Sunday, February 25th, 2024 Login Here
गरीब के जीवन से कष्टों को मिटाना प्रदेश सरकार का लक्ष्य-डॉ यादव चिकित्सक पर हुई कार्रवाहीं का डाक्टरों व सिंधी समाज ने किया विरोध किरायेदारों से अनजान पुलिस, मकान मालिक भी लापरवाह नवनिर्वाचित राज्यसभा सांसद बंशीलाल जी गुर्जर का मंदसोर शहर में होगा भव्य स्वागत ट्रक में लहसुन के नीचे छुपाकर रख 1031 किलो डोडाचूरा जब्त, ड्राइवर गिरफ्तार मुख्‍यमंत्री डॉ.मोहन यादव आज नीमच में 752 करोड से अधिक के कार्यो का लोकार्पण एवं भूमिपूजन करेंगे 36 घंटे में पुलिस ने किया अन्तरॉज्जीय लूटेरों को गिरफ्तार मदिरा दुकानों के नवीनीकरण आवेदन 22 फरवरी तक करें पांच साल के इंतजार के बाद आज से मंदसौर में प्रारंभ होगा पासपोर्ट कार्यालय मध्यप्रदेश से राज्यसभा के पांचों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित; 4 सीट बीजेपी, एक कांग्रेस के खाते में 133 किमी लंबे मार्ग में 14 किमी लंबा दूसरा रेलवे ट्रैक तैयार साँप भगाने के लिए टैंक में पेट्रोल डाला, तीली जलाते ही धमाका हुआ, दम्पत्ति झुलसे नदियॉ को छलनी करने का खेल चल रहा,माफियाओं पर नही लग पा रही नकेल सिंगिग स्टार बनने के चक्कर मे लोग हो रहे शिकार संसद रत्न पुरस्कार से सम्मानित होने वाले सांसदों को राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने बधाई दी

छोटे पान, गुटका व्यापरियों को अनुमति नही, धन्नासेठों को दे दी अनुमति 
 मंदसौर डब्ल्यूएचओ ने कोरोना वायरस को फैलाने में धूम्रपान को भी एक महत्वपूर्ण कारण माना है जिसके बाद भारत सरकार ने तंबाकू उत्पाद बीड़ी, सिगरेट के विक्रय पर प्रतिबंध लगा रखा है बावजूद इसके अब मंदसौर जिला प्रशासन के आदेश से लोग सरकार के प्रतिबंध के बावजूद भी धड़ल्ले से धुआं उड़ाएंगे।
 लॉक डाउन में भले ही प्रशासन ने छोटे पान, गुटखा व्यापारियों को व्यापार करने की अनुमति नहीं दी है लेकिन धन्ना सेठों को यह व्यापार करने की अनुमति जारी कर दी गई जिसके बाद शुक्रवार की सुबह से पूरे शहर में होलसेल कारोबारी  धड़ल्ले से अपना कारोबार करने में जुट गए। जबकि 2 दिन पहले कलेक्ट्रेट कार्यालय में हुई संकट प्रबंधन समिति की बैठक में भी पान, गुटखा धूम्रपान पर प्रतिबंध ही लगाए रखने का निर्णय लिया गया था। बावजूद इसके प्रशासन के अधिकारियों ने थोक में 30 नंबर बीड़ी को बेचे जाने की अनुमति जारी कर दी जबकि धूम्रपान पहले से ही खतरनाक है। कोरोना के संक्रमण में तो यह और भी ज्यादा खतरनाक है यह हम नहीं कह रहे बल्कि डब्ल्यूएचओ खुद कह रहा है बावजूद इसके प्रशासन ने इसे बेचने की अनुमति जारी कर दी है। मज़ेदार बात यह है कि इस अनुमति को जारी करने के बाद प्रशासन का कोई भी जिम्मेदार इस पर कुछ बोलने को तैयार ही नहीं है। जन सारंगी ने पड़ताल की तो उसके हाथ एडीएम द्वारा किए गए आदेश की प्रति लग गई जिससे साफ हुआ कि प्रशासन ने ही थोक में 30 नंबर बीड़ी को बेचने की अनुमति जारी की है।
Chania