Sunday, August 1st, 2021 Login Here
छापामार कार्रवाहीं में यूरिया की कालाबाजारी करते पकड़े गऐ व्यापारी जहरीले जाम से बही के चैकीदार की भी मौत, एसआईटी पहुंची जांच के लिए एम्बुलेंस स्टेण्ड पर जमाया निजी टैक्सियों ने कब्जा, पुलिस ने हटवाया मंडी में हम्मालों ने कर दी हड़ताल, चर्चा के बाद काम पर लोटे मंगलवार को बादल हुए साफ, ठण्डक रहीं बरकरार जहरीली शराब कांड, एक के बाद एक तीन और मौतों के बाद आंकड़ा पहंुचा 10 पर सावन का पहला सोमवार, शिवमय हुआ पशुपति का शहर लगातार बारिश से शिवना लबालब, शिव के अभिषेक से दूर रह गई मैय्या अब मंदसौर के आसमान पर उडान भर तैयार होंगें पायलट जहरीली शराब से एक और की मौत, चार गंभीर में से एक रेफर महिनों के बजाय सालों में पूरे हुए सेतु में घटिया निर्माण का टांका फिर भी कार्रवाहीं नहीं शराब पीने के बाद तीन की मौत , चार घायल समर्थ गुरु से जुड़े जीवन मे अज्ञानता होगी दूर -आचार्यश्री आस्था के पुष्प से गुरू को नमन, आज से प्रारम्भ होगी शिवशंकर की आराधना साठ साल बाद गांधीसागर झील का लाभ किसानों को, डेढ़ लाख हेक्टेयर में सिंचाई

नपा ने फिर शुरू की चालानी कार्यवाहीं
मंदसौर जनसारंगी।
मंदसौर में कोरोना पॉजीटिव का आंकड़ा 1 हजार पार हो गया है लेकिन अभी भी लोगों में कोरोना को लेकर कोई डर नहीं है। हालत यह है कि लोग सड़क पर निकल रहे है तो बिना मास्क लगाएं और सौश्यल डिस्टेसिंग का भी ख्याल नहीं रख रहे है। बिना वजह भीड़ में खड़े भी रहे है। ऐसे में गुरूवार को नगर पालिका ने शहर में चालानी कायवाहीं की और लोगों को हिदायत भी दी।
मंदसौर के बाजारों से लेकर विभिन्न बैंक और अन्य कार्यालयों तक में भारी भीड़ उमड़ रहीं है। कोई भी कोरोना से बचने के लिये सावधानी नहीं बरत रहे है जबकी कोरोना सावधानी ही बचाव है। कोरोना से बचना है तो मास्क लगाना पड़ेगा, सौश्यल डिस्टेसिंग यानी 6 फीट की दूरी के नियम का पालन करना पड़ेगा तभी इससे बचा  जा सकता है। लेकिन लोग सावधानी रखने को ही तैयार नहीं है। कोई भी भीड़ से बचने का प्रयास नहीं कर रहा बल्कि लोग तो भीड़ का हिस्सा बन रहे है। शहर में घूम रहे है तो भी बिना मास्क लगाएं। कई लोग तो ऐसे है तो केवल कार्यवाहीं के डर से ही मास्क लगा रहे है। बाजार में बिना मास्क के घूम रहे है ना हाथ धो रहे है और ना ही सेनेटाईज कर रहे है।मंदसौर की कई बैकों से लेकर कार्यालयों और दूकानों तक यहीं स्थिति बनी हुई है जिसे देखकर ऐसा लगने लगा है कि शायद कोरोना खत्म हो गया या फिर अब लोगों को लगने लगा कि कोरोना से उनका कुछ होने वाला नहीं है। जबकी कोरोना मरीजों की बढती संख्या ही डरावनी है। करीब डेढ़ दर्जन से ज्यादा लोग कोरोना के कारण असमय दुनिया छोड़ चूके है। पॉजीटिव मरीजों की संख्या 1हजार को पार कर चूकी है एक्टिव केस 250 पार हो चूके है लेकिन लोगों को डर नहीं लग रहा है।
हालांकि कोरोना के वाहक बनने में सबसे ज्यादा योगदान चंद राजनैताओं का भी है। सरकार खुद कोरोना से बचने की गाईड लाइन बना रहीं है सरकार के मंत्री से लेकर दूसरे जनप्रतिनिधी तक इस गाईड लाईन की धज्ज्ािया उडा रहे है जिसके कारण भले ही मांगलिक आयोजन ओर मृत्यु आयोजनों पर संख्या एकत्रित करने पर प्रतिबंध है लेकिन राजनीतिक आयोजनों पर किसी तरह का कोई प्रतिबंध नहीं है। नेता नगरी लगातार भीड एकत्र कर रहीं है जनसम्पर्क और सभाएं की जा रहीं है लेकिन इसे प्रशासन भी नहीं रोक रहा है और आम आदमी खुद भी इस भीड का हिस्सा बनने से खुद को बचा रहा है।


Chania