Monday, February 26th, 2024 Login Here
गरीब के जीवन से कष्टों को मिटाना प्रदेश सरकार का लक्ष्य-डॉ यादव चिकित्सक पर हुई कार्रवाहीं का डाक्टरों व सिंधी समाज ने किया विरोध किरायेदारों से अनजान पुलिस, मकान मालिक भी लापरवाह नवनिर्वाचित राज्यसभा सांसद बंशीलाल जी गुर्जर का मंदसोर शहर में होगा भव्य स्वागत ट्रक में लहसुन के नीचे छुपाकर रख 1031 किलो डोडाचूरा जब्त, ड्राइवर गिरफ्तार मुख्‍यमंत्री डॉ.मोहन यादव आज नीमच में 752 करोड से अधिक के कार्यो का लोकार्पण एवं भूमिपूजन करेंगे 36 घंटे में पुलिस ने किया अन्तरॉज्जीय लूटेरों को गिरफ्तार मदिरा दुकानों के नवीनीकरण आवेदन 22 फरवरी तक करें पांच साल के इंतजार के बाद आज से मंदसौर में प्रारंभ होगा पासपोर्ट कार्यालय मध्यप्रदेश से राज्यसभा के पांचों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित; 4 सीट बीजेपी, एक कांग्रेस के खाते में 133 किमी लंबे मार्ग में 14 किमी लंबा दूसरा रेलवे ट्रैक तैयार साँप भगाने के लिए टैंक में पेट्रोल डाला, तीली जलाते ही धमाका हुआ, दम्पत्ति झुलसे नदियॉ को छलनी करने का खेल चल रहा,माफियाओं पर नही लग पा रही नकेल सिंगिग स्टार बनने के चक्कर मे लोग हो रहे शिकार संसद रत्न पुरस्कार से सम्मानित होने वाले सांसदों को राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने बधाई दी


राजगढ़ में मंगलवार को बोरवेल में गिरी 4 साल की बच्ची माही को रात करीब सवा तीन बजे बाहर निकाला, लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका। बच्ची बेहोश मिली थी। उसे सीधे पचोर अस्पताल ले जाया गया, जहां से हमीदिया अस्पताल भोपाल रेफर कर दिया गया। हमीदिया अस्पताल में बुधवार सुबह सात बजे माही ने दम तोड़ दिया।

मासूम 150 फीट गहरे बोरवेल में 17 फीट की गहराई पर फंसी थी। हादसा बोड़ा थाना क्षेत्र के पिपलिया रसोड़ा गांव में मंगलवार शाम 5.40 बजे हुआ था। भोपाल से पहुंची SDERF और एनडीआरएफ की टीम ने उसे रेस्क्यू किया।

नाना-नानी के साथ से छूटकर भागी माही शाम 5:40 बजे बोरवेल में गिर गई थी। नाना-नानी ने बच्ची से बात की, फिर उन्होंने गांव के लोगों को बुलाया। सूचना के बाद शाम करीब 6 बजे बोड़ा पुलिस थाने की टीम ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर मौके पर पहुंची। रेस्क्यू टीम ने बोरवेल के समानांतर गड्ढा खोदा। इसके बाद प्रशासन ने 5 फीट की सुरंग बनाई।
बच्ची पटाड़िया गांव की रहने वाली है, जो पिता रवि
के साथ मामा इंदर सिंह के घर आई थी। यहां खेत में
खेलते-खेलते वह बोरवेल में गिर गई। सूचना मिलते ही
एसडीएम अंशुमन राज सहित प्रशासनिक अमला और पुलिस मौके पर पहुंच गए थे। कलेक्टर हर्ष दीक्षित और
एसपी धर्मराज मीणा भी मौके पर थे। आस-पास के
गांवों के लोग भी पहुंच गए थे

4 साल की माही खेलते-खेलते बोर में गिर गई थी। उसे देर रात करीब सवा तीन बजे बाहर निकाला गया।
बच्ची के हर मूवमेंट पर कैमरे से नजर बोरवेल में कैमरा डालकर बच्ची के हर मूवमेंट पर नजर रखी जा रही थी। उस तक लगातार ऑक्सीजन पहुंचाई जा रही थी। रेस्क्यू टीम ने बताया कि बोर के अंदर से उसके रोने की आवाज रुक-रुककर आ रही थी।
रात 1 बजे तक रेस्क्यू टीम ने पैरेलल 22 फीट गहरा गड्डा खोद लिया गया था। इसके बाद 5 फीट लंबी सुरंग बनाने का काम शुरू किया था।
000
सीएम ने ली जिला प्रशासन से जानकारी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घटना को लेकर कलेक्टर से बात की थी। उन्होंने रेस्क्यू कार्य को लेकर निर्देश भी दिए थे। एसपी धर्मराज मीणा ने बताया कि बच्ची के हाथों का मूवमेंट नजर आ रहा था।
Chania