Saturday, May 8th, 2021 Login Here
भोईवाडा की घटना के बाद मंदसौर में पुलिस का फ्लेग मार्च जावरा विधायक से पंगा और मंदसौर के हिस्सें की आॅक्सीजन रोकना भरी पड़ा कलेक्टर को, विधायक सिसोदिया की सीएम के समक्ष कड़ी आपत्ति के बाद विवाह की खुशी में भूल गए लाॅकडाउन के आदेश/ शादि में मेंहमान बन कर पहुंच गऐ एसडीएम और टीआई बीस दिन लाॅकडाउन के बाद भी कोरोना काबू नहीं हुआ तो अब सीएम के निर्देश के बाद मंदसौर में भी शुरु हुआ सख्ती वाला लॉक डाउन कोरोना के तांडव की हकीकत बयां करती मंदसौर के शमशान की सच्चाई ! कोरोना से जंग में भारतीय जैन संघठना ने नृत्य नाटिका के माध्यम से दिया सकारात्मकता का सन्देश रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित,

भाजपा से रमादेवी बंशीलाल गुर्जर,नम्रता रिप्पी चावला, मावर, दशौरा,बंधवार और कांग्रेस  से संपत महेन्द्र गुर्जर,रंजनापाटील, राठौर, सोनी, मेव  का नाम चर्चा में  
मंदसौर जनसारंगी।
नगरीय निकाय के करीब पहुंच रहीं मंदसौर नगर पालिका में करीब ढाई दशक बाद पिछड़ा वर्ग महिला अध्यक्ष के रूप में काबिज होगी। बुधवार को भोपाल में प्रदेश भर के नगरीय निकाय अध्यक्ष पद का आरक्षण हुआ जिसमें मंदसौर नगर पालिका अध्यक्ष का पद गोटी में पिछड़ा वर्ग महिला के नाम खुला। इसके साथ ही मंदसौर के राजनीतिक गलियारों में सियासी हलचल तेज हो गई है। पिछड़ा वर्ग के दावेदारों के नाम भी सामने आने लगे है।भाजपा की और से सबसे प्रमुख दावेदार के रूप में  कृषि उपज मंडी की अध्यक्ष रहींश्रीमती रमादेवी बंशीलाल गुर्जर , नम्रता प्रितेश (रिप्पी) चावला,  स्वास्थ्य सभापति विघा पुखराज दशौरा और पूर्व नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार की पत्नि श्रीमती कौशल्या बंधवार, किरण पारस मावर का नाम सामने आया है वहीं कांग्रेस से संपत महेन्द्र गुर्जर, नपापार्षद रंजना सुदीप पाटील, पूर्व पार्षद सीमा संजय राठौर और पिंकी कमलेश सोनी लाला का नाम चर्चा में आया है। हालांकि भाजपा की और से जिला पंचायत अध्यक्ष प्रियंका गौस्वामी का नाम भी चर्चा में आया है लेकिन श्रीमती गौस्वामी ने खुद ही चुनाव लडने से इंकार कर दिया वहीं कांग्रेस में जिलाध्यक्ष नवकृष्ण पाटील की धर्मपत्नि अनुराधा पाटील का नाम भी चर्चा में है लेकिन श्री पाटील वर्तमान में कांग्रेस के जिलाध्यक्ष है लेकिन इससे पहले विधायक ओर नपाध्यक्ष का चुनाव पराजित हो चूके है। वैसे चर्चा में पाटील ने भी उनके परिवार की दावेदारी  से इंकार किया है।
सन 1995 के बाद यानी पूरे ढाई दशक के बाद मंदसौर नपाध्यक्ष के पद पर  पिछडा वर्ग की महिला काबिज होगी। 