Friday, June 18th, 2021 Login Here
दो दिन में चार लोगों ने कर ली आत्महत्या/ एक ही दिन में तीन ने मौत को गले लगाया 200 वैक्सीन लगना थी लेकिन 100 ही लगी, ग्रामिणों ने किया हंगामा कलेक्टर ने किया मिनी गोवा यानी कंवला के हर संभव विकास का वादा आरक्षक की मानवता/ घायल को अस्पताल पहुंचाया और घटनास्थल से मिले दस हजार भी लोटाऐ राजाधिराज के पट खुलते ही आराध्य के दर्शन कर हर्षित हुए श्रृद्धालु कोरोना के सक्रिय संक्रमित 24 बचें लेकिन फिर मिला ब्लेक फंगस का संदिग्ध मरीज वैक्सीन लगवाने के बाद मंदसौर के राजाराम ने किया शरीर पर स्टील चिपकने का दावा धर्मातंरण की सूचना के बाद पुलिस और प्रशासन ने खंगाली जेल बारिश से पहले हर बार नोटिस लेकिन सालों से नपा सूची से नाम ही नहीं हट रहे नेहरू बस स्टेण्ड हुआ विरान, उत्कृष्ट स्कूल मैदान में हुआ बसों का बसेरा छोटी पुलिया पर खड़े युवकों से 50 ग्राम स्मैक बरामद चैकिंग में हाथ लगी वाहन चोरों की गैंग, दो आरोपियों से तीन बाईक बरामद आज से राजाधिराज के दरबार में श्रृद्धालुओं को प्रवेश खुले शॉपिंग मॉल, जिम और रेस्टोरेंट, 62 दिन बाद लौटी रौनक कोरोना में सैकड़ों लोगों को खोने के बाद भी हवा की कीमत समझ नहीं आ रही

परिजन सिलेंण्डर लेकर भरवाने के लिए हो रहे परेशान, निजी अस्पताल भी मंगवा रहे परिजनों से ही
मंदसौर जनसारंगी

मंदसौर में आॅक्सीजन की आपूर्ति के लिए हर दिन आॅक्सीजन आने का दावा किया जा रहा है लेकिन हकीकत यह है कि लोग आॅक्सीजन के लिए लगातार परेशान हो रहे है। ना तो अस्पतालों में भर्ती मरीजों के लिए आॅक्सीजन की पूर्ति हो पा रहीं है और ना ही घरों में आईसोलेट मरीजों को जरूरत पढने पर आॅक्सीजन मिल रहीं है। हालत यह कि मरीज के परिजनों को जहां से भी आॅक्सीजन भरे जाने के बारे में खबर लगती है वे खाली सिलेंण्डर लेकर पहुंच रहे है लेकिन वहां जाने के बाद भी उन्हें निराशा ही मिल रहीं है।
मंदसौर में इस वक्त कोरोना के मरीज जिस तेजी से बढ रहे है अधिकांश मरीजों को आॅक्सीजन की जरूरत लग रहीं है। इसके लिए  प्रशासन ने पूरे जिले भर से आॅक्सीजन के खाली सिलेंण्डर एकत्र कर लिए, आॅक्सीजन भरने वालों को भी अधिग्रहित कर लिया। इसी बीच मंदसौर के जिला चिकित्सालय मे आॅक्सीजन का प्लांट भी चालु हो गया हालांकि वहां से अभी केवल 45 बेड पर ही आॅक्सीजन की आपूर्ति हो रहीं है।  लेकिन बाहर से लगातार आॅक्सीजन की आपूर्ति किए जाने के दावे हो रहे है जबकी हकीकत यह है कि पूरे शहर में मरीजों के परिजन आॅक्सीजन के खाली बाॅटले ले कर उन्हें भरवाने के लिए घूम रहे हैं । क्योंकि मंदसौर के निजी अस्पतालों के पास भी आॅक्सीजन नहीं है जिसके कारण वे मरीज को भर्ती करने से पहले ही कह रहे है कि आॅक्सीजन का इंतजाम उन्हें ही करना पडेगा । इसके अलावा कई लोग ऐसे भी है जिन्हें घरों में आॅक्सीजन की आवश्यकता पढ रही है क्योंकि अस्पतालों में जगह है नहीं ऐसे में कई मरीज घर में ही अपना उपचार करवा रहे है। बावजूद उन्हें आॅक्सीजन नहीं मिल पा रहीं है। उधर अस्पतालों में भी लगातार मौत के आंकड़े भयावह सामने आ रहे है। इनके पीछे भी आॅक्सीजन और इंजेक्शन की कमी बताई जा रहीं है।
ऐसे में बडा सवाल उठ रहा है कि यदि हर दिन आॅक्सीजन की आपूर्ति समुचित होने के दावे सहीं है तो फिर मरीजों के परिजनों को आॅक्सीजन के लिए भटकना क्यों पड़ रहा है। ऐसे में प्रशासन को पुख्ता व्यवस्था करनी चाहिए ताकी जो मरीज निजी अस्पतालों में भर्ती है अथवा जिन्हें घर पर आॅक्सीजन की आवश्यकता है उन्हें एक नियमावली के तहत आसानी से आॅक्सीजन उपलब्ध हो जाऐ ताकी परिजनों को जगह-जगह भटकना नहीं पडे।
Chania