Friday, March 1st, 2024 Login Here
स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 200 से अधिक प्रतिनिधि को राष्ट्रीय अवॉर्ड से सम्मानित किया भैरव घाटी पर सड़क हादसा, एक की दर्दनाक मौत दो कारों की आमने-सामने भिडन्त, कॉन्स्टेबल की मौत मानपुरा में ग्रामीण के घर, बाड़े व स्विफ्ट कार से 63 किलो से अधिक अफीम जब्त सुपर पॉवर बनने की दिशा में तीन सेमीकंडक्टर, 1.26 लाख करोड़ के प्लांट को सरकार की मंजूरी 8 महिने बाद खाटु श्याम बाबा के मंदिर में प्रवेश कर भक्तों ने किए दर्शन 15 मिनिट में एक लाख का साउंड सिस्टम चुराने वाला बदमाश सीसीटीवी से पकडाया प्रधानमंत्री ने किया वर्चुअल भूमिपूजन, मंदसौर में 99.14 करोड़ की लागत से 18 महीने में तैयार होगा औद्योगिक पार्क गुजरात मॉडल से मप्र सरकार रोकेगी चेक पोस्ट पर अवैध वसूली अधिक आवक के चलते मंडी में बढ़ी अव्यवस्था, दिनभर बंद रही नीलामी शाम को शुरु हुई, आधे घंटे बाद फिर बंद, व्यापारी, किसान व हम्मालों का विरोध जारी नीमच से सिंगोली रावतभाटा होते हुए कोटा रेल मार्ग के फाइनल सर्वे की स्वीकृति, 5 करोड़ से अधिक की राशि स्वीकृत 500 जवानों की 45 टीमों ने की अपराधियों की धरपकड़, एक रात में 156 अपराधियों को पकडा मध्यप्रदेश की 29 सीटों पर पैनल तैयार,मंदसौर संसदीय क्षेत्र से देवीलाल धाकड, यशपालसिंह सिसोदिया, मदनलाल राठौर और सुधीर गुप्ता का नाम दुर्घटनाओं की जांच वैज्ञानिक तरीके से करने के निर्देश लेकिन पुरातन परम्परा अभी भी कायम अव्वल होने का दावा करने वाली नपा में सफाई व्यवस्था बदहाल

कई लोगों ने घरों में किया विसर्जन, नगर पालिका ने की विशेष व्यवस्थाएं
मंदसौर 10 दिवसीय गणेश उत्सव का मंगलवार को गणपति भगवान की प्रतिमाओं के विसर्जन के साथ ही समापन हुआ इस बार ना ढोल नगाड़े बजे और ना ही गणपति बप्पा मोरिया के जयघोष सुनाई दिए अधिकांश लोगों ने पूरे विधि विधान के साथ अपने घर पर ही प्रतिमाओं का विसर्जन किया प्रतिमा विसर्जन के लिए नगर पालिका ने भी विशेष व्यवस्थाएं की हुई थी। करीब 20 जगहों पर विशेष स्टॉल लगाकर प्रतिमा एकत्र की गई और उन्हें विसर्जन किया गया।

प्रतिवर्ष अनंत चतुर्दशी के पर्व पर सुबह से ही गणपति बप्पा मोरिया अगले बरस तू जल्दी आ के जय घोष लगने लगते हैं युवाओं और बच्चों की टोलियां ढोल धमाकों के साथ प्रतिमा विसर्जन के लिए निकलती है गुलाल होती है लेकिन इस बार को रोना संकट के कारण ऐसा कुछ भी नहीं हुआ पूरे दिन बाजार में पूरी तरह से सन्नाटा पसरा रहा श्रद्धालुओं ने विधि विधान के साथ अपने घरों में ही मिट्टी की प्रतिमाओं को विसर्जित किया और मिट्टी को गमले में स्थापित कर दी ताकि वर्षभर भगवान का आशीर्वाद पौधे की उन्नति के रूप में उन्हें मिलता रहे इसके अलावा पीओपी की प्रतिमाओं को विसर्जन करने के लिए नगर पालिका द्वारा घंटाघर बस स्टैंड रेलवे स्टेशन रोड अफीम गोदाम सहित शहर में 20 जगहों पर विशेष कैंप लगाए गए थे जहां पर प्रतिमाओं को एकत्रित किया गया और उन्हें विधि पूर्वक जल में विसर्जित किया गया। कोरोना संकट के कारण इस बार सारे त्यौहार की रंगत फीकी हो गई है उसमें 10 दिवसीय गणेश उत्सव की शामिल हो गया पूरे 10 दिनों तक कहीं भी गणपति देव की भक्ति की आवाज नहीं सुनाई दी और ना ही कोई पांडाल सजे अनंत चतुर्दशी के दिन भी पूरी रात मंदसौर में झिलमिलाती झांकियों का रतजगा होता है लेकिन इस बार झांकियां भी नहीं निकल पाई।ऐसा छप्पन साल में पहली बार हुआ कि झांकिया नहीं निकली। बताया जाता है कि अत्यधिक वर्षा के कारण पहली बार 1975 में दूसरी बार 2011 में तथा तीसरी बार 2018 में अनंत चतुर्दशी का चल समारोह दूसरे दिन निकाला गया था। कभी दूसरे दिन भी अधिक वर्षा होने पर चल समारोह प्रारंभ कर झांकियां अपने निर्धारित स्थान पर खड़ी रहीं। मूर्ति विसर्जन हमेशा परंपरा अनुसार किया जा रहा है। चल समारोह के स्वागत के लिए 100 से अधिक संस्थाएं जलपान व स्वल्पाहार की व्यवस्था करती हैं।

Chania