Sunday, March 3rd, 2024 Login Here
मंदसौर संसदीय क्षेत्र से सुधीर गुप्ता को मिला टिकीट सेवा कार्यो में उत्कृष्ट कार्य को लेकर रेडक्रॉस सोसायटी जिला शाखा मंदसौर को मिला अवार्ड बांछड़ा डेरों पर पुलिस की दबिश, भारी मात्रा में अवैध शराब जप्त प्रतिवेदन पेश नहीं करने पर नपा सीएमओं के खिलाफ पांच हजार का जमानती वारंट जारी सूदखोरों से परेशान होकर की आत्महत्या, पिता के मृत्युभोज के लिए लिया था पैसा मंत्री सारंग ने की वन-टू-वन चर्चा, कहा 6 लाख वोट से भाजपा को जिताने का संकल्प ले लोकसभा चुनाव - भाजपा के 155 उम्मीदवारों की सूची आज घोषित होने की संभावना स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 200 से अधिक प्रतिनिधि को राष्ट्रीय अवॉर्ड से सम्मानित किया भैरव घाटी पर सड़क हादसा, एक की दर्दनाक मौत दो कारों की आमने-सामने भिडन्त, कॉन्स्टेबल की मौत मानपुरा में ग्रामीण के घर, बाड़े व स्विफ्ट कार से 63 किलो से अधिक अफीम जब्त सुपर पॉवर बनने की दिशा में तीन सेमीकंडक्टर, 1.26 लाख करोड़ के प्लांट को सरकार की मंजूरी 8 महिने बाद खाटु श्याम बाबा के मंदिर में प्रवेश कर भक्तों ने किए दर्शन 15 मिनिट में एक लाख का साउंड सिस्टम चुराने वाला बदमाश सीसीटीवी से पकडाया प्रधानमंत्री ने किया वर्चुअल भूमिपूजन, मंदसौर में 99.14 करोड़ की लागत से 18 महीने में तैयार होगा औद्योगिक पार्क

पीढ़ित प्रसुति सहायता और संबल योजना के लाभ हेतु एक साल से काट रहा था चक्कर
मंदसौर जनसारंगी।
जिले में स्वास्थ्य सेवाओं के हाल बेहाल है। आम जनता शिकायत करती है बावजूद इसके अफसर कार्रवाहीं को तैयार नहीं है लेकिन जब मामला प्रदेश के मुखिया तक पहुंचा तो आनन-फानन में बीएमओं को निलंबित कर सीएमएचओं को कारण बताओं सुचना पत्र जारी कर दिया गया।
दरअसल मंदसौर जिले के एक मामले में सीतामऊ तहसील के ग्राम सेमली का रमेशलाल मेघवाल प्रसूति सहायता व संबल योजना का लाभ लेने के लिए एक साल से चक्कर काट रहा था। समाधान आनलाइन में शिकायत के बाद भी अफसर मनचाहे जवाब दे रहे थे। ऐसे में मामला सीएम तक पहुंचा और पूछताछ शुरू हुई तो 15 दिन में खाते में राशि आ गई। सीएम शिवराजसिंह चौहान ने पहले ही कह दिया कि मंगलवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये रमेशलाल से बात करूंगा तो अफसरों की बत्ती जली। संभागायुक्त ने सीतामऊ बीएमओ को निलंबित कर सीएमएचओ को कारण बताओ सूचना पत्र भी जारी कर दिया।  जानकारी के अनुसार सीतातऊ तहसील के ग्राम सेमली निवासी रमेशलाल मेघवाल की पत्नी जस्सूबाई की प्रसूति 13 अक्टूबर 20 को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सुवासरा में हुई थी। शासन की योजनाओं के तहत जननी सुरक्षा योजना के 1400 रुपये व संबल के अंतर्गत प्रसूति सहायता योजना के 12 हजार रुपये जस्सूबाई को मिलना था। पर समय पर राशि नहीं मिली। रमेशलाल ने अस्पताल प्रभारी चिकितसक से लेकर बीएमओ, सीएमएचओ तक को शिकायत की पर उसे मुख्यमंत्री जनकल्याण संबल योजना अंतर्गत प्रसूति सहायता राशि नहीं मिली। तब जाकर इसी वर्ष 5 अप्रैल को समाधान आनलाइन में शिकायत दर्ज कराई तो भी एल वन पर सीतामऊ बीएमओ डा. अरविंद चौहान ने कोई कार्रवाई नहीं की। 24 अप्रैल को शिकायत एल टू सीएमएचओ डा. केएल राठौर के पास पहुंची तो सीएमएचओ ने जवाब दिया कि मामले में बीएमओ द्वारा कार्रवाई की जा रही हैं। कोई कार्रवाई नहीं होने पर 30 अप्रैल को शिकायत उच्च स्तर पर चली गई। इस मामले में एक रोचक तथ्य यह था कि रमेशलाल प्रसूति सहायता राशि नहीं मिलने की शिकायत कर रहा था और बीएमओ डा. जैन जवाब लिख रहे थे कि संबल योजना में भुगतान नहीं होने से निराकरण दर्ज किया जाए पर इससे शिकायतकर्ता संतुष्ट नहीं हुआ। शिकायत 20 सितंबर को जननी सुरक्षा राशि के भुगतान हेतु बजट आवंटन प्राप्त होने पर भुगतान करने जाने का उल्लेख करते हुए फोर्सली बंद कर दी गई। मामला सीएम तक पहुंच गया तो ताबड़तोड़ 15 नवंबर को प्रसूति सहायता के 1400 रुपये महिला के खाते में डाले गए। इसके अलावा 4 दिसंबर को संबल योजना के तहत 11 हजार 600 रुपये भी खाते में डाले गए। कलेक्टर गौतमसिंह ने बताया कि प्रसूति सहायता की राशि समय पर नहीं देने के मामले में लापरवाही बरतने पर सीतामऊ बीएमओ डा. अरविंद चौहान को उज्जैेन संभागायुक्त ने निलंबित कर दिया है। साथ ही सीएमएचओ डा. केएल राठौर को कारण बताओ सूचना पत्र भी जारी किया गया है।
6 दिसम्बर को प्रतिवेदन गया 24 घंटे में आदेश हो गऐ
इधर मुख्यडमंत्री सचिवालय से संदेश आ गया कि मंगलवार 7 दिसंबर को मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान आवेदक रमेशलाल से बात कर राशि मिलने की जानकारी लेंगे। इस पर संभागायुक्त संदीप यादव व कलेक्टरर गौतमसिंह को लगा कि आवेदक से बात करने के बाद सीएम यह जरूर पूछेंगे कि लेतलाली करने वाले अफसरों पर क्या कार्रवाई की गई है। तो इस पर 6 दिसंबर को ही कलेक्टर गौतमसिंह ने एक प्रतिवेदन संभागायुक्तह संदीप यादव को भेजा। जिसमें बीएमओ डा. अरविंद चौहान व सीएमएचओ डा. केएल राठौर द्वारा की गई लापरवाही का उल्लेख किया गया था। इसके चलते सात दिसंबर को सुबह ही संभागायुक्त संदीप यादव ने आदेश जारी कर बीएमओ डा. अरविंद चौहान को निलंबित कर दिया। व सीएमएचओ डा. केएल राठौर को कारण बताओ सूचना पत्र जारी कर दिया। फिर शाम को हुई समाधान आनलाइन में कलेक्टकर ने की गई कार्रवाई की जानकारी भी दे दी। निलंबन अवधि में डा. अरविंद चौहान का मुख्यालय कलेक्टर कार्यालय किया गया है।

Chania