Sunday, August 1st, 2021 Login Here
छापामार कार्रवाहीं में यूरिया की कालाबाजारी करते पकड़े गऐ व्यापारी जहरीले जाम से बही के चैकीदार की भी मौत, एसआईटी पहुंची जांच के लिए एम्बुलेंस स्टेण्ड पर जमाया निजी टैक्सियों ने कब्जा, पुलिस ने हटवाया मंडी में हम्मालों ने कर दी हड़ताल, चर्चा के बाद काम पर लोटे मंगलवार को बादल हुए साफ, ठण्डक रहीं बरकरार जहरीली शराब कांड, एक के बाद एक तीन और मौतों के बाद आंकड़ा पहंुचा 10 पर सावन का पहला सोमवार, शिवमय हुआ पशुपति का शहर लगातार बारिश से शिवना लबालब, शिव के अभिषेक से दूर रह गई मैय्या अब मंदसौर के आसमान पर उडान भर तैयार होंगें पायलट जहरीली शराब से एक और की मौत, चार गंभीर में से एक रेफर महिनों के बजाय सालों में पूरे हुए सेतु में घटिया निर्माण का टांका फिर भी कार्रवाहीं नहीं शराब पीने के बाद तीन की मौत , चार घायल समर्थ गुरु से जुड़े जीवन मे अज्ञानता होगी दूर -आचार्यश्री आस्था के पुष्प से गुरू को नमन, आज से प्रारम्भ होगी शिवशंकर की आराधना साठ साल बाद गांधीसागर झील का लाभ किसानों को, डेढ़ लाख हेक्टेयर में सिंचाई

आज होने वाली थी बसों की हड़ताल, परिवहन मंत्री के आश्वासन से टली
मंदसौर जनसारंगी।
डीजल के दाम में लगातार बढ़ोतरी और किराया निर्धारण बोर्ड की बैठक में किराए बढ़ोतरी का प्रस्ताव पास होने के चार महीने के बाद भी किराया नहीं बढ़ाने से नाराज बस मालिकों ने  26 फरवरी को हड़ताल पर जाने का ऐलान किया, हड़ताल शुरू होती इससे पहले सरकार झूक गई और 1 मार्च से बसों का किराया बढ़ाऐ जाने की घोषणा कर दी। हालांकि किराया कितना बढेगा यह अभी तय नहीं है लेकिन इतना तय हो गया कि दो दिन बाद से प्रदेश के नागरिकों को बढ़े हुए किराए का झटका लगना तय है। उल्लेखनिय है कि आज 26 फरवरी की सुबह 5 बजे से 27 फरवरी को सुबह 5 बजे तक रहने वाली हड़ताल के कारण बसे बंद रहने वाली ।
किराए में बढ़ोतरी को लेकर चार महीने पहले अक्टूबर में भोपाल में किराया बोर्ड की बैठक हुई थी। परिवहन सचिव की मौजूदगी में हुई बैठक में बस किराया 1 रूप्ए से बढ़ाकर 1.50 रूपए प्रति किलोमीटर करने और पहले 5 किलोमीटर पर 10 रूपए किराए करने का प्रस्ताव पास हो चुका है। इसके बाद सीएम और परिवहन  मंत्री का अनुमोदन होना था लेकिन चार महीने बाद भी अनुमोदन नहीं हुआ। इससे बस किराया ढाई साल से ज्यादा समय से एक रूप्ए किलोमीटर ही है। जबकि डीजल केदाम हर दिन बढ़ रहे हैं। ऐसे में बस का संचालन लगातार महंगा हो रहा है। इससे अब बस मालिकों ने हड़ताल पर जाने का फैसला लिया बस मालिकों का कहना है कि मई 2018 में बस किराए में प्रति किलोमीटर 8 पैसे की बढ़ोतरी हुई थी। इससे बस किराया 92 पैसे से बढ़कर 1 रूपए प्रति किलोमीटर हो गया था। उस दौरान डीजल के भाव 67.60 रूपए प्रति लीटर थे। आज डीजल के भाव 89.30 रूप्ए प्रति लीटर है। लेकिन फिर भी अभी तक किराया नहीं बढ़ा है। इससे बस मालिकों को आर्थिक नुकसान हो रहा है इसी को लेकर मालिकों में नाराजगी है।
मालिकों पर पढ़ रहा खर्चे का बोझ
बस मालिकों के एलान के मुताबिक हड़ताल शुरू होती इससे पहले ही परिवहन मंत्री गोविन्दसिंह राजपूत ने 1 मार्च से बसों का किराया बढ़ाए जाने का ऐलान कर दिया।राजपूत ने कहा कि बस ऑपरेटर लंबे समय से किराया बढ़ोतरी की मांग कर रहे थे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान के साथ बैठक में चर्चा के बाद निर्णय लिया गया है। किराया कितना बढ़ेगा, अभी यह तय नहीं है। राजपूत ने कहा कि बस संचालक और यात्रियों की सहमति से किराया बढ़ाना तय किया जाएगा। बता दें, प्रदेश के बस ऑपरेटरों ने 26 और 27 फरवरी को सांकेतिक बंद का ऐलान किया था। इसमें उनकी प्रमुख मांग लंबे समय से किराया में बढ़ोतरी नहीं होना ही थी, जबकि डीजल और अन्य खर्चे बढ़ने का बोझ उन पर पड़ रहा है।
सभी बसे चलेगी
मंदसौर जिला बस एसोसिएशन के अध्यक्ष शिखरचंद रातडिया ने बताया कि प्रदेश स्तर पर लिए गये निर्णय अनुसार डीजल, स्पेअर, टाॅयर के भावों में भारी बढ़ोतरी एवं परिवहन विभाग, पुलिस विभाग द्वारा भारी चैकिंग एवं किराया वृृद्धि को लेकर मंदसौर में भी हड़ताल का ऐलान किया गया था लेकिन परिवहन मंत्री के बाद प्रदेश स्तर से ही हड़ताल निरस्त कर दी गई है जिसके कारण आज मंदसौर में भी हड़ताल नहीं रहेगी और सभी बसों का संचालन यथावत होगा।
300 से ज्यादा बसों का संचालन रोजाना
डीगांव, नाहरगढ, सीतामऊ, सुवासरा, शामगढ़, गरोठ, भानपुरा से लेकर गांधीसागर तक बसों का संचालन होता है।
दलौदा, नगरी, भावगढ़, करजू, अफजलपुर, धुंधड़का, धमनार के अलावा जावरा रतलाम, इंदौर और आगे तक बसों का संचालन होता है।
पिपलियामंडी, नारायणगढ़, मल्हारगढ़ से लेकर नीमच तक बसों का संचालन होता है।


Chania