Friday, March 1st, 2024 Login Here
स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 200 से अधिक प्रतिनिधि को राष्ट्रीय अवॉर्ड से सम्मानित किया भैरव घाटी पर सड़क हादसा, एक की दर्दनाक मौत दो कारों की आमने-सामने भिडन्त, कॉन्स्टेबल की मौत मानपुरा में ग्रामीण के घर, बाड़े व स्विफ्ट कार से 63 किलो से अधिक अफीम जब्त सुपर पॉवर बनने की दिशा में तीन सेमीकंडक्टर, 1.26 लाख करोड़ के प्लांट को सरकार की मंजूरी 8 महिने बाद खाटु श्याम बाबा के मंदिर में प्रवेश कर भक्तों ने किए दर्शन 15 मिनिट में एक लाख का साउंड सिस्टम चुराने वाला बदमाश सीसीटीवी से पकडाया प्रधानमंत्री ने किया वर्चुअल भूमिपूजन, मंदसौर में 99.14 करोड़ की लागत से 18 महीने में तैयार होगा औद्योगिक पार्क गुजरात मॉडल से मप्र सरकार रोकेगी चेक पोस्ट पर अवैध वसूली अधिक आवक के चलते मंडी में बढ़ी अव्यवस्था, दिनभर बंद रही नीलामी शाम को शुरु हुई, आधे घंटे बाद फिर बंद, व्यापारी, किसान व हम्मालों का विरोध जारी नीमच से सिंगोली रावतभाटा होते हुए कोटा रेल मार्ग के फाइनल सर्वे की स्वीकृति, 5 करोड़ से अधिक की राशि स्वीकृत 500 जवानों की 45 टीमों ने की अपराधियों की धरपकड़, एक रात में 156 अपराधियों को पकडा मध्यप्रदेश की 29 सीटों पर पैनल तैयार,मंदसौर संसदीय क्षेत्र से देवीलाल धाकड, यशपालसिंह सिसोदिया, मदनलाल राठौर और सुधीर गुप्ता का नाम दुर्घटनाओं की जांच वैज्ञानिक तरीके से करने के निर्देश लेकिन पुरातन परम्परा अभी भी कायम अव्वल होने का दावा करने वाली नपा में सफाई व्यवस्था बदहाल

 *भारत सरकार के कार्मिक लोक शिकायत एवं पेंशन विभाग ने एमपी के मुख्य सचिव को लिखा पत्र
मन्दसौर। राजस्थान भ्रष्टाचार-रोधी ब्यूरो द्वारा आईआरएस अधिकारी शशांक यादव को 16 लाख रुपये के साथ गिरफ्तार करने के बाद मंदसौर से बीजेपी विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया ने सीबीआई जांच की मांग की थी। इसके लिए उन्होंने केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को एक पत्र लिखा था और उसमें पकड़े गए अधिकारी पर मादक पदार्थ अधिनियम एनडीपीएस के तहत भी मामला दर्ज किए जाने की मांग की थी। जिस पर आज भारत सरकार के कार्मिक लोक शिकायत एवं पेंशन विभाग ने मध्यप्रदेश सरकार के मुख्य सचिव को पत्र लिखकर विधायक श्री सिसोदिया की मांग के अनुसार सीबीआई जांच की अनुमति मांगी है। 

मंदसौर के वरिष्ठ विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया भारत सरकार के वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को पत्र में लिखा था कि एंटी करप्शन ब्यूरो ने मध्य प्रदेश की नीमच और उत्तर प्रदेश  की गाजीपुर अफीम अल्कलॉइड फैक्ट्री के जीएम शशांक यादव को  पकड़ा । एसीबी को प्राथमिक जांच में पता चला था कि अफीम की गुणवत्ता टेस्टिंग में मार्फिन की जायदा मात्रा प्रमाणित किए जाने के एवज में शंशाक यादव और उनके लोगों द्वारा 40 हजार किसानों से 3.2 अरब रुपये वसूले जाने थे, जबकि 6 हजार किसानों से 35 करोड़ रूपये वसूले जा चुके थे.

 विधायक श्री सिसोदिया ने वित्त मंत्री से तीन मांग करते हुए लिखा था कि मामले की सीबीआई से जांच कराई जाए, दूसरी मांग जब तक जांच चलती है तब तक इन्हें ना सिर्फ निलंबित  किया जाए बल्कि यहां से हटाकर कहीं और अटैच किया जाए और तीसरी मांग यह है कि चूंकि अफीम की गुणवत्ता में हेराफेरी करने की एवज में रिश्वत दी गई, इसलिए इनके खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज किया जाए।
 विधायक सिसोदिया की मांग पर भारत सरकार के कार्मिक लोक शिकायत एवं पेंशन विभाग ने प्रक्रिया को शुरू करते हुए मध्य प्रदेश सरकार के मुख्य सचिव को पत्र भेजा और विधायक श्री सिसोदिया की मांग के अनुसार सीबीआई जांच कराए जाने की सहमति मांगी है।
Chania