Monday, February 26th, 2024 Login Here
गरीब के जीवन से कष्टों को मिटाना प्रदेश सरकार का लक्ष्य-डॉ यादव चिकित्सक पर हुई कार्रवाहीं का डाक्टरों व सिंधी समाज ने किया विरोध किरायेदारों से अनजान पुलिस, मकान मालिक भी लापरवाह नवनिर्वाचित राज्यसभा सांसद बंशीलाल जी गुर्जर का मंदसोर शहर में होगा भव्य स्वागत ट्रक में लहसुन के नीचे छुपाकर रख 1031 किलो डोडाचूरा जब्त, ड्राइवर गिरफ्तार मुख्‍यमंत्री डॉ.मोहन यादव आज नीमच में 752 करोड से अधिक के कार्यो का लोकार्पण एवं भूमिपूजन करेंगे 36 घंटे में पुलिस ने किया अन्तरॉज्जीय लूटेरों को गिरफ्तार मदिरा दुकानों के नवीनीकरण आवेदन 22 फरवरी तक करें पांच साल के इंतजार के बाद आज से मंदसौर में प्रारंभ होगा पासपोर्ट कार्यालय मध्यप्रदेश से राज्यसभा के पांचों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित; 4 सीट बीजेपी, एक कांग्रेस के खाते में 133 किमी लंबे मार्ग में 14 किमी लंबा दूसरा रेलवे ट्रैक तैयार साँप भगाने के लिए टैंक में पेट्रोल डाला, तीली जलाते ही धमाका हुआ, दम्पत्ति झुलसे नदियॉ को छलनी करने का खेल चल रहा,माफियाओं पर नही लग पा रही नकेल सिंगिग स्टार बनने के चक्कर मे लोग हो रहे शिकार संसद रत्न पुरस्कार से सम्मानित होने वाले सांसदों को राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने बधाई दी

 कई पड़े हैं बंद, कई लोग जाकर छूते है, फैल सकता है संक्रमण
मंदसौर जनसारंगी ।
 अधिकांश लोगों के रुपये निकालने का जरिया एटीएम ही है। दिनभर में हजारों लोग जिलेभर के 124 एटीएम बूथ पर पहुंचते हैं और जिले में लगभग सात करोड़ रुपये की निकासी प्रतिदिन हो रही है। लॉकडाउन के दौरान इन एटीएम बूथों पर लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाने के कोई उपाय नहीं किए जा रहे हैं। अधिकांश एटीएम पर सैनिटाइजर ही नहीं है। यहां अलग-अलग जगहों से लोग रुपये निकालने पहुंच रहे हैं। इसके अलावा मशीन में भरे रुपयों की सुरक्षा के लिए गार्ड भी कई जगह नहीं है। कुछ एटीएम पर रुपये नहीं है तो कुछ एटीएम तकनीकी समस्या के कारण काम नहीं कर रहे हैं।
जिला मुख्यालय के साथ ही तहसील मुख्यालयों पर कई जगहों पर एटीएम मशीनें बंद ही है। इनमें सबसे बड़ी बैंक माने जाने वाली भारतीय स्टेट बैंक के भी कुछ एटीएम तकनीकी खराबी के कारण बंद हैं तो कुछ एटीएम खराब हो गए है। इस कारण लोग भी परेशान होकर इधर से उधर भटक रहे हैं। बैंकों में कोरोना के कारण लोग बैंक जाने से कतरा रहे हैं। ऐसे में रुपये निकालने का एकमात्र जरिया एटीएम ही है पर वहा कोरोना के संक्रमण से बचाने के लिए कोई उपाय ही नहीं है। कोरोना वायरस से बचने के लिए शारीरिक दूरी का पालन करना तथा सैनिटाइज से हाथ धोना बेहद जरूरी है। अधिकांश एटीएम पर सैनिटाइजर ही नहीं हैं, जबकि बैंक अधिकारी प्रत्येक एटीएम बूथ पर सैनिटाइजर रखा होना बता रहे हैं।
कई वर्ग के लोग पहुंच रहे एटीएम
दिन भर में कई लोग एटीएम का उपयोग कर रहे हैं। दिहाडियों, कामगारों व नौकरीपेशा लोग रुपये निकालने एटीएम पर ही पहुंच रहे हैं। सरकार भी दिहाड़ी, कामगारों और गरीब मजदूरों के खाते में राहत राशि भेज रही है तो उसे निकालने के  कई लोग एटीएम पर ही आ रहे हैं। ऐसे में एटीएम पर कोरोना से बचने के लिए कोई सुरक्षा इंतजाम नहीं है। इस तरह से एटीएम के माध्यम से भी कोरोना विस्फोट होने से इंकार नहंी किया जा सकता।
बंद पड़े कई एटीएएम
जिले में भारतीय स्टैंड बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, यूको बैंक, यूनियन बैंक, इंडियन बैंक, देना बैंक, सेंट­ल बैंक ऑॅफ इंडिया, बैंक ऑॅफ बड़ौदा सहित निजी बैंकों के कुल 124 एटीएम बूथ हैं। इनमें मंदसौर शहर में कुल 38 एटीएम हैं। हालात यह है कि आधे से ज्यादा बूथ पर मशीनें बंद ही है। जिलेभर की एटीएम पर प्रतिदिन छह करोड़ 94 लाख रुपये निकाले जाते हैं। अभी कई एटीएम मशीन तकनीकी खराबी के चलते काम नहीं कर रही हैं। कुछ एटीएम बंद भी है। इसकी वजह से लोगों को परेशानी हो रही है।
सुरक्षा के अभाव में हो चुकी है घटनाएं
एटीएम बूथो पर सुरक्षा के अभाव है। कई जगहों पर गार्ड नहीं है और अधिकांश जगहों पर दरवाजे ही जवाब दे गए है। ऐसे में कई अपराधिक घटनाएं  भी हो चुकी है। वर्ष 2015 में सीतामऊ रोड क्षेत्रमें डिगांव में यहां एटीएम को ही उखाडकर बदमाश ले गए थे। इसके बाद एटीएम को लेकर वारदात का सिलसिला थमा नहीं। दो माह पहले ही स्टेट हाईवे के फोरलेन पर स्थित एटीएम को बदमाशों ने तोडने का प्रयास किया। घटना सीसीटीवी फूटेज में आए भी सही, लेकिन अब तक इस मामले में कोई हाथ नहीं आया। इस मामले में पुलिस बदमाशों को ढूंढ भी नहीं पाई थी की जिले में ही दलोदा में बैंक ऑॅफ बड़ोदा के एटीएम को तोडकर रुपए चोरी का प्रयास बदमाशों ने किया। एटीएम पर होती घटनाओं के बावजूद इनकी सुरक्षा को लेकर बैंक से लेकर पुलिस ने गंभीरता नहीं दिखाई है।

Chania