Friday, May 7th, 2021 Login Here
रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित, चार महिने में नहीं बन पाया सवा दो सौ मीटर का नाला दूकान का शटर बंद लेकिन अंदर मिले ग्राहक हर दिन आॅक्सीजन आने का दावा लेकिन खत्म नहीं हो रहीं मारा-मारी *रजिस्ट्री की गाइड लाइन 30 जून तक यथावत* MP में 1 मई से शुरू नहीं होगा वैक्सीनेशन पार्ट-3:2.5 लाख डोज की पहली खेप 3 मई तक मिली तो 18+ लोगों को 5 मई से लगेगा टीका, 19 हजार लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन सोमली नदी को पार कर मंदसौर की तरफ आगे बढा चंबल का पानी

मंदसौर जनसारंगी।
कृषि कानून के विरोध में मंगलवार को किसान संगठनों के संयुक्त मोर्चा द्वारा भारत बंद के आह्वान के तहत मंगलवार के दिन बाजार बंद रखने का आह्वान किया गया था।  बंद  मंदसौर में पूरी तरह से बेअसर था लेकिन अंचल में कुछ जगह आंशिक  असर  देखने को मिला।  आर्थिक गतिविधियां रोजमर्रा की तरह जारी रही। मल्हारगढ़, नारायणगढ़, नाहरगढ़,बुढ़ा, भानपुरा, गांधी सागर सहित कुछ जगहों पर लोगों ने स्वेच्छा से ही दुकानें बंद रखी। बंद का आव्ह्ान करने वाला किसान संयुक्त मोर्चा कहीं दिखाई नहीं दिया लेकिन जगह-जगह कांग्रेस ने पुतला दहन और ज्ञापन सौपे।  बंद  के आव्ह्ान के मद्देनजर  कलेक्टर मनोज पुष्प और एसपी सिध्दार्थ चौधरी ने जिले में भ्रमण कर हर स्थिति पर नजर बनाए रखी। इसके अलावा अतिरिक्त बल भी एहतियातन मंदसौर में मौजूद रहा।
किसान संगठनों के आव्हान पर आज भारत बंद का मंदसौर में बिल्कुल भी असर नहीं दिखा, जिले में अधिकांश जगहों पर बाजार खुले थे लेकिन कुछ जगहों पर आंशिक असर था। मंदसौर में व्यापारिक स्थल कालीदास मार्ग, सदर बाजार, कालाखेत, सम्राट मार्ग सहित अन्य क्षेत्रों में  दूकाने सुबह देरी से खुली, लेकिन जैसे ही बाजार खुलना शुरू हुआ सारी दुकानें खुल गई थी जिसके कारण किसी को भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा है। बंद के आह्वानकर्ता किसान संयुक्त मोर्चा के सदस्यों की टोली मंदसौर ही नहीं बल्कि जिले में भी कहीं दिखाई नहीं दी। जिले में ऐसा लग ही नहीं रहा था कि किसी ने बंद का आह्वान किया था ऐेसे में  किराना की दुकानें सुबह से ही खुल गई थी। मिठाइयों की दुकान भी खुली रही। आम जनता को सब्जियों की खरीदी के लिए भटकना नहीं पड़ा। कपड़ा व्यवसाय भी चालू रहा। इलेक्टि­क एवं इलेक्ट­ॉनिक्स सामान भी आम जनता को खरीदने को मिले। होटलें व रेस्टोरेंट भी प्रतिदिन की तरह मंगलवार के दिन भी खुले रहे हैं। सोने चांदी की दुकानें भी पूरे दिन खुली रही है। पान और सिगरेट के लिए भी आम जनता को परेशान नहीं होना पड़ा है। बसों का संचालन भी जारी रहा है। पेट­ोल पंप भी चालू रहे हैं। प्रतिदिन की तरह मंगलवार को भी वाहनों में डीजल और पेट­ोल भरा गया। दूध डेयरी पर दूध व दही खरीदने को मिला है। मेडिकल की दुकानें भी प्रतिदिन की तरह मंगलवार को भी चालू रही है। यही स्थिति जिले के दलोदा, सुवासरा, सीतामऊ और शामगढ़ में भी देखने को मिली है।
