Friday, March 1st, 2024 Login Here
स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 200 से अधिक प्रतिनिधि को राष्ट्रीय अवॉर्ड से सम्मानित किया भैरव घाटी पर सड़क हादसा, एक की दर्दनाक मौत दो कारों की आमने-सामने भिडन्त, कॉन्स्टेबल की मौत मानपुरा में ग्रामीण के घर, बाड़े व स्विफ्ट कार से 63 किलो से अधिक अफीम जब्त सुपर पॉवर बनने की दिशा में तीन सेमीकंडक्टर, 1.26 लाख करोड़ के प्लांट को सरकार की मंजूरी 8 महिने बाद खाटु श्याम बाबा के मंदिर में प्रवेश कर भक्तों ने किए दर्शन 15 मिनिट में एक लाख का साउंड सिस्टम चुराने वाला बदमाश सीसीटीवी से पकडाया प्रधानमंत्री ने किया वर्चुअल भूमिपूजन, मंदसौर में 99.14 करोड़ की लागत से 18 महीने में तैयार होगा औद्योगिक पार्क गुजरात मॉडल से मप्र सरकार रोकेगी चेक पोस्ट पर अवैध वसूली अधिक आवक के चलते मंडी में बढ़ी अव्यवस्था, दिनभर बंद रही नीलामी शाम को शुरु हुई, आधे घंटे बाद फिर बंद, व्यापारी, किसान व हम्मालों का विरोध जारी नीमच से सिंगोली रावतभाटा होते हुए कोटा रेल मार्ग के फाइनल सर्वे की स्वीकृति, 5 करोड़ से अधिक की राशि स्वीकृत 500 जवानों की 45 टीमों ने की अपराधियों की धरपकड़, एक रात में 156 अपराधियों को पकडा मध्यप्रदेश की 29 सीटों पर पैनल तैयार,मंदसौर संसदीय क्षेत्र से देवीलाल धाकड, यशपालसिंह सिसोदिया, मदनलाल राठौर और सुधीर गुप्ता का नाम दुर्घटनाओं की जांच वैज्ञानिक तरीके से करने के निर्देश लेकिन पुरातन परम्परा अभी भी कायम अव्वल होने का दावा करने वाली नपा में सफाई व्यवस्था बदहाल

पशुपति के दरबार से लेकर सांसद, विधायक, संघ कार्यालय और आम कार्यकर्ताओं के निवास तक पहुंचे सिंधिया
मंदसौर जनसारंगी।

