Monday, February 26th, 2024 Login Here
गरीब के जीवन से कष्टों को मिटाना प्रदेश सरकार का लक्ष्य-डॉ यादव चिकित्सक पर हुई कार्रवाहीं का डाक्टरों व सिंधी समाज ने किया विरोध किरायेदारों से अनजान पुलिस, मकान मालिक भी लापरवाह नवनिर्वाचित राज्यसभा सांसद बंशीलाल जी गुर्जर का मंदसोर शहर में होगा भव्य स्वागत ट्रक में लहसुन के नीचे छुपाकर रख 1031 किलो डोडाचूरा जब्त, ड्राइवर गिरफ्तार मुख्‍यमंत्री डॉ.मोहन यादव आज नीमच में 752 करोड से अधिक के कार्यो का लोकार्पण एवं भूमिपूजन करेंगे 36 घंटे में पुलिस ने किया अन्तरॉज्जीय लूटेरों को गिरफ्तार मदिरा दुकानों के नवीनीकरण आवेदन 22 फरवरी तक करें पांच साल के इंतजार के बाद आज से मंदसौर में प्रारंभ होगा पासपोर्ट कार्यालय मध्यप्रदेश से राज्यसभा के पांचों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित; 4 सीट बीजेपी, एक कांग्रेस के खाते में 133 किमी लंबे मार्ग में 14 किमी लंबा दूसरा रेलवे ट्रैक तैयार साँप भगाने के लिए टैंक में पेट्रोल डाला, तीली जलाते ही धमाका हुआ, दम्पत्ति झुलसे नदियॉ को छलनी करने का खेल चल रहा,माफियाओं पर नही लग पा रही नकेल सिंगिग स्टार बनने के चक्कर मे लोग हो रहे शिकार संसद रत्न पुरस्कार से सम्मानित होने वाले सांसदों को राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने बधाई दी

पुलिस कप्तान ने किया पुरे मामलें का खुलासा, लापरवाह पुलिसकर्मियों पर क्या होगी कार्यवाही ...?
मंदसौर निप्र। सराफा व्यापारी अनिल सोनी हत्याकाण्ड मामलें में पुलिस कप्तान विवेक अग्रवाल ने गुरूवार को स्थानीय कंट­ोल रूम पर मिडिया से चर्चा करते हुए अनिल सोनी हत्याकाण्ड का खुलासा किया, इस घटना में पुलिस मुख्य आरोपी चुन्नु को अब तक नही पकड़ पाई है हालाकि पुलिस ने रेकी करने वाले तथा चुन्नु के फायरिंग करने वाले दिन घटना में साथ देने वाले अरशद सहित चार आरोपियों को गिरफ्त में लिया है, हालाकि अरशद को लेकर चर्चा यह चल रही थी कि आरोपी अरशद ने खुद ही पुलिस के समक्ष सरेण्डर किया है । उल्लेखनीय है कि बदमाशों ने 10 अप्रेल को गोली मारकर अनिल सोनी की हत्या कर दी थी । इस हत्याकाण्ड मामले में पुलिस की बड़ी लापरवाही उजागर हुई है, पुलिस सक्रियता से कार्य करती तो शायद यह हत्याकाण्ड होने से रूक जाता, कहने का तात्पर्य यह है कि मुख्य आरोपी इमरान उर्फ चुन्नु एक फेक आईडी से मृतक अनिल सोनी को धमकाने का कार्य कर रहा था,घटना वाले दिन भी इसी आईडी से लगभग 5 घंटे पूर्व अनिल सोनी को जानसे मारने की धमकी मिली थी, जिसकी शिकायत भी अनिल सोनी के द्वारा शहर कोतवाली पर की गई थी, बावजुद इसके पुलिस सक्रिय नही हुई और तकरीबन 9 बजे के आसपास बदमाशों ने घटना को अंजाम दे दिया । मिडिया ने लापरवाही को लेकर पुलिस कप्तान से सवाल किए जिनके जवाब देने से कप्तान बचते हुए दिखाई दिए । जब उनसे पुछा गया कि लापरवाह पुलिसकर्मियों पर भी कार्यवाही होगी लेकिन वह इसका भी स्पष्ट जवाब न देते हुए जांच की बात कहने लगे ।
पुलिस अधिकारी भी जुड़े थे आईडी से
मृतक अनिल सोनी को शिखा बजाज के नाम से फेसबुक आईडी बनाकर धमकी देने का कार्य किया जा रहा था जिसकी शिकायत भी हुई थी, बड़ी बात यह है कि इस फेसबुक आईडी से पुलिस के अधिकारी भी जुड़े हुए थे तथा समय-समय पर वह लाईक तथा कमेन्ट्स करने का कार्य भी करते थे...?