1995 में भी अनारक्षित महिलासीट थी लेकिन भाजपा ने पिछडा वर्ग की रेणुका रामावत को उम्मीदवार बनाया था, यह चुनाव पार्षदों द्वारा मतदान से अध्यक्ष पद निर्वाचित होने की प्रकिृया से हुआ था जिसमें रामावत विजय हुई थी। लेकिन अब 2020 में जनता सीधे नपाध्यक्ष का निर्वाचन करेगी। ऐसे  में आरक्षण होते ही भाजपा और कांग्रेस दोनो प्रमुख दलों से पिछडा वर्ग के नेता नपाध्यक्ष के पद पर अपनी दावेदारी करने लगे हैं। भाजपा खेमें से सबसे प्रमुख नाम के रूप में कृषि उपज मंडी की अध्यक्ष रहींरमा देवी गुर्जर, नम्रता प्रितेश(रिप्पी) चावला के नाम उभरकर आया हैं। हालांकि पूर्व मंत्री कैलाश चावला सामान्य वर्ग से है लेकिन उनकी पुत्रवधु पिछड़ा वर्ग से प्रतिनिधित्व करती है। ऐसे में राजनीतिक गलियारों में  पहला नाम रमा देवी गुर्जर और श्रीमती चावला का नाम भी प्रमुखता के साथ सामने आया है। रमा देवी गुर्जर मंदसौर जनपद की अध्यक्ष, उपाध्यक्ष होने  के साथ ही मंडी की अध्यक्ष भी रहीं है। उनके पति बंशीलाल गुर्जर भी जिलाध्यक्ष से लेकर मंडी अध्यक्ष, प्रदेश किसान मोर्चा अध्यक्ष,प्रदेश भाजपा महामंत्री पद पर रहे है । इसके अलावा नम्रता गौस्वामी (चावला)के ससुर प्रदेश सरकार में मंत्री,नपाध्यक्ष और भाजपा जिलाध्यक्ष, प्रदेश उपाध्यक्ष रहे। पति रिप्पी चावला दो बार रेडक्रास सोसायटी के चेयरनमेन रहे।
यदि मंदसौर भाजपा की अंदरूनी गुटबाजी आड़े नहीं आई तो भोपाल और दिल्ली के गलियारों से गुर्जर या चावला की दावेदारी पक्की हो सकती है। इसके  अलावा नगर पालिका स्वास्थ्य सभापति विघा पुखराज दशौरा का नाम भी दावेदार के रूप में सामने आया हैं। दशौरा ने नपा सभापति रहते हुए स्वच्छता के क्षेत्र में उल्लेखनिय काम कर शहर में अपनी पहचान बनाई है। पूर्व नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार की पत्नि कौशल्या बंधवार, किरण पारस मावर के अलावा शारदा श्रवण रजवानिया, रेखा राजेश सोनी एरावाला का नाम भी दावेदार के रूप मेंचल रहा है। श्रीमती मावर भाजपा महिला मोर्चे से लेकर भाजपा में जिले की उपाध्यक्ष और जिला पंचायत की सदस्य भी रहीं है।वहीं कांग्रेस में पार्षद रंजना सुदीप पाटील, पूर्व पार्षद सीमा संजय राठौर और पिंकी कमलेश सोनी लाला का नाम भी सामने आया है।इसके अलावा संपत महेन्द्र गुर्जर,निर्मला देवेन्द्र योगी का नाम भी सामने आया है। हालांकि रंजना पाटील वर्तमान में पार्षद है वहीं सीमा राठौर ने भी अपनी पार्षदीय कार्यकाल में शहर में पहचान कायम की है । हालांकि  संपत गुर्जर के पति महेन्द्र सिंह गुर्जर दो बार विधानसभा का चुनाव पराजित हो चूके है। फातिमा ईसमाई मेव,लक्ष्मी अशोक रेकवार, रेखा शैलेन्द्र बघेरवाल और हंसा राजेश बंधवार का नाम भी दावेदार के बतौर सामने आया है।
हालांकि अनुशासन वाली पार्टी भाजपा में उम्मीदवार चुनने की प्रकिृया वार्ड से शुरू होकर उज्जैन, भोपाल और दिल्ली के गलियारों तक पहुॅचेगी वहीं से नाम तय होकर मंदसौर पहुंचेगा। भाजपा के टिकीट वितरण में भाजपा की मातृ संस्था राष्ट­ीय स्वयं सेवक संघ की भी अहम् भूमिका होती है ऐसे में संघ की राय भी महत्वपूर्ण मानी जाऐगी।वहीं कांग्रेस में भी मंदसौर से मंथन होगा और भोपाल, दिल्ली के गलियारों से नाम तय होकर मंदसौर तक पहुंचेगा। ऐसे में भाजपा और कांग्रेस दोनो ही दलों के उम्मीदवार आरक्षण होते ही टिकीट की दौड में मंदसौर से भोपाल, दिल्ली तक की दौड़ लगाने के लिए तैयारी कर रहे है। भाजपा और कांग्रेस के आला नेताओं की माने तो टिकीट का आधार सक्रियता, निष्ठा, जनता के बीच पैठ और काम करने की क्षमता के आधार पर उम्मीदवार का चयन किया जाऐगा।
