Friday, March 1st, 2024 Login Here
स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 200 से अधिक प्रतिनिधि को राष्ट्रीय अवॉर्ड से सम्मानित किया भैरव घाटी पर सड़क हादसा, एक की दर्दनाक मौत दो कारों की आमने-सामने भिडन्त, कॉन्स्टेबल की मौत मानपुरा में ग्रामीण के घर, बाड़े व स्विफ्ट कार से 63 किलो से अधिक अफीम जब्त सुपर पॉवर बनने की दिशा में तीन सेमीकंडक्टर, 1.26 लाख करोड़ के प्लांट को सरकार की मंजूरी 8 महिने बाद खाटु श्याम बाबा के मंदिर में प्रवेश कर भक्तों ने किए दर्शन 15 मिनिट में एक लाख का साउंड सिस्टम चुराने वाला बदमाश सीसीटीवी से पकडाया प्रधानमंत्री ने किया वर्चुअल भूमिपूजन, मंदसौर में 99.14 करोड़ की लागत से 18 महीने में तैयार होगा औद्योगिक पार्क गुजरात मॉडल से मप्र सरकार रोकेगी चेक पोस्ट पर अवैध वसूली अधिक आवक के चलते मंडी में बढ़ी अव्यवस्था, दिनभर बंद रही नीलामी शाम को शुरु हुई, आधे घंटे बाद फिर बंद, व्यापारी, किसान व हम्मालों का विरोध जारी नीमच से सिंगोली रावतभाटा होते हुए कोटा रेल मार्ग के फाइनल सर्वे की स्वीकृति, 5 करोड़ से अधिक की राशि स्वीकृत 500 जवानों की 45 टीमों ने की अपराधियों की धरपकड़, एक रात में 156 अपराधियों को पकडा मध्यप्रदेश की 29 सीटों पर पैनल तैयार,मंदसौर संसदीय क्षेत्र से देवीलाल धाकड, यशपालसिंह सिसोदिया, मदनलाल राठौर और सुधीर गुप्ता का नाम दुर्घटनाओं की जांच वैज्ञानिक तरीके से करने के निर्देश लेकिन पुरातन परम्परा अभी भी कायम अव्वल होने का दावा करने वाली नपा में सफाई व्यवस्था बदहाल

मुख्यमंत्री ने साफ कहा ऐसे लोग बर्खास्त होगे, विधायक सिसोदिया ने दिलाया था घटनाओं पर संज्ञान
मंदसौर जनसारंगी।
नीमच जिले में पिछले दिनों अफीम के मामलों में जबरियां फंसाने के मामलें पर संज्ञान लिया, उन्होंने मंदसौर पर भी संज्ञान लिया और साफ कहा कि तोडा-फोडा क्या होता है, ऐसे मामलों को बर्दाश्त नहीं करेगें और ऐसे लोगों को शासकीय सेवा में नही रखते हुए बर्खास्त कर देगें। उल्लेखनिय है कि मंदसौर और नीमच जिला अफीम के लिए मशहूर है इसी के चलते कई पुलिस अधिकारियों की पहली पसंद हुआ करता है ऐसे में मुख्यमंत्री शिवराज के तिखे तैवरों से उम्मीद जताई जा रहीं है कि अफीम की आड़ में होने वाले खेल से जनता को राहत मिलेगी। उल्लेखनिय है कि मंदसौर-नीमच जिले में अफीम मामलों की कार्रवाहीं में हो रहीं गडबडियों से बिते दिनों विधायक यशपालसिंह सिसोदिया ने मुख्यमंत्री श्री चैहान को अवगत कराया था।
मंदसौर-नीमच जिले  में अफीम की खेती बहुतायत मंे होती है यहीं कारण है कि यहां अफीम और उससे जूड़े मादक पदार्थो की तस्करी भी जमकर होती है। इसी के चलते मो. शफी जैसे अन्तर्राष्ट्रीय तस्कर भी यहां हो गए लेकिन पुलिस आज तक इन्हें अपनी गिरफ्त में नहीं ले पाईं। वहीं दूसरी तरफ तस्करी के कई कोरियर पुलिस के हत्थे चढ़ जाते है परन्तु इनमें भी असल तस्करों तक पुलिस नहीं पहुंच पाती। इन सबके बीच अफीम मामलों में झूठा फंसाने और बचाने की कहानियां भी जनचर्चाओं में आऐ दिन रहती हैं। इन जनचर्चाआंे की सच्चाई को इसी से स्वीकारा जा सकता है कि कई पुलिस अधिकारियों की पहली पंसद मंदसौर, नीमच और समीप का रतलाम जिला ही हुआ करता है जिसके चलते वे कभी मंदसौर तो समय पूरा होने के बाद नीमच और कभी रतलाम अपना तबादला करवा देते है और घूम फिर कर  फिर से मंदसौर पहुंच जाते है ताकी उन पर समय से ज्यादा एक जिले में रहने का आरोप भी ना लगे और वे जिले के आसपास ही रहें। पिछले दिनों नीमच में एक व्यापारी को अफीम के मामलें झूठा फंसाने का खेल पुलिस ने खेला और दूसरे में अफीम के साथ पकड़े गऐ आरोपी को छोड़ने का खेल रचा लेकिन दोनो ही मामलें उजागर हो गऐ।व्यापारी को फंसाने के मामलें में तत्कालिक पुलिस कप्तान को एक साल से पहले ही जिले से रवानगी झेलना पड़ी। दोनो ही मामलों के पुलिस जवानों पर अभी कार्रवाहीं चल रहीं है। वहीं मंदसौर में भी अफीम को लेकर कई कहानियां सामने आती है जिसमें अफीम का खड़ा तोड़ मशहूर है। मंदसौर में भी मादक पदार्थो के किस्से कहानियां कम नहीं होते है हालत यह होती है कि पुलिस दो-दो, तीन-तीन थाने लांघकर तस्कर को पकड़ लाती है लेकिन बीच के किसी थाने को पता भी नहीं चलता और वह भी ऐसी पुलिस जो दूसरे मामलों के अपराधियों को पकड़ने में पूरी तरह से फिसड्डी साबित होती है । लेकिन मंदसौर जिले में अफीम को लेकर खेले जाने वाले खेल को लेकर अब मुख्यमंत्री शिवराज पूरी तरह से सख्त नजर आ रहे है । शनिवार को उनके द्वारा की गई समीक्षा बैठक में उन्होंने मंदसौर-नीमच जिले के अफीम मामलों का भी उल्लेख किया और साफ चेताया कि पिछले दिनों नीमच जैसे जिलों से अफीम के मामलें में उलझाकर पैसे वसुल करने की खबर आई वह ठीक नहीं थी, मंदसौर से भी इक्का-दुक्का खबर आई, तोड़ा-फोड़ा क्या होता है। ईधर-उधर से मेरे पास ईधर-उधर से खबर आ रहीं है। लेकिन ऐसे लोगों को हम बर्दाश्त नहीं करेगें, शासकीय सेवा में नहीं रहने देगें और सेवा से बर्खास्त कर देगें।

Chania