ग्वालियर-चंबल के बाद मालवा को ज्योतिरादित्य सिंधिया का दूसरा गढ़ माना जाता है। यहां 1 दर्जन से ज्यादा विधानसभा सीटों पर सिंधिया का सीधा प्रभाव बताया जाता है। भाजपा में शामिल होने के बाद पहली बार राज्य सभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया मालवाचंल के सात जिलों के दौरे पर पहुंचे। इसकी शुरूआत उन्होेंने मंदसौर संसदीय क्षेत्र के नीमच से करते हुए करीब 15 घंटे मंदसौर में बिताऐ इस दौरान दशपुर के राजाधिराज भगवान पशुपतिनाथ के दरबार में पहुंचकर पूजन-अर्चन किया । सांसद सुधीर गुप्ता के निवास पर भोजन किया और इसके साथ ही विधायक यशपालसिंह सिसोदिया, किसान मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बंशीलाल गुर्जर के निवास पर पहुंचे। संघ कार्यालय और भाजपा कार्यालय पर पहुंचकर राजनीतिक मंत्रणा की और भाजपा नेता राकी यादव, संघ के वरिष्ठ गोपालकृष्ण पाटील के निवास पर पहुंचकर शोक श्रृद्धांजलि अर्पित की। अपने कट्टर समर्थक राजेन्द्रसिंह गौतम के निवास पर भी पहुंचे। पिछलें कुछ दिनों से महाराज के अगला लोकसभा चुनाव मंदसौर से लड़ने की चर्चाऐ चल रहीं है इसी बीच मंदसौर संसदीय क्षेत्र में सघन दौरा कई मायनों में महत्वपूर्ण माना जा रहा है। जिसमें उन्होंने अपने कट्टर समर्थकों से लेकर भाजपा के एक-एक कार्यकर्ता से संवाद स्थापित करने की कोशिश कर नए सियासी रिश्तों की शुरुआत की।
दौरे के दूसरे दिन सोमवार की सुबह करीब साढ़े नौ बजे भगवान पशुपतिनाथ के दर्शन करने पहुंचे। हालांकि अभी कोविड प्रोटोकाॅल के कारण गर्भग्रह के बाहर ही पूजा-अर्चना की । इस दौरान प्रदेश सरकार के मंत्री एवं जिले के प्रभारी राजवर्धनसिंह दत्तीगांव, जगदीश देवडा, तुलसी सिलावट, हरदीपसिंह डंग, विधायक यशपालसिंह सिसोदिया, किसान मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बंशीलाल गुर्जर समेत अनेक भाजपा नेतागण उपस्थित थे। करीब आधे घंटे तक वैदिक मंत्रोच्चार के बीच राजाधिराज की पूजा अर्चना करने के बाद सिंधिया केशव नगर स्थित संघ कार्यालय पहुंचे जहां उन्होंने विभाग प्रचारक विक्रम समेत अन्य संघ नेताओं से मुलाकात की। इसके बाद सिंधिया सीधे विधायक यशपालसिंह सिसोदिया के यश नगर स्थित निवास पहुंचे यहां विधायक से मुलाकात के बाद सिंधिया भाजपा मंडल महामंत्री रॉकी यादव, संघ पदाधिकारी गोपालकृष्ण पाटिल व भाजपा कार्यकर्ता विक्रम भटनागर के यहां शोक प्रकट करने के लिए भी पहुंचे इसी बीच अपने कट्टर समर्थक राजेन्द्रसिंह गौतम के निवास पर भी जाकर उनकी धर्मपत्नी की कुशलक्षेत्र पूंछी।और आखरी में भाजपा कार्यालय पहुंचकर कार्यकर्ताआंे से चर्चा की और कोरोना में दिवंगत हुई आत्माओं को श्रृद्धांजलि अर्पित की। विधायक यशपालसिंह सिसोदिया और राजेन्द्रसिंह गौतम रियासत काल से ही सिंधिया परिवार से जूड़े है ऐसें में दोनों के ही निवास पर सिंधिया का परम्परागत रूप से स्वागत किया गया।
करीब 15 घंटे के दौरे में सिंधिया ने मंदसौर में कोई भी सार्वजनिक सभा नहीं की लेकिन कार्यकर्ताओं को संदेश जरूर दिया कि अभी कोविड प्रोटाकाॅल के बीच दौरा हुआ है अगली बार आऊगा तो कार्यकर्ताओं के घर-घर जाऊगां। उधर संघ कार्यालय पर तथा मंत्री से लेकर सांसद, विधायक तक से उन्होंने राजनीति को लेकर चर्चा की। दौरे के दौरान भाजपा नेताओं और उनके समर्थकों ने गर्मजोशी से स्वागत किया। जिससे मालवा महाराज का लगा। ग्वालियर-चंबल के बाद मालवा को ज्योतिरादित्य सिंधिया का दूसरा गढ़ माना जाता है। यहां 1 दर्जन से ज्यादा विधानसभा सीटों पर सिंधिया का सीधा प्रभाव बताया जाता है। भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया पहली बार मालवा क्षेत्र में पहुंचे हैं। जहां दौरे के पहले दिन सिंधिया ने भाजपा के सांसद, विधायकों और सीनियर नेताओं से मुलाकात की है। रतलाम और मंदसौर में सिंधिया के समर्थक मंत्रियों को ही जिले का प्रभार दिया गया है। इस दौरान सिंधिया अपने समर्थकों के साथ सीनियर भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं से नए सियासी रिश्तों की शुरुआत करते नजर आ रहे हैं।

मैं भाजपा कार्यकर्ता, सेवाभाव से काम कर रहा हूं

पशुपतिाथ मंदिर में दर्शन के बाद सिंधिया ने कांग्रेस को डूबता जहाज बताया। पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए सिंधिया ने कहा कि कांग्रेस जिस रास्ते पर जा रही है, मैं मानता हूं कि जनता के दिल में स्थान पाना तो अलग जनता ने दो बार उन्हें जवाब दे चुकी है। कांग्रेस को अपना भविष्य खुद खोजना है। सिंधिया ने कहा कि मैं मालवा आया हूं। यहां जो कोरोना काल में हमसे अलग हो गए, उनके शोक में शामिल होना मेरा दायित्व है। केंद्रीय मंत्रिमंडल में मंत्री बनाए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि मैं भाजपा का कार्यकर्ता हूं। सेवाभाव के आधार पर काम कर रहा हूं।
मंदसौर के बाद जावरा होते हुए रतलाम पहुंचे