हालांकि पूरे दिन  शहर में कोई भी किसान संगठन बंद के आह्वान को लेकर नहीं आया लेकिन बंद के आह्वान को समर्थन देने वाली कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने विरोध स्वरूप कुछ स्थानों पर पुतले दहन कर प्रदर्शन किया और कांग्रेस संगठन के द्वारा ही राष्ट­पति के नाम संबोधित ज्ञापन प्रशासनिक अधिकारियों को सौपे हैं। ज्ञापन में नए कृषि कानून में शामिल किए गए तीनों अध्यादेश को वापस लेने की मांग की गई है।उधर सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुलिस प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद रहा। गांधी चौराहा बीपीएल चौराहा से श्री कोल्ड चौराहा, संजीत नाका सहित प्रमुख स्थानों पर पुलिस बल तैनात था।  
अंचल भी कई जगहों पर खुला रहा
मंदसौर शहर के  अलावा अंचल के दलोदा, सीतामऊ, सुवासरा, शामगढ़ के बाजार पूरी तरह खुले रहे हैं।लेकिन मल्हारगढ़, बूढ़ा, नाहरगढ़ और  नारायणगढ़ मे देखने को मिला है। मल्हारगढ़ में तो कांग्रेस जनों द्वारा पुतला भी दहन किया गया। शामगढ़ में भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा विरोध स्वरूप प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला फूंका गया। इसके पश्चात प्रशासनिक प्रतिनिधि को राष्ट­पति के नाम संबोधित ज्ञापन सौंपा। नाहरगढ़ में भी दुकाने बंद रही है। यहां पर कांग्रेस ने राष्ट­पति के नाम ज्ञापन सौंपा है। जिले के अन्य स्थानों की तर्ज पर मंदसौर नगर में भी विरोध स्वरूप किसान मोर्चा को समर्थन देने वाली कांग्रेस पार्टी के किसान संगठन द्वारा गांधी चौराहा पर नारेबाजी कर राष्ट­पति के नाम संबोधित ज्ञापन सौंपा गया है। बंद के आह्वान के बावजूद में जहां बाजार खुले रहे हैं, वही कृषि उपज मंडियां भी चालू रही है लेकिन मंडियों में किसान अपनी उपज लेकर ही नहीं पहुंचे हैं। बंद के आह्वान के कारण प्रशासन पूरी तरह चौकस बना रहा है।
मंडी चालु परन्तु पसरा रहा सन्नाटा
बंद के आव्हान के बीच मंदसौर कृषि उपज मंडी, सब्जी मंडी और फूल मंडी मैं रोज की तरह कामकाज जारी रहा। कृषि मंडी में पूरी तरह से सन्नाटा पसरा रहा।  सब्जी विक्रेताओं के अनुसार सब्जी मंडी में भी रोज की तरह आवक हुई है। पुरानी सब्जी मंडी के बाहर सब्जी विक्रेता रोज की तरह बैठे हैं। भारत बंद का समर्थन जिले के कई किसान संगठन कर रहे थे।आज बंद के दौरान सुबह 11 बजे तक कोई भी किसान संगठन के पदाधिकारी बंद क्या वन को लेकर शहर में नहीं आए । कई स्थानों पर लोगों ने स्वेच्छा से बंद रखा है।
कलेक्टर-एसपी ने किया दौरा
कलेक्टर  मनोज पुष्प एवं पुलिस अधीक्षक सिध्दार्थ चौधरी ने संयुक्त रूप से भारत बंद के दौरान मल्हारगढ़, पिपलियामंडी, नारायणगण, दलौदा एवं मंदसौर शहर का औचक निरिक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने शहर का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने शहर की अंदर बंद को लेकर क्या स्थिति है इसका अवलोकन भी किया।
सभी जगह शांति रहीं
पिपलियामंडी, नारायणगढ और दलौदा सहित ग्रामीण क्षेत्रों का भ्रमण किया है। सभी जगहों पर शांति व्यवस्था बहाल रहीं।
मनोज पुष्प, कलेक्टर
