में हो रहीं अपराधिक घटनाओं में असामाजिक तत्वों का कनेक्शन हर बार अलावदाखेडी और टिगरिया क्षेत्र से ही आ रहा है। ऐसे में साफ है कि अलावदाखेड़ी तो पहले से आपराधिक लोगों की शरणस्थली रहा है। वहीं, टिगरिया का नाम भी इससे अछूता नहीं रहा है। कई असमाजिक तत्चों के लोग यहां रह रहे है, जिसके बाद अब पुलिस प्रशासन कमर कस ली है। पुलिस प्रशासन द्वारा नगर पालिका को पत्र लिख टिगरिया में रह रहे नागरिकों का सत्यापन करने की बात कहीं। केन्द्र की आईएचएसडीपी (एकीकृत आवास और मलिन बस्ती विकास कार्यक्रम) योजना के तहत लगभग 12 करोड़ रुपए में नपा ने झुग्गियों में रहने वाले परिवारों के लिए टिगरिया में 500 मकान बनाए थे। फरवरी 2016 में लाटरी से हितग्राहियों को मकान आवंटित किए गए थे। लेकिन वर्तमान में 500 क्वार्टर टिगरिया में कई लोग ऐसे रह रहे हैं जिनके नाम से मकान का आवंटन ही नहीं है। यह क्वार्टर जिन लोगों के नाम से आवंटित हुए थे, उन्होंने अन्य लोगों को दे दिए हैं। तमाम प्रकार की आपराधिक गतिविधियां यहां रही है। टिगरिया के हर मकान का और वहां रह रहे लोगों का भौतिक सत्यापन किया जाना चाहिए। साथ ही जिसके नाम से आवंटन है वह मौके पर नहीं मिल रहा है तो उनका आवंटन निरस्त करना चाहिए। ताकि अपराधों की रोकथाम और असामाजिक तत्वों पर नकेल कसी जा सके।
10 बाईक और दो कारें मिली थी
टिगरिया में बड़तें अपराधों का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि पूर्व में पुलिस ने यहां पर छापेमार कार्रवाई में 10 बाईक और दो संदिग्ध कारें जप्त की थी। विहिप नेता युवराज सिंह चैहान की हत्या के मामले में फरार आरोपियों से संबंध रखने वाले टिगरिया स्थित पांच सौ क्वार्टर निवासी करीब 20 लोगों को पुलिस ने चिह्िंत कर प्रशासनिक टीम के साथ छापेमार कार्रवाई की थी। जिसके बाद आरोपी तो नहीं मिले लेकिन बगैर कागजात के 10 बाइक और दो कार मिली। इसमें एक कार दमन द्विप और एक अन्य राज्य की पासिंग की मिली। इससे साफ जाहिर होता है कि यहां आप आ रहे अन्य राज्यों के अपराधिक लोगों को फरारी भी कटाई जाती है। ऐसे में पुलिस प्रशासन ने नगर पालिका भौतिक सत्यापन के पत्र लिखा है।  


Chania