Sunday, February 25th, 2024 Login Here
गरीब के जीवन से कष्टों को मिटाना प्रदेश सरकार का लक्ष्य-डॉ यादव चिकित्सक पर हुई कार्रवाहीं का डाक्टरों व सिंधी समाज ने किया विरोध किरायेदारों से अनजान पुलिस, मकान मालिक भी लापरवाह नवनिर्वाचित राज्यसभा सांसद बंशीलाल जी गुर्जर का मंदसोर शहर में होगा भव्य स्वागत ट्रक में लहसुन के नीचे छुपाकर रख 1031 किलो डोडाचूरा जब्त, ड्राइवर गिरफ्तार मुख्‍यमंत्री डॉ.मोहन यादव आज नीमच में 752 करोड से अधिक के कार्यो का लोकार्पण एवं भूमिपूजन करेंगे 36 घंटे में पुलिस ने किया अन्तरॉज्जीय लूटेरों को गिरफ्तार मदिरा दुकानों के नवीनीकरण आवेदन 22 फरवरी तक करें पांच साल के इंतजार के बाद आज से मंदसौर में प्रारंभ होगा पासपोर्ट कार्यालय मध्यप्रदेश से राज्यसभा के पांचों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित; 4 सीट बीजेपी, एक कांग्रेस के खाते में 133 किमी लंबे मार्ग में 14 किमी लंबा दूसरा रेलवे ट्रैक तैयार साँप भगाने के लिए टैंक में पेट्रोल डाला, तीली जलाते ही धमाका हुआ, दम्पत्ति झुलसे नदियॉ को छलनी करने का खेल चल रहा,माफियाओं पर नही लग पा रही नकेल सिंगिग स्टार बनने के चक्कर मे लोग हो रहे शिकार संसद रत्न पुरस्कार से सम्मानित होने वाले सांसदों को राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने बधाई दी

  एक लंबे समय से ना केवल हम बल्कि पूरा विश्व इस महामारी से परेशान है। त्योहारों की रोनक भी फीकी नजर आ रही है परंतु हमें इस तरह हार नहीं मानना है। जिस तरह होलीका भक्त प्रहलाद का कुछ नहीं बिगाड़ पाई थी उसी तरह कोरोना की इस होली में अगर हम यह चाहते हैं  की हम भी सुरक्षित बचे रहें तो हमें मास्क का  उपयोग करना है, कुछ सावधानियां बरतनी है और इस  महामारी को हराना है। हम कोरोना को हरा सकते हैं परंतु लापरवाही से नहीं बल्कि गाइडलाइन का पालन करके।
*इस होली पर हम बाहर से रंग चाहे नहीं लगा पाए तो भी हमारे मन के रंग कभी फीके नहीं पढ़ना चाहिए और यही असल की होली है।* 
आज के समय में  होली मनाने की जो फूहड़ परंपरा चल निकली है, परंपरा तो क्या इसे मनमानी कहा जा सकता है। आज का युवा वर्ग केमिकल के रंग इस्तेमाल कर, कीचड़ लगाकर, अपने साथियों को नाली में गिरा कर  होली मनाते हैं।  यह किसी भी दृष्टिकोण से सही नहीं है इसका सीधा असर हमारे स्वास्थ्य पर पड़ता है और स्वास्थ्य की ही लड़ाई आज पूरा विश्व लड़ रहा है ।इसे अवसर समझ कर हम यह शपथ ले सकते है कि इस महामारी के बाद से हम केमिकल और गंदे कीचड़ का इस्तेमाल ना कर रंगों के महोत्सव को शुद्ध सात्विक रंगों से ही मनाएंगे और त्योहारों के महत्व को समझेंगे।
   हमारी भारतीय संस्कृति में प्रत्यैक त्योहार का अपना एक विशेष महत्व है और यह रंगो का महोत्सव यही सिख देता है कि हम सभी के जीवन में नित नवीन रंगों का सृजन हो, नवीन ऊर्जा का संचार हो । 
आप सभी को रंगोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई 
सुनीता देशमुख 
सामाजिक कार्यकर्ता 
पूर्व सदस्य -मध्य प्रदेश राज्य महिला आयोग ,भोपाल
Chania