पर्याप्त पुलिस बल तैनात रहा
सुबह ही ऐहतियातन फोर्स लगा दिया था। अतिरिक्त बल भी आया हुआ है। सुबह से ही निरीक्षण किया  कहीं किसी प्रकार की कोई अप्रिय स्थिति नहीं बनी,आम दिनों की तरह सामान्य कामकाज जारी है।
सिध्दार्थ चौधरी, कलेक्टर


पुतला दहन के साथ सौंपे ज्ञापन
कांग्रेस ने कई जगहों पर ज्ञापन सौंपा और पुतला दहन किया। मंदसौर में गांधी चौराहा पर कांग्रेस ने ज्ञापन सौंपा।  कांग्रेस पदाधिकारियों ने कहा कि  किसानों के हितों के संरक्षण के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य की व्यवस्था को निरंतर जारी रखने का कोई प्रावधान कानून मे नहीं किया गया है। इस कारण किसान की स्थिति ओर दयनीय हो जाने वाली है। किसान से जिस मूल्य में उपज क्रय की जाती है उससे कई गुना अधिक मूल्य उपभोक्त तक पहुंचते पहुंचते हो जाता है। बिचौलिए इसमें लाभ उठाते हैं। इस पर नियंत्रण के लिए जो शक्ति थी ये आवश्यक वस्तु की परिभाषा से कृषि उपजों को हटा देने के कारण समाप्त हो गई है। कृषक को अपनी उपज कृषि उपज मंडी में बेचने से अनेक कानून संरक्षण औरबिचौलियों पर अंकुश है, किंतु नए कानून के अनुसार मंडी व्यवस्था पंगु हो जाने वाली है। इसका कांग्रेस विरोध करती है। इसके अलावा मल्हारगढ़ और शामगढ़ में पुतला दहन कर ज्ञापन सौंपा गया। मल्हारगढ़ में पुतले को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ता और पुलिस के बीच मामूली झड़प भी हुई। इसके अलावा गरोठ, पिपलियामंडी सहित अन्य जगहों पर भी ज्ञापन सौंपे गए।
नारायणगढ़ में किसानों के आव्हान पर बंद रहे बाजार
नारायणगढ़ प्रतिनिधी के अनुसार किसान आंदोलन के समर्थन में हुए बंद के आव्हान का यहां व्यापक असर देखने को मिला।बंद को लेकर सोमवार शाम को ही नगर में ध्वनि विस्तारक यंत्र के माध्यम से मुनादी करवा दी गई थी।जिस कारण मंगलवार सुबह से ही नगर के प्रमुख चौराहे,बस स्टैंड,सदर बाजार आदि सुनसान रहे।सुबह से ही सभी व्यापारीयो द्वारा आंदोलन के समर्थन हेतु अपने अपने प्रतिष्ठान बंद रखे।थाना प्रभारी अवनीश श्रीवास्तव बंद के दौरान नगर में मुस्तेद दिखे।टीआई द्वारा सुबह से ही नगर में घूमकर सुरक्षा व्यवस्था पर नजर रखी।दोपहर 1 बजे कांग्रेस कार्यकर्ताओ ने बस स्टैंड पर केंद्र की भाजपा सरकार द्वारा लाए किसान बिल के विरोध में नारेबाजी करी।इसके पश्चात कांग्रेस कार्यकर्ताओ द्वारा नायब तहसीलदार अर्जुनसिंह भदौरिया व पटवारी सुरेश श्रीवास्तव को ज्ञापन सौंपा गया।ज्ञापन का वाचन नगर कांग्रेस अध्यक्ष बाबू खां मेवाती ने किया।इस अवसर पर ब्लाक कांग्रेस उपाध्यक्ष अजित कुमार कुमठ,रामचंद्र करुण,सुनील दिवाणीया आदि ने सम्बोधित किया।गया।ज्ञापन देने वालो में पूर्व पार्षद दिलीप यादव,मोतीलाल पाटीदार,नरेंद्र डाका,प्रवीण चन्दावत,कैलाश बंगारिया,सुंदरलाल परिहार,पवन पाटीदार,शिवलाल रूपरा,अफसर मंसूरी,कृष्ण गोपाल मूंदड़ा,सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे।ज्ञापन के दौरान थाने के सहायक उपनिरीक्षक महेश शर्मा आरक्षक देवेंद्रसिंह,श्रवण सिंह,घनश्याम नागदा आदि ने सुरक्षा व्यवस्था संभाली।


Chania