कांग्रेस लगाऐगी ताकत, भाजपा में संघ का सर्वे महत्वपूर्ण
साल 1978 के बाद से नपा मेंकांग्रेस अपना निर्वाचित अध्यक्ष नहीं दे पाई है। आखरी बार मम्मू खां मेव कांग्रेस से निर्वाचित अध्यक्ष थे इसके बाद से नपा पर लगातार भाजपा का ही कब्जा रहा है लेकिन साल 2019 में निर्वाचित नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार की हत्या के बाद कांग्रेस से हनिफ शेख मनोनित अध्यक्ष रहे लेकिन निर्वाचन में वे भी पराजित हो गऐ और राम कोटवानी अध्यक्ष पद पर निर्वाचित हो गए। ऐसे में अब कांग्रेस नपा की कुर्सी पर काबिज होने के लिए पूरी कोशिश कर रहीं है। इसके लिए पार्षद पदों का आरक्षण होने के बाद कांग्रेस ने तैयारी भी शुरू कर दी है। पार्षद का चुनाव लढने वालों से आवेदन मंगवाकर उस पर मंथन भी शुरू कर दिया है। वहीं भाजपा में अभी खुलकर तैयारी नहीं हुई है लेकिन संघ का सर्वे हो चूका है इसी आधार पर पार्टी अपने उम्मीद्वार तय करेगी।
भाजपा के संभावित चेहरे
रमा देवी बंशीलाल गुर्जर,नम्रता रिप्पी (गौस्वामी)चावला,प्रियंका गौस्वामी, विघा पुखराज दशौरा, किरण पारस मावर,कौशल्या स्व. प्रहलाद बंधवार,शारदा श्रवण रजवानिया,रेखा राजेश एरावाला।
कांग्रेस से संभावित चेहरे
रंजना सुदीप पाटील, सीमा संजय राठौर, पिंकी कमलेश सोनी लाला, संपत महेन्द्र गुर्जर, निर्मला देवेन्द्र योगी, फातिमा इस्माईल मेव, लक्ष्मी अशोक रेकवार, रेखा शैलेन्द्र बघेरवाल।
भाजपा के प्रमुख उम्मीदवारों की सक्रियता
 रमा देवी गुर्जर पांच साल जनपद पंचायत मंदसौर की अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, कृषि उपज मंडी मंदसौर की अध्यक्ष रहीं। पति बंशीलाल गुर्जर भाजपा जिलाध्यक्ष,प्रदेश किसान मोर्चा अध्यक्ष, प्रदेश भाजपा महामंत्री और कृषि उपज मंडी के अध्यक्ष रहे।
नम्रता रिप्पी गौस्वामी(चावला)
नम्रता गौस्वामी स्वयं राजनीति में सक्रिय नहीं है लेकिन ससुर कैलाश चावला संसदीय क्षेत्र में भाजपा के कद्दावर नेता है। 1980 से 85 तक सीतामऊ से विधाय रहे। 85-87 तक मंदसौर नपाध्यक्ष फिर 1990-92 तक मंदसौर विधायक रहते प्रदेश के गृह एवं उघोग मंत्री बनें। 1994 में पुनः मंदसौर से विधायक निर्वाचित हुए। 2003 और 2008 में मनासा से विधायक निर्वाचित होकर प्रदेश सरकार में मंत्री बने। साथ ही भाजपा जिलाध्यक्ष, महामंत्री, प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष रहते उज्जैन संभाग प्रभारी भी बने। पति रिप्पी चावला दो बार रेडक्रास सोसायटी के  चेयरमेन रहे।
कांग्रेस के प्रमुख उम्मीदवारों की सक्रियता
संपत महेन्द्र गुर्जर
पूर्व सांसद मीनाक्षी नटराजन के नजदीकि महेन्द्रसिंह गुर्जर की पत्नि संपत गुर्जर स्वयं राजनीति मेंसक्रिय नहीं है लेकिन महेन्द्रसिंह गुर्जर मंदसौर विधानसभा से दो बार विधायक का चुनाव लडे और पराजित हुए। वर्तमान में जिला कांग्रेस उपाध्यक्ष है।
