Monday, February 26th, 2024 Login Here
गरीब के जीवन से कष्टों को मिटाना प्रदेश सरकार का लक्ष्य-डॉ यादव चिकित्सक पर हुई कार्रवाहीं का डाक्टरों व सिंधी समाज ने किया विरोध किरायेदारों से अनजान पुलिस, मकान मालिक भी लापरवाह नवनिर्वाचित राज्यसभा सांसद बंशीलाल जी गुर्जर का मंदसोर शहर में होगा भव्य स्वागत ट्रक में लहसुन के नीचे छुपाकर रख 1031 किलो डोडाचूरा जब्त, ड्राइवर गिरफ्तार मुख्‍यमंत्री डॉ.मोहन यादव आज नीमच में 752 करोड से अधिक के कार्यो का लोकार्पण एवं भूमिपूजन करेंगे 36 घंटे में पुलिस ने किया अन्तरॉज्जीय लूटेरों को गिरफ्तार मदिरा दुकानों के नवीनीकरण आवेदन 22 फरवरी तक करें पांच साल के इंतजार के बाद आज से मंदसौर में प्रारंभ होगा पासपोर्ट कार्यालय मध्यप्रदेश से राज्यसभा के पांचों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित; 4 सीट बीजेपी, एक कांग्रेस के खाते में 133 किमी लंबे मार्ग में 14 किमी लंबा दूसरा रेलवे ट्रैक तैयार साँप भगाने के लिए टैंक में पेट्रोल डाला, तीली जलाते ही धमाका हुआ, दम्पत्ति झुलसे नदियॉ को छलनी करने का खेल चल रहा,माफियाओं पर नही लग पा रही नकेल सिंगिग स्टार बनने के चक्कर मे लोग हो रहे शिकार संसद रत्न पुरस्कार से सम्मानित होने वाले सांसदों को राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने बधाई दी

*मंदसौर। 27 मई को रात्रि 9 बजे से 10 बजे तक लगभग एक घंटा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से यूनाइटेड किंगडम ब्रिटेन के शेफील्ड में पदस्थ शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. तुषार जैन जो की मूलत: मंदसौर के डॉ श्री आरके जैन तथा श्रीमती कमला जैन के सुपुत्र तथा डॉ. नितिन जैन के छोटे भाई हैं, कोरोना वायरस की तीसरी संभावित लहर में बच्चों के ऊपर आशंका और संभावना को लेकर मंदसौर के वरिष्ठ विधायक श्री यशपाल सिंह सिसोदिया, कलेक्टर श्री मनोज पुष्प, उद्योगपति श्री प्रदीप गनेड़ीवाल तथा डॉ नितिन जैन ने डॉ तुषार जैन से विस्तार से चर्चा की।*
*विषय के संदर्भ में श्री तुषार जैन का कहना था कि मंदसौर जिले में दो समूह में बच्चों की कुल संख्या जिला प्रशासन द्वारा निकाली जाना चाहिए। जिसमें एक समूह एक वर्ष से 10 वर्ष की उम्र का तथा दूसरा समूह 10 वर्ष से 18 वर्ष की उम्र के मध्य का हो‌। डॉ जैन ने यह भी कहा कि जिला चिकित्सालय में संभावित लहर को देखते हुए बच्चों का न्यूनतम 50 पलंगों या अधिकतम 100 पलंगों वाला एक सर्व सुविधा युक्त वार्ड हो, जिसमें वेंटिलेटर भी हो, की तैयारी करना चाहिए। उन्होंने यह भी बताया कि कोविड और नॉन कोविड दो अलग-अलग व्यवस्थाएं होना चाहिए।*
*आंशिक रूप से अस्मटेमेटिक और माइल्ड बच्चों को एक कोविड सेंटर पर रखना चाहिए तथा गंभीर बच्चों को दूसरे को कोविड सेंटर पर रखा जाना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि बच्चों को प्रारंभिक लक्षण आने पर उनके ऊपर विशेष ध्यान देना होगा, उन्हें आइसोलेट किया जाना चाहिए। आइसोलेशन दवाई की कीट दी जाना चाहिए।* *परिवार के सदस्य विशेषकर माता-पिता को समझा कर होम कोरोनटाइन करना चाहिए। मामूली बुखार, सर्दी, उल्टी, दस्त, निमोनिया जैसी शिकायत पर परिजनों को गंभीर होना चाहिए। प्रारंभिक दौर में ही बच्चों की एंटीजन रेपीड जांच की आवश्यकता पड़ सकती है।*
*डॉ. तुषार ने कलेक्टर श्री पुष्प से अनुरोध किया कि ऐसे बच्चों की संख्या के आंकड़ों से उन्हें अवगत कराएं, ताकि जिले में उसकी संभावना को देखते हुए उस अनुरूप कार्य किया जा सके। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि आवश्यक उपकरण, मेडिसन और अन्य व्यवस्थाएं इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आई एम ए) की गाइड लाइन के हिसाब से की जाना सुनिश्चित होगी।*
*विधायक श्री सिसोदिया, कलेक्टर श्री पुष्प, उद्योगपति श्री गनेडीवाल, तथा डॉ नितिन जैन ने डा. जेन से अनेक प्रश्न जिज्ञासा स्वरूप पूछे, जिनका उन्होंने बहुत अच्छे से उत्तर भी दिया। बतौर सावधानी और आगामी रणनीति के अनुसार इस वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संभावित आशंका के मद्देनजर यह तैयारी प्रारंभ कर दी है।*
Chania