Sunday, March 3rd, 2024 Login Here
मंदसौर संसदीय क्षेत्र से सुधीर गुप्ता को मिला टिकीट सेवा कार्यो में उत्कृष्ट कार्य को लेकर रेडक्रॉस सोसायटी जिला शाखा मंदसौर को मिला अवार्ड बांछड़ा डेरों पर पुलिस की दबिश, भारी मात्रा में अवैध शराब जप्त प्रतिवेदन पेश नहीं करने पर नपा सीएमओं के खिलाफ पांच हजार का जमानती वारंट जारी सूदखोरों से परेशान होकर की आत्महत्या, पिता के मृत्युभोज के लिए लिया था पैसा मंत्री सारंग ने की वन-टू-वन चर्चा, कहा 6 लाख वोट से भाजपा को जिताने का संकल्प ले लोकसभा चुनाव - भाजपा के 155 उम्मीदवारों की सूची आज घोषित होने की संभावना स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 200 से अधिक प्रतिनिधि को राष्ट्रीय अवॉर्ड से सम्मानित किया भैरव घाटी पर सड़क हादसा, एक की दर्दनाक मौत दो कारों की आमने-सामने भिडन्त, कॉन्स्टेबल की मौत मानपुरा में ग्रामीण के घर, बाड़े व स्विफ्ट कार से 63 किलो से अधिक अफीम जब्त सुपर पॉवर बनने की दिशा में तीन सेमीकंडक्टर, 1.26 लाख करोड़ के प्लांट को सरकार की मंजूरी 8 महिने बाद खाटु श्याम बाबा के मंदिर में प्रवेश कर भक्तों ने किए दर्शन 15 मिनिट में एक लाख का साउंड सिस्टम चुराने वाला बदमाश सीसीटीवी से पकडाया प्रधानमंत्री ने किया वर्चुअल भूमिपूजन, मंदसौर में 99.14 करोड़ की लागत से 18 महीने में तैयार होगा औद्योगिक पार्क

रतलाम जनसारंगी।
रतलाम के सैलाना के देवरुंडा में पिता और उसके दो बेटों की हत्या के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। पिता की लाठियों से पीटकर हत्या की गई और दोनों बच्चों को जिंदा ही रस्सी से मोटर बांधकर कुएं में फेंक दिया था। हत्याकांड में काका के परिवार और खेत के पड़ोसी ही शामिल थे। पुलिस ने हत्या के इस सनसनीखेज मामले में एक महिला सहित 6 पर एफआईआर दर्ज की है। हत्या की वजह जमीन का विवाद था।
पुलिस के मुताबिक लक्ष्मण भाभर के काका के परिवार का पुंजा उर्फ पूनमचंद, खेत के पड़ोसी रुपली खराड़ी, उसके पुत्र पीरू और दिलीप खराड़ी ,कमलेश एवं फुलजी गामड़ ने मिलकर इस हत्याकांड को अंजाम दिया था। आरोपियों ने लक्ष्मण को पहले लाठियों से पीटकर मार डाला था। हाथ-पैर रस्सी से बांधने के बाद पिता की जान की गुहार लगा रहे दोनों बेटों को भी कुएं में फेंक दिया।आरोपियों का जमीन और खाल के गड्ढे में मोटर डालकर सिंचाई करने को लेकर विवाद चल रहा था। दिवाली पर भी दोनों पक्षों के बीच विवाद हुआ था। इसके बाद रविवार देर रात लक्ष्मण और उसके बेटों विशाल-पुष्कर के शव उन्हीं के कुएं में रस्सी से बंधे हुए मिले थे।
मासूमों पर भी नहीं पसीजा हत्यारों का दिल
लक्ष्मण के परिजनों के अनुसार रविवार सुबह से परिवार खेती के कार्य में लगा था। विशाल (12) और पुष्कर (8) अपने पिता लक्ष्मण के साथ खेत पर आए थे। जमीन के सीमांकन को लेकर खेत के पड़ोसी पीरु और दिलीप खराड़ी से विवाद चल रहा था। इसमें काका के परिवार का पुंजा भी पीरू और दिलीप की मदद कर रहा था। इसकी रंजिश में आरोपियों ने लक्ष्मण के कुएं पर पहुंच कर उसे लाठियों से पीटकर मार डाला। कुएं के पास पड़ी मोटर की रस्सी से हाथ पैर बांध कर दोनों बच्चों के साथ लक्ष्मण को कुएं में फेंक दिया। आरोपियों ने बच्चों पर भी कोई दया नहीं दिखाई। कोई जिंदा न बच जाए इसके लिए आरोपियों ने रस्सी के दूसरे सिरे से बंधी भारी भरकम मोटर को भी कुंए में डाल दिया।
यह था मामला
मृतक के भाई जगदीश ने बताया था कि रविवार की सुबह सभी लोग खेत पर काम कर रहे थे। कुएं से मोटर और रस्सी बाहर निकाल कर रखी थी। वह पास में ही खेत की जुताई कर रहा था। भाई लक्ष्मण और दोनों भतीजे कुएं के पास ही काम कर रहे थे, लेकिन शाम को वह लोग दिखाई नहीं दिए। बाद में उन्हें ढूंढने जाने पर तीनों के शव कुएं में रस्सी से बंधे मिले थे।
--------------------------------------------------

Chania