Friday, June 18th, 2021 Login Here
दो दिन में चार लोगों ने कर ली आत्महत्या/ एक ही दिन में तीन ने मौत को गले लगाया 200 वैक्सीन लगना थी लेकिन 100 ही लगी, ग्रामिणों ने किया हंगामा कलेक्टर ने किया मिनी गोवा यानी कंवला के हर संभव विकास का वादा आरक्षक की मानवता/ घायल को अस्पताल पहुंचाया और घटनास्थल से मिले दस हजार भी लोटाऐ राजाधिराज के पट खुलते ही आराध्य के दर्शन कर हर्षित हुए श्रृद्धालु कोरोना के सक्रिय संक्रमित 24 बचें लेकिन फिर मिला ब्लेक फंगस का संदिग्ध मरीज वैक्सीन लगवाने के बाद मंदसौर के राजाराम ने किया शरीर पर स्टील चिपकने का दावा धर्मातंरण की सूचना के बाद पुलिस और प्रशासन ने खंगाली जेल बारिश से पहले हर बार नोटिस लेकिन सालों से नपा सूची से नाम ही नहीं हट रहे नेहरू बस स्टेण्ड हुआ विरान, उत्कृष्ट स्कूल मैदान में हुआ बसों का बसेरा छोटी पुलिया पर खड़े युवकों से 50 ग्राम स्मैक बरामद चैकिंग में हाथ लगी वाहन चोरों की गैंग, दो आरोपियों से तीन बाईक बरामद आज से राजाधिराज के दरबार में श्रृद्धालुओं को प्रवेश खुले शॉपिंग मॉल, जिम और रेस्टोरेंट, 62 दिन बाद लौटी रौनक कोरोना में सैकड़ों लोगों को खोने के बाद भी हवा की कीमत समझ नहीं आ रही

कालाबाजारी की खबरों से व्यथित होकर किया नवाचार, कई मरीज हो रहे लाभांवित
मंदसौर जनसारंगी।

कहते है जहां चाह होती है वहीं राह मिल जाती है। इन दिनों कोरोना का संकट चल रहा है जिसमें आॅक्सीजन, रेमडेसिविर इंजेक्शन सहित तमाम जरूरी चीजों का अभाव है जो कोरोना के उपचार में बेहद अहम् मानी जा रहीं है इसी के चलते आपदा में अवसर तलाशने वालों की भी कमी नहीं है। लेकिन इन्हीं अवसर खोरों के बीच में मौजूद है दिल में सेवा का जज्बा का रखने वाले सख्श...! जो अपना तन,मन, धन न्यौछावर कर आपदा में सेवा के अवसर तलाश रहे है इन्हीं में से एक है मंदसौर के युवा मनोज मेहता जिन्होंने कोरोना मरीजों को आॅक्सीजन चढाने के उपयोग में आने वाले आॅक्सीजन फ्लो मीटर की कालाबाजारी की खबरे सूनी तो व्यथित हो गऐ और यहीं से उनके अंदर की कला ने काम करना शुरू कर दिया और चंद दिनों की मेहनत में ही उन्होंने आॅक्सीमीटर का निर्माण सिख लिया वह भी घर बैठे सामान्य से साजो-सामान के साथ जो केवल 200 रूपऐ में ही तैयार हो जाता है। इस आॅक्सीफ्लोमीटर को वे मरीजों को निःशुल्क उपलब्ध करा रहे है जिससे मंदसौर के कई कोरोना मरीज लाभाविंत भी होने लगे है।
अशोक टाॅकीज रोड़ पर मेहता इलेक्ट्रानिक्स के नाम से व्यापार करने वाले युवा मनोज मेहता अपने सहज और सरल व्यवहार के कारण शहर में एक अभिन्न पहचान रखते है उन्हें नजदीक से जानने वाले उनके इस व्यवहार के सदैव कायल रहते है लेकिन इस बार मनोज मेहता ने जो कर दिखाया है उससे उन्होंने पूरे शहर का दिल जीत लिया है। दरअसल पिछले कुछ दिनों से कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते आॅक्सी फ्लो मीटर की काफी मांग हो गई थी जिसके कारण महज 800 रूपऐ में मिलने वाला फ्लो मीटर बाजार से गायब हो गया और कालाबाजारी में 8 हजार रूपयों तक में बिक रहा था जिसे जरूरत मंद मरीज के परीजन इतने महंगे दामों में भी खरीद रहे थे। क्योंकि उन्हें अपनों की जान बचाने की चिंता थी इसी बीच मंदसौर के युवा मनोज मेहता ने जब आॅक्सी फ्लोमीटर की कालाबाजारी की खबर सूनी तो वे व्यथित हो गऐं, यहीं से उन्होंने आॅक्सी फ्लोमीटर का निर्माण करने की ठान ली। उन्होंने विभिन्न माध्यमों से यह पता लगाया कि आॅक्सी फ्लोमीटर किस तरह से काम करता है। इसके बाद उन्होंने अपने दोस्तों और अन्य परिचितों की मदद लेकर नल के पाईल फिटिंग और वाॅटर प्यूरिफाईड के सामानों से आॅक्सीजन फ्लोमीटर का निर्माण कर लिया। इसकी लागत केवल 200 रूपऐ आ रहीं है और मनोज इसे जरूरतमंदों को निःशुल्क उपलब्ध करा रहे है।
मनोज मेहता बनाते है कि आॅक्सीजन फ्लोमीटर की मरीजों को बहुत ज्यादा आवश्यकता थी लेकिन बाजार में यह उपलब्ध नहीं हो रहा था कालाबाजारी में महंगे दामों में मरीज के परिजन खरीदने को मजबूर थे, ऐसी खबरों के बाद नल के पाईप और वाॅटर प्यूरीफाईड से आॅक्सीजन फ्लोमीअर का निर्माण किया इस आॅक्सीमीटर में एक कनेक्टर जोड़कर दो मरीजों को एक साथ आॅक्सीजन दी जा सकती है। मनोज के इस नवाचार से कई जरूरतमंद लाभांवित होने लगे हैं। जब मरीज के परिजन मेडिकल स्टोर्स पर आॅक्सीजन फ्लोमीटर लेने पहुंचते है तो कई मेडिकल संचालक उन्हें मनोज से सम्पर्क करने का बोल रहे है क्योंकि बाजार में अभी भी आॅक्सीजन फ्लोमीटर सामान्य दामों में नहीं मिल रहे है उन्हें श्री मेहता निःशुल्क ही उपकरण करा  रहे है।

Chania