Sunday, March 3rd, 2024 Login Here
मंदसौर संसदीय क्षेत्र से सुधीर गुप्ता को मिला टिकीट सेवा कार्यो में उत्कृष्ट कार्य को लेकर रेडक्रॉस सोसायटी जिला शाखा मंदसौर को मिला अवार्ड बांछड़ा डेरों पर पुलिस की दबिश, भारी मात्रा में अवैध शराब जप्त प्रतिवेदन पेश नहीं करने पर नपा सीएमओं के खिलाफ पांच हजार का जमानती वारंट जारी सूदखोरों से परेशान होकर की आत्महत्या, पिता के मृत्युभोज के लिए लिया था पैसा मंत्री सारंग ने की वन-टू-वन चर्चा, कहा 6 लाख वोट से भाजपा को जिताने का संकल्प ले लोकसभा चुनाव - भाजपा के 155 उम्मीदवारों की सूची आज घोषित होने की संभावना स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 200 से अधिक प्रतिनिधि को राष्ट्रीय अवॉर्ड से सम्मानित किया भैरव घाटी पर सड़क हादसा, एक की दर्दनाक मौत दो कारों की आमने-सामने भिडन्त, कॉन्स्टेबल की मौत मानपुरा में ग्रामीण के घर, बाड़े व स्विफ्ट कार से 63 किलो से अधिक अफीम जब्त सुपर पॉवर बनने की दिशा में तीन सेमीकंडक्टर, 1.26 लाख करोड़ के प्लांट को सरकार की मंजूरी 8 महिने बाद खाटु श्याम बाबा के मंदिर में प्रवेश कर भक्तों ने किए दर्शन 15 मिनिट में एक लाख का साउंड सिस्टम चुराने वाला बदमाश सीसीटीवी से पकडाया प्रधानमंत्री ने किया वर्चुअल भूमिपूजन, मंदसौर में 99.14 करोड़ की लागत से 18 महीने में तैयार होगा औद्योगिक पार्क

अब भिण्ड की जगह इंदौर उपपरिवहन आयुक्त कार्यालय में हुई पदस्थापना
मंदसौर निप्र। जिले के दो विधायकों यशपालसिंह सिसोदिया ओर देवीलाल धाकड़ की शिकायत पर मंदसौर से हटने वालें परिवहन अधिकारी ज्ञानेन्द्र वैश्य  एक ही दिन में  भिण्ड से इंदौर आ गये। उनका मंदसौर से भिण्ड हुआ तबादला आदेश निरस्त हो गया, अब उन्हें इंदौर में क्षेत्रिय उप परिवहन आयुक्त कार्यालय में पदस्थ किया गया।
उल्लेखनिय है कि  कोरोना के संक्रमण में मजदुरो को उनके आशियानो तक भिजवाने में हुए परिवहन घोटाले का मामला मिडिया की सुर्खियो में आने के बाद और मंदसौर जिले के दो विधायकों यशपालसिंह सिसोदिया ओर देवीलाल धाकड़ द्वारा तथ्यों के साथ मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान को शिकायत करने के 11 दिन बाद मंदसौर परिवहन अधिकारी ज्ञानेन्द्र वैश्य को कारण बताओं सूचना पत्र जारी किया गया ओर बाबू को निलंबित किया गया, इसके अगले दिन वैश्य का मंदसौर से भिण्ड तबादला किया गया लेकिन इसके एक ही दिन बाद भिण्ड से तबादला निरस्त होकर क्षेत्रिय उप परिवहन आयुक्त कार्यालय इंदौर में पदस्थ कर दिया गया। परिवहन अधिकारी को एक ही दिन में भिण्ड से इंदौर भेजे जाने को लेकर जनचर्चाओं का बाजार भी गर्म हो गया लोगों का कहना था कि प्रदेश में अफसर शाही कितना हावी हो रहीं है इसका उदाहरण है कि सत्ता पक्ष के दो विधायकों द्वारा तथ्यों के साथ शिकायत मुख्यमंत्री को करने के 10 दिन तक कोई कार्यवाहीं नहीं हुई। इसके बाद कारण बताओं सूचना पत्र दिया गया लेकिन सूचना पत्र का जवाब आने से पहले ही परिवहन अधिकारी ज्ञानेन्द्र वैश्य को मंदसौर से तबादला कर भिण्ड परिवहन अधिकारी के रूप में मैदानी पोस्टिग कर दी गई जबकी कारण बताओं सूचना पत्र में परिवहन अधिकारी द्वारा की गई अनियमितताओं को प्रारम्भिक जांच मे ंसही माना गया, उनके अनुमोदन के बाद किये गये भूगतान को भी रोका गया बावजूद इसके उन्हें एक जगह से हटाकर दूसरी मैदानी पोस्टिंग कर दी गई लेकिन एक ही दिन में यह आदेश भी बदल गया ओर गुरूवार को नया आदेश आ गया जिसमें ज्ञानेन्द्र वैश्य का भिण्ड किया गया तबादला आदेश निरस्त करते हुए उन्हें क्षेत्रिय उप परिवहन आयुक्त कार्यालय  इंदौर मे पदस्थ किया गया। हालांकि भिण्ड में उन्हें मैदानी पोस्टिग दी गई थी ओर इंदौर में इन्हें क्षेत्रिय उप परिवहन आयुक्त कार्यालय में पदस्थ किया गया है लेकिन भिण्ड से ज्यादा मलाईदार जगह इंदौर है ऐसे में उनका इंदौर में पदस्थ होना कई चर्चाओं को जन्म दे रह है।
Chania