Friday, March 1st, 2024 Login Here
स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 200 से अधिक प्रतिनिधि को राष्ट्रीय अवॉर्ड से सम्मानित किया भैरव घाटी पर सड़क हादसा, एक की दर्दनाक मौत दो कारों की आमने-सामने भिडन्त, कॉन्स्टेबल की मौत मानपुरा में ग्रामीण के घर, बाड़े व स्विफ्ट कार से 63 किलो से अधिक अफीम जब्त सुपर पॉवर बनने की दिशा में तीन सेमीकंडक्टर, 1.26 लाख करोड़ के प्लांट को सरकार की मंजूरी 8 महिने बाद खाटु श्याम बाबा के मंदिर में प्रवेश कर भक्तों ने किए दर्शन 15 मिनिट में एक लाख का साउंड सिस्टम चुराने वाला बदमाश सीसीटीवी से पकडाया प्रधानमंत्री ने किया वर्चुअल भूमिपूजन, मंदसौर में 99.14 करोड़ की लागत से 18 महीने में तैयार होगा औद्योगिक पार्क गुजरात मॉडल से मप्र सरकार रोकेगी चेक पोस्ट पर अवैध वसूली अधिक आवक के चलते मंडी में बढ़ी अव्यवस्था, दिनभर बंद रही नीलामी शाम को शुरु हुई, आधे घंटे बाद फिर बंद, व्यापारी, किसान व हम्मालों का विरोध जारी नीमच से सिंगोली रावतभाटा होते हुए कोटा रेल मार्ग के फाइनल सर्वे की स्वीकृति, 5 करोड़ से अधिक की राशि स्वीकृत 500 जवानों की 45 टीमों ने की अपराधियों की धरपकड़, एक रात में 156 अपराधियों को पकडा मध्यप्रदेश की 29 सीटों पर पैनल तैयार,मंदसौर संसदीय क्षेत्र से देवीलाल धाकड, यशपालसिंह सिसोदिया, मदनलाल राठौर और सुधीर गुप्ता का नाम दुर्घटनाओं की जांच वैज्ञानिक तरीके से करने के निर्देश लेकिन पुरातन परम्परा अभी भी कायम अव्वल होने का दावा करने वाली नपा में सफाई व्यवस्था बदहाल

निप्र। प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी श्रुत पंचमी पर 1008 श्री पार्श्वनाथ जिनालय बंडीजी के बाग के 128वें स्थापना दिवस पर श्रीजी की भव्य रथयात्रा बेण्डबाजों के साथ नगर में निकाली गई। सकल दिगम्बर जैन समाज की उपस्थिति में नगर भ्रमण किया गया। रास्ते में कई जगह जलपान के साथ स्वागत किया गया एवं भगवान को श्रध्दालुओं द्वारा भेंट एवं आरती कीर् गई। नगर भ्रमण के पश्चात् बंडीजी के बाग परिसर में भगवान जी को रथ सहित वेदी पर विराजमान किया गया।

पश्चात् चिरंजीलालजी बक्षी मुम्बई की स्मृति में श्रीमती शांतिदेवी बक्षी एवं परिवार के द्वारा दो चांदी की पांडुकशिला क्रमश: दो मंदिर प्रथम श्री पार्श्वनाथ जिनालय बंडीजी का बाग एवं द्वितीय महावीर जिनालय जनकूपुरा मंदिर को भेंट करने के लिये दोनो पांडुकशिला का शुध्दीकरण पं. अरविन्द जैन के द्वारा मंत्रोच्चार के साथ बक्षी परिवार एवं समाज की महिलाओं के द्वारा 81 कलशों से कराया गया। पश्चात् दोनों पांडुक शीलाओं पर क्रमश: 1008 श्री चन्द्रप्रभु भगवान एवं 1008 श्री पार्श्वनाथ भगवान को विराजमान किया जा कर पं. अरविन्द जैन के द्वारा बक्षी परिवार से श्रीजी का अभिषेक व शांतिधारा करवाई गई। पश्चात् श्रीजी को निज मंदिर में विराजमान करके दोनों पांडुक शीला दोनों मंदिर के पदाधिकारियों को सुपुर्द कर दी गई। बक्षी परिवार हमेशा धार्मिक कार्यों में एवं दानशीलता में अग्रणी रहा है। कार्यक्रम में बक्षी परिवार मुम्बई का स्वागत सकल दिगम्बर जैन समाज, हूमड़ समाज, हूमड़ मित्र मण्डल एवं हूमड़ महिला परिषद् द्वारा किया गया। हूमड़ समाज अध्यक्ष दीपक भूता ने बताया कि बक्षी परिवार मुम्बई द्वारा उक्त पांडुक शिला भेंट के पश्चात् सकल दिगम्बर समाज का वात्सल्य भोज का कार्यक्रम भी रखा गया। समाज ने बक्षी परिवार के द्वारा किये गये उक्त कार्य की भूरी भूरी प्रशंसा की है। कार्यक्रम में प्रभावना के लाभार्थी श्रीमती सुभद्रादेवी अजीतकुमारजी भूता मुम्बई रहे।

उक्त कार्यक्रम में इंदौर से पधारे बंडीजी एवं पं. विजय कुमार गांधी एवं मुम्बई से पधारे सभी रिश्तेदारों ने मंच को सुशोभित किया। संचालन हूमड़ समाज सचिव राकेश दोशी ने किया एवं आभार उपाध्यक्ष शरद गांधी ने माना।

Chania