Saturday, May 8th, 2021 Login Here
भोईवाडा की घटना के बाद मंदसौर में पुलिस का फ्लेग मार्च जावरा विधायक से पंगा और मंदसौर के हिस्सें की आॅक्सीजन रोकना भरी पड़ा कलेक्टर को, विधायक सिसोदिया की सीएम के समक्ष कड़ी आपत्ति के बाद विवाह की खुशी में भूल गए लाॅकडाउन के आदेश/ शादि में मेंहमान बन कर पहुंच गऐ एसडीएम और टीआई बीस दिन लाॅकडाउन के बाद भी कोरोना काबू नहीं हुआ तो अब सीएम के निर्देश के बाद मंदसौर में भी शुरु हुआ सख्ती वाला लॉक डाउन कोरोना के तांडव की हकीकत बयां करती मंदसौर के शमशान की सच्चाई ! कोरोना से जंग में भारतीय जैन संघठना ने नृत्य नाटिका के माध्यम से दिया सकारात्मकता का सन्देश रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित,

    कांग्रेस के कर्नाटक प्रभारी केसी वेणुगोपाल ने कहा- सरकार बचाने और भाजपा को रोकने के लिए हमारे विधायकों ने मंत्री पद छोड़े
    कुमारस्वामी सरकार में मंत्री और निर्दलीय विधायक ने सोमवार को सरकार से समर्थन वापस लिया
    पिछले दिनों कांग्रेस-जेडीएस के 13 विधायकों ने सदस्यता से इस्तीफा दिया था, स्पीकर इस पर मंगलवार को फैसला लेंगे

बेंगलुरु. कर्नाटक में राजनीतिक उठापटक के बीच सोमवार को कांग्रेस और जेडीएस के सभी मंत्रियों ने सोमवार को कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया। इसके अलावा निर्दलीय आर. शंकर ने भी मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया है। जल्द ही कैबिनेट का पुनर्गठन किया जाएगा। मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने कहा कि यह मामला सुलझ गया है। सरकार को कोई खतरा नहीं है। सरकार आसानी से चलेगी।
इससे पहले निर्दलीय विधायक एच नागेश ने भी मंत्री पद से इस्तीफा देते हुए समर्थन वापस ले लिया। उन्होंने राज्यपाल को लिखे पत्र में कहा है कि अगर भाजपा सरकार बनती है तो मैं उनके साथ रहूंगा। दूसरी ओर, मंत्री जमीर अहमद खान ने कहा, ‘जितने भी विधायक भाजपा कैम्प में गए, उनमें से 6-7 आज शाम तक वापस लौट आएंगे।’ कांग्रेस और जेडीएस के 13 विधायक अपनी विधानसभा सदस्यता से इस्तीफा दे चुके हैं।
कांग्रेस के सामने सरकार बचाने की चुनौती
अब जेडीएस नेता और मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के अलावा कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धारमैया के सामने सरकार बचाने की चुनौती है। राज्य में सरकार बनाने और बचाने के लिए भाजपा और जेडीएस में बैठकों का दौर जारी है। सोमवार को उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वरा ने अपने आवास पर कांग्रेस के विधायक और मंत्रियों को नाश्ते पर बुलाया। इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया, मंत्री डीके शिवकुमार, यूटी खादर, शिवशंकरा रेड्डी, वेंकटरमनप्पा, जयमाला, एमबी पाटिल, केबी गौड़ा, राजशेखर पाटिल मौजूद रहे।
सरकार बचाने के लिए कुमारस्वामी इस्तीफा दे सकते हैं
13 महीने पुरानी गठबंधन सरकार को लेकर होटल ताज वेस्ट एंड में रविवार शाम को भी बैठक हुई थी। इसमें एचडी देवेगौड़ा, कुमारस्वामी और जी परमेश्वर के अलावा कांग्रेस नेता भी मौजूद थे। बैठक से पहले कुमारस्वामी के मंत्री जीटी देवेगौड़ा ने कहा था कि अगर समन्वय समिति सिद्धारमैया को सीएम बनाती है तो हमें आपत्ति नहीं है। माना जा रहा है कि गठबंधन सरकार बचाने के लिए कुमारस्वामी इस्तीफा दे सकते हैं और कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे नए मुख्यमंत्री बन सकते हैं। न्यूज एजेंसी ने कांग्रेस सूत्रों के हवाले से बताया था कि जेडीएस के राष्ट्रीय अध्यक्ष एचडी देवगौड़ा ने यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी को यह सुझाव दिया है कि गठबंधन सरकार बचाने के लिए मल्लिकार्जुन खड़गे को मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है।
कांग्रेस के 10 और जेडीएस के 3 विधायकों ने दिया इस्तीफा
उमेश कामतल्ली, बीसी पाटिल, रमेश जारकिहोली, शिवाराम हेब्बर, एच विश्वनाथ, गोपालैया, बी बस्वराज, नारायण गौड़ा, मुनिरत्ना, एसटी सोमाशेखरा, प्रताप गौड़ा पाटिल, मुनिरत्ना और आनंद सिंह इस्तीफा सौंप चुके हैं।
13 विधायकों के इस्तीफे के बाद क्या होगी स्थिति?
शनिवार को कांग्रेस-जेडीएस के 13 विधायकों ने स्पीकर को इस्तीफा दे दिया था। स्पीकर ने कहा था कि इस्तीफों पर मंगलवार को फैसला लेंगे। अगर 13 विधायकों के इस्तीफे स्वीकार होते हैं तो विधानसभा में कुल 211 सदस्य रह जाएंगे। विधानसभा अध्यक्ष को छोड़कर ये संख्या 210 रह जाएगी। ऐसे में बहुमत के लिए 106 विधायकों की जरूरत होगी। ऐसे में कुमारस्वामी सरकार अल्पमत में आ जाएगी।
Chania