मंदसौर के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया रतलाम जिले के दौरे पर पहुंचे। जहां जहां माननखेड़ा टोल नाके से ही जगह-जगह भाजपा कार्यकर्ताओं ने सिंधिया का स्वागत किया । सबसे पहले सिंधिया जावरा विधायक राजेंद्र पांडे के घर पहुंचे जहां विधायक के घर पर भाजपा नेताओं से सौजन्य मुलाकात की । इस दौरान सांसद गुमान सिंह डामोर और सिंधिया के समर्थक केके सिंह कालूखेड़ा भी डॉ राजेंद्र पांडे के घर पर मौजूद रहे। जावरा में दिवंगत भाजपा कार्यकर्ताओं के घर शोक संवेदना व्यक्त करने के बाद सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया पिपलोदा और सैलाना के लिए रवाना हो गए ।रतलाम में भी ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा जिला अध्यक्ष और शहर विधायक चेतन कश्यप के घर सौजन्य मुलाकात की। रतलाम में कोरोना से दिवंगत हुए भाजपा नेता विष्णु त्रिपाठी के घर भी सिंधिया शोक संवेदना व्यक्त करने भी गए। शाम को रतलाम ग्रामीण विधायक दिलीप मकवाना के सरवड़ जमुनिया स्थित आवास पर भी ज्योतिराज सिंधिया पहुंचे।

काले झंडे दिखाने की कोशिश की, पुलिस ने लिया हिरासत में

सवा साल पहले तक कांग्रेस के क़द्धावर नेता रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया का दौरा इस बार कांग्रेस को रास नहीं आया इसी के चलते कभी लाल काॅलिन स्वागत कर जिंदाबाद के नारे लगाने वाले कांग्रेसजन आज हाथों में फूल माला के बजाय काले गुब्बारे लिए खड़े थे। और मुर्दाबाद के नारे लगा रहे थे। पिपलियामंडी के कुछ नेता भी मंदसौर में काले झंडे दिखाने आए थे। उन्हें भी पकडकर पुलिस वाहन से पिपलियामंडी छोड़ दिया गया। सिंधिया के जाने के बाद गांधी चैराहा पर नारेबाजी करते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया का पुतला भी कांग्रेसियों ने जलाया। ऐसे में पुलिस ने कांग्रेसियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर उन्हें जेल भेजा बाद में जमानत मुचकले पर छोड़ दिया गया।  

कार्यकर्ताओं को जेल भेजने पर कांग्रेस ने दिया धरना

मंदसौर जनसारंगी।
मंदसौर दौरे पर आऐ राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को काले गुब्बारे दिखाने वाले कांग्रेस कार्यकर्ताओं में शामिल तीन कांग्रेसजनों को मुचलके पर रिहा करने के बजाय जेल भेज दिया गया इसकों लेकर सोमवार की शाम को कई कांग्रेसजन सीटी कोतवाली पहुंचे ओर धरना दिया बाद में एसडीएम ने इन्हें मुचलके पर छोड़ने का आदेश दिया।
दरअसल राजनीतिक आंदोलनों में जिन लोगों को गिरफ्तार किया जाता है उन्हें मौके पर ही मुचलके पर रिहा कर दिया जाता है लेकिन कांग्रेस नेता मनजीतसिंह पिता इकबालसिंह निवासी शुक्ला काॅलोनी, पियूष पिता प्रदीप पंवार निवासी खानपुरा, साजिद पिता असलम मंसूरी निवासी जावद को एसडीएम ने मुचलके पर रिहा करने के बजाय जेल वारंट जारी कर दिया जिसके चलते पुलिस ने इन्हें जेल भेजने की तैयारी कर ली। जैसे ही यह खबर कांग्रेसजनों को मिली तो कई कांग्रेसी थाने पहुंच गऐ और धरने पर बैठ गऐ। बाद में एसडीएम ने आदेश से मुचलका भरवाकर सभी को रिहा कर दिया गया।

Chania