Saturday, May 8th, 2021 Login Here
भोईवाडा की घटना के बाद मंदसौर में पुलिस का फ्लेग मार्च जावरा विधायक से पंगा और मंदसौर के हिस्सें की आॅक्सीजन रोकना भरी पड़ा कलेक्टर को, विधायक सिसोदिया की सीएम के समक्ष कड़ी आपत्ति के बाद विवाह की खुशी में भूल गए लाॅकडाउन के आदेश/ शादि में मेंहमान बन कर पहुंच गऐ एसडीएम और टीआई बीस दिन लाॅकडाउन के बाद भी कोरोना काबू नहीं हुआ तो अब सीएम के निर्देश के बाद मंदसौर में भी शुरु हुआ सख्ती वाला लॉक डाउन कोरोना के तांडव की हकीकत बयां करती मंदसौर के शमशान की सच्चाई ! कोरोना से जंग में भारतीय जैन संघठना ने नृत्य नाटिका के माध्यम से दिया सकारात्मकता का सन्देश रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर रतलाम के एडवोकेट सुरेश डागर की मृत्यु का मामला गरमाया इंदौर के एडवोकेट ने हाईकोर्ट के आदेश की अवमानना पर जबलपुर उच्च न्यायालय में की याचिका दायर बेटा चाहता था ऐश का जीवन जीने के लिए जमीन बेचना, माॅ ने मना किया तो कर दी हत्या कोविड की मार ने तोड़ी आम लोगों की कमर, बिगाडा मध्यवर्गीय परिवार का बजट योग बना रहा निरोग, कोरोना से जीती जंग आपदा में गायब धरती के भगवान! एक दर्जन डाक्टरों को नोटिस अग्रवाल समाज द्वारा सवा लाख महामृत्युंजय जाप एवं नवचंडी अनुष्ठान हुआ आरंभ अग्रवाल समाज सोमवार से सवा लाख महामृत्युंजय जप एवं नवचंडी अनुष्ठान का आयोजन करेगा लापरवाहीं- कोरोना लेकर बाजार में घूम रहे संक्रमित,
नई दिल्ली। कानून मंत्रालय की सुस्ती या जानबूझकर की गई देरी की वजह से आगामी लोकसभा चुनाव में राजनीतिक दलों को बड़ी राहत मिल गई है। चुनाव आयोग चाहकर भी मतदान के दिन अखबारों में विज्ञापन देने से राजनीतिक दलों को नहीं रोक सकेगा। मतदान के दिन चुनावी विज्ञापनों पर रोक लगाने संबंधी चुनाव आयोग का प्रस्ताव कानून मंत्रालय के पास लंबित पड़ा है।
मतदान के दिन अखबारों में चुनावी विज्ञापनों पर रोक के लिए जन प्रतिनिधित्व कानून में बदलाव की जरूरत है। यह अब इस लोकसभा में संभव नहीं है, क्योंकि उसका कार्यकाल तीन जून को खत्म हो जाएगा। अब अप्रैल-मई में आम चुनाव बाद गठित होने वाली 17वीं लोकसभा में ही इस पर कुछ फैसला होगा।
एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने बताया कि बजट सत्र की अवधि कम होने और आम सहमति के अभाव में कानून मंत्रालय ने जनप्रतिनिधित्व कानून में संशोधन संबंधी प्रस्ताव कैबिनेट के सामने पेश ही नहीं किया। मीडिया में मतदान से 48 घंटे पहले चुनाव प्रचार और मतदान के दिन अखबारों में चुनावी विज्ञापनों पर रोक के लिए एक समिति को कानून में बदलाव का मसौदा तैयार किया गया था।
समिति ने प्रिंट मीडिया को भी जन प्रतिनिधित्व कानून 1951 की धारा 126 के तहत लाने की सिफारिश की है। इस सिफारिश के लागू होने पर मतदान के दिन अखबारों में राजनीतिक दलों के विज्ञापनों पर रोक लग जाएगी। अभी सिर्फ इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में चुनाव के 48 घंटे पहले चुनाव प्रचार पर रोक है।
चुनाव आयोग ने 2016 में सरकार से चुनाव संबंधी कानून में संशोधन कर इलेक्ट्रानिक मीडिया की तरह ही प्रिंट मीडिया में भी चुनाव की तारीख से 48 घंटे पहले राजनीतिक विज्ञापनों पर रोक लगाने की मांग की थी। 2015 में बिहार विधानसभा चुनाव में चुनाव आयोग ने मामला दर मामला मतदान के दिन समाचार पत्रों में राजनीतिक विज्ञापनों पर रोक लगा दिया था।

Chania