पिंकी कमलेश सोनी लाला
पिंकी सोनी भी राजनीति में सक्रिय नहीं है लेकिन पति कमलेश सोनी लाला शहर ब्लाक कांग्रेस में महामंत्री, प्रदेश कांग्रेस आईटी सौशल मीडिया सेल प्रदेश महासचिव है इससे पहले लोकसभा अध्यक्ष ,आईटी सौशल मीडिया सेल, प्रदेश सचिव भी रहे है।
कब कौन रहा अध्यक्ष
1995 से 2000-  रेणुका रामावत (अनारक्षित महिला)
 2000 से 2005- यशपालसिंह सिसोदिया (अनारक्षित)
2005 से 2010- प्रहलाद बंधवार (ओबीसी पुरूष)
2010 से 2015- कुसुम गुप्ता (अनारक्षित महिला)
2015 में     - प्रहलाद बंधवार (अनारक्षित )
2019- अध्यक्ष पद रिक्त सीट होने पर मो. हनीफ शेख
2020 में फरवरी माह में हुए उपचुनाव में राम कोटवारी अध्यक्ष निर्वाचित


जीतने वाला दावेदार उम्मीदवार होगा
सर्वे और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की रायशुमारी के आधार पर भाजपा का उम्मीदवार तय होगा। अच्छा और जीत की संभावना वाले व्यक्ति को पार्टी अपना उम्मीदवार बनाऐगी। आज आरक्षण हुआ है, नपा चुनाव की आचार संहिता लगने के बाद पार्टी उम्मीदवार के नाम पर मंथन करेगी।
नानालाल अटोलिया, जिलाध्यक्ष भाजपा
मंथन कर तय करेगें उम्मीदवार
जीतने वाले उम्मीदवार को पार्टी टिकीट देगी, इसके लिए प्रदेश कांग्रेस से पर्यवेक्षक नियुक्त होगें और सात सदस्यी कमेटी का गठन होगा। यह कमेटी उम्मीदवारों के नाम पर मंथन करेगी। पार्षद के लिए नाम जिलास्तर से तय होगें और अध्यक्ष के लिए आवश्यक हुआ तो पैनल बनाकर भोपाल प्रदेश कांग्रेस को भेजेगे वहीं से अंतिम रूप से निर्णय होगा। चुनाव कब होगें यह तय होने के बाद कांग्रेस अपनी टिकीट चयन की प्रकिृया को प्रारम्भ करेगी।
नवकृष्ण पाटील
जिलाध्यक्ष कांग्रेस

जिले के निकाय में आरक्षण की स्थिति

नगर परिषद मल्हारगढ-     अन्य पिछडा वर्ग
नगर परिषद नारायणगढ़-     अनारक्षित(महिला)
नगर परिषद पिपलियामंडी- अन्य पिछडा वर्ग (महिला)
नगर परिषद नगरी-     अनारक्षित (महिला)
नगर परिषद सीतामऊ    - अनारक्षित (मुक्त)
नगर परिषद सुवासरा-     अनुसूचित जाति (महिला)
नगर परिषद शामगढ़-     अनारक्षित (महिला)
नगर परिषद गरोठ-     अनारक्षित (मुक्त)
नगर परिषद भानपुरा-    अनारक्षित (मुक्त)
नगर परिषद भैसोदा -    अन्य पिछडा वर्ग (महिला)

15 जनवरी को होगा मतदाता सूची का प्रकाशन
नपा चुनाव से पहले निर्वाचक नामावली का विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम 2021 का प्रारूप प्रकाशन 25 नवम्बर 2020 को किया जा चुका है। इसके तहत एक जनवरी 2021 की अर्हता तिथि के अनुसार मतदाता सूची में पंजीयन से शेष रहे मतदाताओं के नाम जोड़ने की कार्यवाही की जा रही है। कार्यक्रम अनुसार दावे-आपत्तियां दर्ज करने की अवधि 25 नवम्बर से 24 दिसम्बर 2020 (गुरूवार)  तथा दावे-आपत्तियों का निराकरण 7 जनवरी 2021 (गुरूवार) तक किया जायेगा। साथ ही आयोग के निर्देशानुसार निर्वाचक नामावली का अंतिम प्रकाशन 15 जनवरी 2021 (शुकवार) को किया जायेगा।
Chania