Sunday, March 3rd, 2024 Login Here
मंदसौर संसदीय क्षेत्र से सुधीर गुप्ता को मिला टिकीट सेवा कार्यो में उत्कृष्ट कार्य को लेकर रेडक्रॉस सोसायटी जिला शाखा मंदसौर को मिला अवार्ड बांछड़ा डेरों पर पुलिस की दबिश, भारी मात्रा में अवैध शराब जप्त प्रतिवेदन पेश नहीं करने पर नपा सीएमओं के खिलाफ पांच हजार का जमानती वारंट जारी सूदखोरों से परेशान होकर की आत्महत्या, पिता के मृत्युभोज के लिए लिया था पैसा मंत्री सारंग ने की वन-टू-वन चर्चा, कहा 6 लाख वोट से भाजपा को जिताने का संकल्प ले लोकसभा चुनाव - भाजपा के 155 उम्मीदवारों की सूची आज घोषित होने की संभावना स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 200 से अधिक प्रतिनिधि को राष्ट्रीय अवॉर्ड से सम्मानित किया भैरव घाटी पर सड़क हादसा, एक की दर्दनाक मौत दो कारों की आमने-सामने भिडन्त, कॉन्स्टेबल की मौत मानपुरा में ग्रामीण के घर, बाड़े व स्विफ्ट कार से 63 किलो से अधिक अफीम जब्त सुपर पॉवर बनने की दिशा में तीन सेमीकंडक्टर, 1.26 लाख करोड़ के प्लांट को सरकार की मंजूरी 8 महिने बाद खाटु श्याम बाबा के मंदिर में प्रवेश कर भक्तों ने किए दर्शन 15 मिनिट में एक लाख का साउंड सिस्टम चुराने वाला बदमाश सीसीटीवी से पकडाया प्रधानमंत्री ने किया वर्चुअल भूमिपूजन, मंदसौर में 99.14 करोड़ की लागत से 18 महीने में तैयार होगा औद्योगिक पार्क

नारकोटिक्स अभिरक्षा में सोहेल की मौत पर हुई थी मजिस्ट¬ीयल जांच, न्यायालय के आदेश से दर्ज हुआ प्रकरण
मंदसौर । करीब सवा तीन महिने पहले नारकोटिक्स पुलिस की अभिरक्षा में राजस्थान के हतुनिया थाना क्षेत्र के ग्राम असावता निवासी सोहेल पठान की मौत के मामले में हुई मजिस्ट¬ीयल जांच के बाद न्यायाधीश अनिश कुमार के आदेश से यशोधर्मन नगर पुलिस ने नारकोटिक्स े के उपनिरीक्षक राजमल दायमा, आरक्षक प्रशांत  केथवास , आरक्षक  कमल पटेल, तथा जिला चिकित्सालय के डॉ. बीएस कटारे पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया ।
इस आशय की जानकारी देते हुए यशोधर्मन नगर पुलिस ने बताया कि 2 और 3 अप्रेल की मध्यरात्रि राजस्थान के हतुनिया थाना क्षेत्र के ग्राम असावता के रहने वाले सोहेल पिता हमीद खां पठान उम्र 21 साल की नारकोटिक्स अभिरक्षा में मौत हो गई थी नारकोटिक्स ने इसे तत्समय सामान्य मौत बताकर मामले को दबाने की कोशिश की थी लेकिन परिजनों ने विरोध जताया था और जांच की मांग की थी इसी के चलते मजिस्ट¬ीयल जांच के आदेश शासन ने दिए थे जिसके बाद न्यायाधीश अनिश कुमार मिश्र ने पूरे मामलें की जांच की और आखिरकार सवा तीन महिने बाद जांच के परिणाम सामने आऐ जिसमें पाया गया कि सोहेल की मौत सामान्य नही थी बल्कि नारकोटिक्स की अभिरक्षा में एसआई दायमा और दो आरक्षकों ने उसे पीट-पीट कर मार दिया और जिला चिकित्सालय के डॉक्टर कटारे ने भी तथ्यों को छिपाते हुए नारकोटिक्स के पक्ष में रिपोर्ट तैयार कर दी । इसी के चलते पुलिस ने चारों के विरुध्द हत्या की धारा 302, 201 और 218 में मुकदमा दर्ज कर लिया ।
उल्लेखनीय है कि नारकोटिक्स विंग ने 90 ग्राम ब्राउनशुगर के साथ मृतक सोहेल को पकड़ना बताया था लेकिन उसकी मौत के बाद परिजनों ने आरोप लगाते हुए कहा था कि नारकोटिक्स विंग ने उनसे फोन पर बात करते हुए 50 लाख रू. देकर मामला रफा-दफा करने की बात कहीं थी लेकिन उनके पास पैसो की व्यवस्था नही थी उन्होने अगले दिन शनिवार को मिलने के लिए कहा था लेकिन इससे पहले ही सोहेल की मौत की खबर आ गई । परिजनो ने कहा था कि मृतक सोहेल शुक्रवार को जुम्मे की नमाज पढ़कर दोपहर 2 बजे घर से निकला था लेकिन जब वह वापस घर नही लोटा तो परिजनों ने उसे फोन किया तब पता चला कि उसे मंदसौर नारकोटिक्स विंग ने उठा लिया है । फोन पर सोहेल ने बताया था कि उसकी अधिकारी से बात हुई है उन्होने कहा है 50 लाख रू. दे दो तो छोड़ देंगे । इस पूरे मामलें में उपनिरीक्षक राजमल दायमा पर पैसे मांगने और सोहेल को मारने का आरोप परिजनों ने लगाया था और आरोप सही भी लग रहे थे क्योंकि परिजन सोहेल के शुक्रवार की दोपहर से ही गायब बता रहे थे जबकि नारकोटिक्स उसे शुक्रवार की रात में पकड़ना बता रही थी । यहीं नही उसकी मौत के बाद शरीर पर भी चोंट के निशान साफ दिखाई दे रहे थे । ऐसे में मजिस्ट¬ीयल जांच में सारा सच सामने आ गया और आखिरकार दोषियों पर प्रकरण दर्ज हो गया ।
Chania