Monday, February 26th, 2024 Login Here
गरीब के जीवन से कष्टों को मिटाना प्रदेश सरकार का लक्ष्य-डॉ यादव चिकित्सक पर हुई कार्रवाहीं का डाक्टरों व सिंधी समाज ने किया विरोध किरायेदारों से अनजान पुलिस, मकान मालिक भी लापरवाह नवनिर्वाचित राज्यसभा सांसद बंशीलाल जी गुर्जर का मंदसोर शहर में होगा भव्य स्वागत ट्रक में लहसुन के नीचे छुपाकर रख 1031 किलो डोडाचूरा जब्त, ड्राइवर गिरफ्तार मुख्‍यमंत्री डॉ.मोहन यादव आज नीमच में 752 करोड से अधिक के कार्यो का लोकार्पण एवं भूमिपूजन करेंगे 36 घंटे में पुलिस ने किया अन्तरॉज्जीय लूटेरों को गिरफ्तार मदिरा दुकानों के नवीनीकरण आवेदन 22 फरवरी तक करें पांच साल के इंतजार के बाद आज से मंदसौर में प्रारंभ होगा पासपोर्ट कार्यालय मध्यप्रदेश से राज्यसभा के पांचों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित; 4 सीट बीजेपी, एक कांग्रेस के खाते में 133 किमी लंबे मार्ग में 14 किमी लंबा दूसरा रेलवे ट्रैक तैयार साँप भगाने के लिए टैंक में पेट्रोल डाला, तीली जलाते ही धमाका हुआ, दम्पत्ति झुलसे नदियॉ को छलनी करने का खेल चल रहा,माफियाओं पर नही लग पा रही नकेल सिंगिग स्टार बनने के चक्कर मे लोग हो रहे शिकार संसद रत्न पुरस्कार से सम्मानित होने वाले सांसदों को राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने बधाई दी

भाजपा और कांग्रेस ने किए अपनी-अपनी जीत के दावे
सुवासरा/शामगढ़ जनसारंगी।

मध्य प्रदेश की विधानसभा सीटों के साथ ही मंदसौर जिले के सुवासरा विधानसभा सीट पर भी उपचुनाव का मतदान 3 नवंबर को संपन्न हुआ कल यानी 10 नवंबर को जनता का फैसला खुल जाएगा और तय हो जाएगा कि जनता ने किसे सुवासरा का विधायक बनाया है ।मतगणना प्रारंभ होने में अब सिर्फ 1 दिन यानी आज ही का दिन बचा है कल सुबह से ही मतगणना प्रारंभ हो जाएगी और दोपहर तक पूरा परिदृश्य साफ हो जाएगा। उधर भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दलों के प्रत्याशियों ने अपनी-अपनी जीत का दावा किया है। हालांकि मध्य प्रदेश का एग्जिट पोल 16 सीटों तक भाजपा को और 10 से 12 सीट कांग्रेस को बता रहा है लेकिन यह तो कल ही साफ होगा कि कौन विधायक बनेगा?

मतगणना का परिणाम केवल 24 घंटे का ही समय बचा है 10 नवंबर की सुबह से मंदसौर के शासकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में मतगणना प्रारंभ होगी और दोपहर तक मतगणना के परिणाम पूरी तरह से सामने आ जाएंगे मतगणना से पहले भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दलों के प्रमुख उम्मीदवारों के करीबियों ने अपनी-अपनी जीत के दावे किए हैं दोनों ही उम्मीदवारों ने अपनी अपनी जीत  का भरोसा जताया है। हालांकि यह तो कर ही पता लगेगा कि जनता ने किसे अपना विधायक चुना है लेकिन भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दलों के करीबियों की माने तो उनका भी दावा है कि उन्होंने 388 ही पोलिंग एजेंटों के माध्यम से जानकारी जुटाई है उन्हें अपनी जीत का भरोसा है। हालांकि एग्ज़िट पोल में ‘सुवासरा’ को लेकर स्थिति साफ नहीं की। सीधा सा गणित है कि यहां मामला उलझा हुआ है और दावा ठोककर कोई भी एजेंसी कुछ कहने की स्थिति में नहीं। इस बीच  82.61 फीसदी रिकार्ड मतदान वाली सीट और 388 पोलिंग बूथों के गणित पर दोनों प्रमुख दलों के थिंक टैंक के फीडबैक आधार पर जानकारी निकाली। दोनों ओर से जीत के दावों और संख्या का गणित भी सामने आया है।  सुवासरा की सीट ऐसी है जिसमे साल 2018 में सुवासरा सीट पर हरदीपसिंह डंग (कांग्रेस) ने राधेश्याम पाटीदार (भाजपा) को महज 350 मतों के अंतर से हराया था। इस चर्चित विधानसभा में 4 बार ऐसे मौके आए जब दोनों प्रमुख दलों के जीत-हार का अंतर महज 1 हजार मत के बीच रहा है। सुवासरा में 82.61 फीसदी मतदान के बाद विधानसभा क्षेत्र के सभी 388 पोलिंग बूथों का दोनों दलों ने अपने-अपने हिसाब से आंकलन किया और अपने प्रत्याशी के रिजल्ट का आंकलन भी किया।

-प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री व भाजपा प्रत्याशी हरदीपसिंह डंग के भाई प्रदीपसिंह डंग (डब्बू) का कहना है इस बार जीत का मार्जिन साल 2018 की तुलना में काफी ज्यादा रहेगा। सभी पोलिंग बूथों से जो फीडबैक मिला और पार्टी स्तर पर जो समीक्षा हुई है, उस हिसाब से भाजपा इस प्रतिष्ठापूर्ण चुनाव को कम से कम 5 से 7 हजार मतों से जीतने जा रही है। जीत इससे अधिक मतों से भी होने की उम्मीद है। जनता ने मुख्यमंत्री श्री चौहान के काम और भैया (हरदीप) की जमीनी पकड़ को देखते हुए भाजपा को फिर से मौका देना उचित समझा, इसकी पूरी उम्मीद है। राज्य में भी शिवराजजी की सरकार बनी रहेगी।

-कांग्रेस प्रत्याशी राकेश पाटीदार के नजदीकी रिश्तेदार पी.के. पाटीदार का कहना है सुवासरा को कांग्रेस करीब 11 हजार मतों से जीतने जा रही है। हर गांव, पोलिंग बूथ से जो डिटेल सामने आई है, इस आधार पर यह जानकारी एकत्र की है। हमारी जीत की जो संभावना बनी है उसके पीछे तत्कालीन सीएम कमलनाथ के 15 माह का एतिहासिक कार्यकाल बड़ा फैक्टर है। इसके अलावा दलबदल, गद्दार फैक्टर, सामाजिक समीकरण जैसे तमाम विषय कांग्रेस के पक्ष में ही आने की उम्मीद है। यही वजह है कि सुवासरा में खुद सीएम शिवराजसिंह चौहान को 5 बार आकर पूरी ताकत झोंकना पड़ी लेकिन फिर भी पूरा विश्वास है कि सुवासरा का जनादेश कांग्रेस को मिलेगा। जनता प्रदेश की बागडोर कमलनाथ को देने को आतुर है।

जो भी हो कल परिणाम आने के बाद स्थिति पूरी तरह से साफ हो जाएगी क्योंकि सुवासरा की जनता ने अपना फैसला ईवीएम में कैद कर दिया है जो कल खुल जाएगा।

Chania