Sunday, February 25th, 2024 Login Here
गरीब के जीवन से कष्टों को मिटाना प्रदेश सरकार का लक्ष्य-डॉ यादव चिकित्सक पर हुई कार्रवाहीं का डाक्टरों व सिंधी समाज ने किया विरोध किरायेदारों से अनजान पुलिस, मकान मालिक भी लापरवाह नवनिर्वाचित राज्यसभा सांसद बंशीलाल जी गुर्जर का मंदसोर शहर में होगा भव्य स्वागत ट्रक में लहसुन के नीचे छुपाकर रख 1031 किलो डोडाचूरा जब्त, ड्राइवर गिरफ्तार मुख्‍यमंत्री डॉ.मोहन यादव आज नीमच में 752 करोड से अधिक के कार्यो का लोकार्पण एवं भूमिपूजन करेंगे 36 घंटे में पुलिस ने किया अन्तरॉज्जीय लूटेरों को गिरफ्तार मदिरा दुकानों के नवीनीकरण आवेदन 22 फरवरी तक करें पांच साल के इंतजार के बाद आज से मंदसौर में प्रारंभ होगा पासपोर्ट कार्यालय मध्यप्रदेश से राज्यसभा के पांचों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित; 4 सीट बीजेपी, एक कांग्रेस के खाते में 133 किमी लंबे मार्ग में 14 किमी लंबा दूसरा रेलवे ट्रैक तैयार साँप भगाने के लिए टैंक में पेट्रोल डाला, तीली जलाते ही धमाका हुआ, दम्पत्ति झुलसे नदियॉ को छलनी करने का खेल चल रहा,माफियाओं पर नही लग पा रही नकेल सिंगिग स्टार बनने के चक्कर मे लोग हो रहे शिकार संसद रत्न पुरस्कार से सम्मानित होने वाले सांसदों को राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने बधाई दी

नई दिल्ली। मोदी सरकार के कार्यकाल में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार(NSA) की भूमिका निभाने वाले अजीत डोभाल को केंद्र सरकार की ओर से कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया है। उन्हें पिछली सरकार के कार्यकाल में सुरक्षा के क्षेत्र में किए गए बेहतरीन कार्य के लिए ये दर्जा दिया गया है। इसके साथ ही उन्हें दोबारा NSA की जिम्मेदारी सौंपी गई है। उनकी पदस्थापना 5 साल के लिए की गई है।

बता दें कि अजीत डोभाल RAW एजेंट रह चुके हैं। वे पीएम नरेंद्र मोदी के विश्वस्त माने जाते हैं। उरी हमले के बाद भारत की ओर से पाकिस्तान में की गई सर्जिकल स्ट्राइक और पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत द्वारा पाकिस्तान के आतंकी ठिकानों पर की गई एयर स्ट्राइक में रणनीति बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका डोभाला निभा चुके हैं।

माना जा रहा है कि पिछली सरकार के कार्यकाल में चुनौतीपूर्ण वक्त में बेहतर तरीके से राष्ट्रीय सुरक्षा के मापदंडों को पूरा करने के चलते उन्हें कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया है।

कौन है अजीत डोभाल

अजीत डोभाल देश के पांचवें नेशनल सिक्युरिटी एडवाइज़र (NSA) हैं। उनका पारिवारिक बैकग्राउंड भी आर्मी से जुड़ा रहा है। उनके पिता मेजर जी एन डोभाल भारतीय सेना के अधिकारी थे। अजीत डोभाल केरल कैडर से 1968 में IPS चुने गए थे। वे मिजोरमम और पंजाब के एंटी सर्जिकल ऑपरेशन में भी शामिल रहे हैं। कंधार विमान अपहरण मामले में भी डोभाल उन तीन अधिकारियों में शामिल रह चुके हैं जिन्होनें आतंकियों से निगोसिएसन की थी।

डोभाल ने 7 साल इस्लामाबाद में भारतीय हाई कमीशन में भी बिताए हैं। मोदी सरकार आने के बाद साल 2014 में उन्हें देश का राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार नियुक्त किया गया था। तिरकित के हॉस्पिटल में 46 भारतीय नर्सों को सुरक्षित वापस लाने में भी डोभाल ने अहम भूमिका निभाई थी।

Chania