Sunday, August 1st, 2021 Login Here
छापामार कार्रवाहीं में यूरिया की कालाबाजारी करते पकड़े गऐ व्यापारी जहरीले जाम से बही के चैकीदार की भी मौत, एसआईटी पहुंची जांच के लिए एम्बुलेंस स्टेण्ड पर जमाया निजी टैक्सियों ने कब्जा, पुलिस ने हटवाया मंडी में हम्मालों ने कर दी हड़ताल, चर्चा के बाद काम पर लोटे मंगलवार को बादल हुए साफ, ठण्डक रहीं बरकरार जहरीली शराब कांड, एक के बाद एक तीन और मौतों के बाद आंकड़ा पहंुचा 10 पर सावन का पहला सोमवार, शिवमय हुआ पशुपति का शहर लगातार बारिश से शिवना लबालब, शिव के अभिषेक से दूर रह गई मैय्या अब मंदसौर के आसमान पर उडान भर तैयार होंगें पायलट जहरीली शराब से एक और की मौत, चार गंभीर में से एक रेफर महिनों के बजाय सालों में पूरे हुए सेतु में घटिया निर्माण का टांका फिर भी कार्रवाहीं नहीं शराब पीने के बाद तीन की मौत , चार घायल समर्थ गुरु से जुड़े जीवन मे अज्ञानता होगी दूर -आचार्यश्री आस्था के पुष्प से गुरू को नमन, आज से प्रारम्भ होगी शिवशंकर की आराधना साठ साल बाद गांधीसागर झील का लाभ किसानों को, डेढ़ लाख हेक्टेयर में सिंचाई

केवल कागजों में प्रतिबंध नहीं बचा पा रहा पक्षियों की जान
मंदसौर जनसारंगी।

कल मकर संक्राति का पर्व है जिसमें चायनिज मांजे का उपयोग भी होता है इसे रोकने के लिए प्रशासन ने कागजों में चाइना डोर पर प्रतिबंध लगा दिया है लेकिन हकीकत की जमी से आसमान में रोज चायनिज मांजे से पतंगे उड़ रहीं है जो पक्षियों की जान पर आफत बनी हुई है। मांझे से घायल होकर मंगलवार को नई आबादी कंबल केनद्र रोड़ स्थित एक मकान की छत पर खून से लथपथ कबूतर आ गिरा ऐसे में समाजसेवी कृष्णराव भाले ने जब छत पर खून से लथपथ व मांझे में उलझो कबूतर को तड़पते देखा तो तत्काल पक्षी प्रेमी व सामाजिक कार्यकर्ता ओम बडोलिया को सूचना दी।
युवा दिवस पर पक्षि और पशु पे्रेमी ओम बडोलिया ने मुक पक्षियों की सेवा की मीसाल पेश की उन्होंने खून से लथपथ पक्षी के बारे में जैसे ही जानकारी मिली चंद मिनटों में ही वे वहां पहुंच गये और घायल कबूतर को पहले चाईना मांझे की उलझन से निकाला और उसके शरीर के घाव से खून साफ किया और उसका दवाई छिड़कर पूरा उपचार किया। कबूतर के उपचार हेतु उपयोग में आने वाली दवाओं का खर्च में से कुछ राशि भाले ने देने की पहल की इस पर बडोलिया ने मना कर दिया और एक बार फिर पशु प्रेम को सार्थक किया। उल्लेखनिय है कि इससे पहले उन्होने सबसे पहले बर्ड फ्लु से लगातार कबुतरों की मौत का मामला उठाया था और उससे पहले घायल ऊंट को भी उपचार के लिए राजस्थान भिजवाएं जाने की पहल की थी।

Chania