आरोपी पुलकित चलाता था इस आईडी को
पुलिस कप्तान विवेक अग्रवाल ने प्रेसवार्ता के दौरान बताया कि जिस फेक आईडी से मृतक अनिल को धमकी देने का कार्य किया जा रहा था वह शिखा बजाज नामक आईडी पुलकित शर्मा के द्वारा बनाई गई थी तथा वह ही इसे ऑपरेट भी कर रहा था, समय-समय पर आरोपी चुन्नु इस आईडी को चलाता था ।
सोश्यल मिडिया पर वार बना कारण
पुलिस कप्तान ने बताया कि आरोपी इमरान उर्फ चुन्नु तथा अनिल सोनी के बीच पूर्व से विवाद चला आ रहा था, मुम्बई में हुए घटनाक्रम के बाद चुन्नु को बिचोलिए की भूमिका अदा करना थी, वह इस कार्य में जुटा हुआ था इसी बीच सोश्यल मिडिया पर अनिल सोनी की गतिविधियां तेज हो गई । फिलहाल गिरफ्त में आएें बदमाशों से यहीं जानकारी मिली है कि हत्याकाण्ड के पीछे एक कारण यह भी था । फिलहाल पुलिस मामलें की जांच में जुटी हुई है मुख्य आरोपी चुन्नु के गिरफ्त में आने के बाद ही स्थिति और ज्यादा स्पष्ट हो पाएगी ।
शातिर ढंग से की वारदात
पुलिस कप्तान ने बताया कि बदमाशों ने अनिल सोनी को घटना से पूर्व दो बार मारने का प्रयास किया था लेकिन वह विफल रहे थे, घटना वाले दिन भी पुलकित शर्मा तथा सुनील मालवीय एवं सद्दाम शाह के द्वारा रैकी की गई थी,  उसके पश्चात आरोपी अरशद के पीछे बाईक पर बैठकर आरोपी चुन्नु घटना स्थल पर पहुंचा था और बाद में चुन्नु ने अनिल सोनी पर फायरिंग कर दी, कप्तान ने बताया कि घटना को अंजाम देने के बाद सुनील मालवीय कार लेकर पहले से ही एक स्थान पर तैयार खड़ा था, आरोपी चुन्नु उस कार में बैठकर फरार हो गया । पुलिस कप्तान ने बताया कि बदमाश इतने शातिर थे कि उन्होने टेक्नोलॉजी का उपयोग न के बराबर किया व पहले से ही टेक्नोलॉजी को लेकर सतर्क थे ताकि पुलिस उन तक नही पहुंच पाएेंलेकिन पुलिस की स्पेशल सायबर टीम ने बदमाशों की सतर्कता को भी धाराशाही करते हुए जानकारियों को जुटाया और बदमाशों तक पुलिस पहुंची ।
कई स्थानों पर की सर्चिंग
घटना के बाद पुलिस ने राजस्थान के अखेपुर, देवलजी सहित महाराष्ट­,गुजरात, दिल्ली, जिसमें लोनावला, हिम्मत नगर, गांधी नगर आदि कई क्षेत्रों में बदमाशों की धरपकड़ के लिए सर्चिंग की है । पुलिस लगातार धरपकड़ के प्रयास करती रही । मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी के लिए भी प्रयास किए जा रहे है ।
वाहन उपलब्ध कराने वाला भी बनेगा आरोपी
पुलिस कप्तान ने बताया कि राजस्थान के प्रतापगढ़ क्षेत्र में रहकर बदमाशों को समय-समय पर वाहन उपलब्ध कराने का कार्य एक ऑटो डील संचालक द्वारा किया जाता है ऐसी भी जानकारी मिली है पुलिस के द्वारा उक्त संचालक को भी आरोपी बनाया जाएगा ।
अकबर के नाम मिली कार
पुलिस कप्तान ने बताया कि जिस लग्झरी कार को पुलिस ने जप्त किया है उक्त महाराष्ट­ पासिंग कार मुम्बई निवासी अकबर के नाम पर दर्ज होना पाई गई है, अकबर चुन्नु का रिश्तेदार बताया जाता है ।
2 लाख में तय हुआ था अरशद
पुलिस कप्तान ने बताया कि अरशद को घटना में साथ देने के लिए 2 लाख रू. में तय किया गया था, उसे 50 हजार रू. दिए जा चुके थे, उक्त राशि में से पुलिस ने 30 हजार रू. जप्त किए है।
आरोपी पुलकित रखता था हिसाब-किताब
पुलिस कप्तान ने बताया कि पुलकित शर्मा आरोपी चुन्नु के टेक्निकल कार्य करने का कार्य विशेष रूप से करता था जिसमें रूपये का ट­ांजेक्शन करना, अन्य हिसाब-किताब रखने सहित अन्य कार्यो को भी वह चुन्नु के  कहने पर किया करता था ।
ये आऐ गिरफ्त में
पुलिस कप्तान ने बताया कि घटनाक्रम में संलिप्त बदमाश अरशद पिता सिद्दिक खान पठान उम्र 22 साल निवासी बुलगड़ी थाना वायडी नगर, सद्दाम पिता शहजाद शाह उम्र 25 वर्ष निवासी लेबर कॉलोनी मंदसौर, सुनील पिता मोहनलाल मालवीय उम्र 27 साल निवासी बोतलगंज प्रतापगढ हाल मुकाम संजीत नाका मंदसौर, पुलकित पिता विशाद शर्मा उम्र 23 साल निवासी लालघाटी को गिरफ्तार किया है, इनके कब्जे से एक यामाहा मोटर सायकल, सफेद रंग की फोर्ड फिगो कार तथा एक मोबाईल फोन जप्त किया है ।
13 तक रिमाण्ड पर
गिरफ्तारी के बाद गुरूवार को चारो आरोपियों को लेकर पुलिस न्यायालय के समक्ष पहुंची, बताया जाता है कि पुलिस का वाहन खराब होने के कारण पुलिस सभी आरोपियों को पैदल लेकर न्यायालय पहुंची थी, पुलिस ने आरोपियो ंके खिलाफ धारा 302, 120 बी एवं 34 आईपीसी के तहत प्रकरण पंजीबध्द किया है । न्यायालय के समक्ष आरोपियों को प्रस्तुत करने पर न्यायालय से 13 तारीख तक का पुलिस रिमाण्ड आरोपियों का मिला है । उक्त जानकारी कोतवाली टीआई नरेन्द्रसिंह यादव ने दी । 
Chania