Sunday, March 3rd, 2024 Login Here
मंदसौर संसदीय क्षेत्र से सुधीर गुप्ता को मिला टिकीट सेवा कार्यो में उत्कृष्ट कार्य को लेकर रेडक्रॉस सोसायटी जिला शाखा मंदसौर को मिला अवार्ड बांछड़ा डेरों पर पुलिस की दबिश, भारी मात्रा में अवैध शराब जप्त प्रतिवेदन पेश नहीं करने पर नपा सीएमओं के खिलाफ पांच हजार का जमानती वारंट जारी सूदखोरों से परेशान होकर की आत्महत्या, पिता के मृत्युभोज के लिए लिया था पैसा मंत्री सारंग ने की वन-टू-वन चर्चा, कहा 6 लाख वोट से भाजपा को जिताने का संकल्प ले लोकसभा चुनाव - भाजपा के 155 उम्मीदवारों की सूची आज घोषित होने की संभावना स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 200 से अधिक प्रतिनिधि को राष्ट्रीय अवॉर्ड से सम्मानित किया भैरव घाटी पर सड़क हादसा, एक की दर्दनाक मौत दो कारों की आमने-सामने भिडन्त, कॉन्स्टेबल की मौत मानपुरा में ग्रामीण के घर, बाड़े व स्विफ्ट कार से 63 किलो से अधिक अफीम जब्त सुपर पॉवर बनने की दिशा में तीन सेमीकंडक्टर, 1.26 लाख करोड़ के प्लांट को सरकार की मंजूरी 8 महिने बाद खाटु श्याम बाबा के मंदिर में प्रवेश कर भक्तों ने किए दर्शन 15 मिनिट में एक लाख का साउंड सिस्टम चुराने वाला बदमाश सीसीटीवी से पकडाया प्रधानमंत्री ने किया वर्चुअल भूमिपूजन, मंदसौर में 99.14 करोड़ की लागत से 18 महीने में तैयार होगा औद्योगिक पार्क

सौशल मिडिया पर वायरल हुई थी खबर, कुछ भी नहीं मिला आपत्तिजनक
मंदसौर जनसारंगी।

मंदसौर की जेल में आई एक खबर ने पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों की निंदे उडा दी। तत्काल अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक और एसडीएम जेल पहुंचे और पूरे परिसर को खंगाला, एक-एक केदी से चर्चा की इस दौरान पुलिस को मिली खबर की पुष्टि नहीं हुई। हालांकि कुछ केदियों के पास किताबे मिली लेकिन वे पूरी तरह से धार्मिक थी उनमें भी आपत्तिजनक कुछ भी नहीं लिखा गया था।
दरअसल पुलिस को जेल में बंद कुछ केदियों द्वारा दूसरे केदियों से जबरन धर्मातंरण कराऐ जाने की खबर मिली थी। जानकारी के अनुसार पिछले दिनों मंदसौर की एक जिम में आने वाली महिला के साथ अवैध संबंध बनाकर उसके पति को आत्महत्या के लिए प्रेरित करने के आरोप में जिला जेल में बंद जिम ट्रेनर अल्ताफ हुसैन पर धर्मांतरण के आरोप लगाते हुए कुछ खबरें सौशल मीडिया पर वायरल हो रही थीं। इनमें दावा किया था कि रमजान के दौरान कुछ धार्मिक किताबें जेल में आई थीं, जिनमें हिंदू देवी-देवताओं को लेकर आपत्तिजनक बातें लिखी हुई थीं। आरोप यह था कि अल्ताफ ने जेल में ही एक कैदी गोपाल का ब्रेनवाश भी कर लिया था। मंगलवार रात ये सूचनाएं वायरल होने के बाद बुधवार सुबह ही कलेक्टर मनोज पुष्प ने पहले तो जेलर पीके सिंह से सारी जानकारी ली। इसके बाद एसडीएम बिहारीसिंह के नेतृत्व में पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों की एक टीम जेल के आकस्मिक निरीक्षण के लिए भेजी। इसमें एएसपी अमित वर्मा, सीएसपी परमालसिंह, मंदसौर ग्रामीण एसडीओपी, कोतवाली टीआइ अमित सोनी, सहित अन्य पुलिस अधिकारी व पुलिसकर्मी शामिल थे। टीम ने जेल में पहुंचते ही सभी बैरकों में जाकर तलाशी लेना शुरू कर दिया था। खासकर अल्ताफ वाली बैरक और गोपाल वाली बैरक में तलाशी ली गई। सभी अधिकारियों का कहना है कि जेल का कोना-कोना तलाशा गया है, लेकिन ऐसा कुछ भी आपत्तिजनक नहीं मिला है।
निरीक्षण के बाद एसडीएम बिहारीसिंह ने बताया कि बुधवार को जेल की सभी बैरक में पुलिस के साथ निरीक्षण किया है। इसमें कहीं भी कोई आपत्तिजनक सामग्री नहीं मिली है। कुछ किताबे मिली लेकिन वे धार्मिक थी इसके अलावा बेरक से अन्य कोई भी आपत्तिजनक वस्तु नहीं मिली और ना ही किसी कैदी ने कुछ बताया है।
जेल अधीक्षक पीके सिंह ने बताया कि जेल में सभी धर्मो से संबंधित किताबे है, धर्मातंरण जैसा कुछ नहीं है। बुधवार को एसडीएम व एएसपी ने पुलिस बल के साथ जांच की है उसमें अधिकारी पूरी तरह से संतुष्ट थे।
Chania